न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भ्रष्टाचार पर नकेल : चिरेका में सप्ताह भर में तीन कर्मियों को जीएम ने किया सस्पेंड

महाप्रबंधक की इस कार्रवाई से गदगद हुए नगरवासी, दबी जुबान से कर रहे जीएम की प्रशंसा  

977

Chitranjan : पश्चिम बंगाल में रेलवे के निजीकरण के विरोध मे चल रहे कर्मियों के घमासान के बीच चिरेका जीएम पीके मिश्रा ने एक सप्ताह के भीतर एक पदोन्नत अधिकारी समेत तीन कर्मियो को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है.

mi banner add

इससे पूर्व भी कई अधिकारियों और कर्मियो का निलंबन और स्थानांतरण किया जा चुका है लेकिन इस बार का निलंबन काफी त्वरित और गंभीरता को लेकर चर्चा मे है.

इसे भी पढ़ें : बंद माइका कारखाने में बनती थी नकली शराब, माइका की ही बोरियों में भर भेजते थे यूपी-बिहार

खुद जीएम ने देखी थी एक ही काउंटर पर लंबी कतार

बताया जा रहा है कि हाल ही मे चिरेका कस्तूरबा गांधी अस्पताल मे सीसीटीवी कैमरा इंस्टॉलेशन के दौरान जीएम ने खुद ही अस्पताल के ओपीडी मे दवा वितरण के दौरान लोगों की लंबी कतार एक ही काउंटर पर ज्यादा देखी. मामले की जानकारी लेने के बाद फार्मासिस्ट इरशाद अहमद को निलम्बित किया गया.

जबकि जीएम द्वारा कर्मियों के पोस्ट सरेंडर से संबंधित फाइल गुम होने की बात पर सहायक कार्मिक अधिकारी, प्रशासन, बिष्णु प्रसाद नायक और कार्यालय अधीक्षक सुभाष दास को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया है.

इसे भी पढ़ें : गिरिडीह : सुरक्षा प्रभारी की तलाश सातवें दिन भी जारी, NDRF ने कहा- चानक में है जहरीली गैस

दबी जुबान से जीएम की सराहना कर रहे लोग

जीएम की इस कार्रवाई की लोग दबे जुबान से सराहना कर रहे है. लोग इस कार्रवाई को भ्रष्टाचार पर नकेल कसने का एक कदम भी मान रहे है.

चिरेका पीआरओ मंतार सिंह ने बताया कि अनुशासनहीनता के आरोप मे इन्हें सस्पेंड किया गया है. इनमें बिष्णु प्रसाद नायक अर्से से चर्चा मे रहे हैं. बताया जा रहा है कि वेलफेयर इंस्पेक्टर रहते नायक, रेलवे स्कूलों मे बाहरी छात्रों के एडमिशन और अनुकंपा पर नियुक्ति आदि को लेकर हुई धांधली को लेकर चर्चा मे रहे है.

इसके अलावा वेलफेयर इंस्पेक्टर से चीफ वेलफेयर इंस्पेक्टर और उसके बाद अब एपीओ, हेडक्वार्टर, बने नायक को बेस्ट एमंग फेल्योर के तहत एपीओ बना दिया गया. निलंबन के बाद ये कर्मी अधिकारियों और नेताओं के चक्कर लगाते देखे जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : आरोपः शिक्षिका को गाड़ी भेजकर घर बुलाते हैं बीएड कॉलेज के निदेशक, नहीं आने पर रोक दिया वेतन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: