National

सीएम ऑफिस के सामने आत्मदाह के प्रयास मामले में अमेठी में तीन पुलिसकर्मी निलंबित

Amethi / Lucknow (UP): अमेठी की रहने वाली एक महिला और उसकी बेटी द्वारा लखनऊ में सीएम ऑफिस के सामने आत्मदाह की कोशिश करने के मामले में कार्रवाई हुई है. अमेठी में जामो थाने के प्रभारी निरीक्षक सहित तीन पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है. भूमि विवाद के मामले में पुलिस की ओर से कथित तौर पर कार्रवाई नहीं किए जाने के विरोध में शुक्रवार को साफिया और उसकी बेटी गुड़िया ने यहां लोकभवन के सामने आत्मदाह का प्रयास किया था.

इसे भी पढ़ेंःयूपी: सीएम ऑफिस के बाहर मां-बेटी ने आत्मदाह का किया प्रयास, दबंगों के खिलाफ कार्रवाई न होने से थी परेशान

तीन पुलिसकर्मी निलंबित

ram janam hospital
Catalyst IAS

जिलाधिकारी अरूण कुमार एवं पुलिस अधीक्षक ख्याति गर्ग ने बताया कि कि साफिया का उसके पड़ोसी से नाली को लेकर कोई विवाद था. इस मामले में नौ जुलाई को मारपीट भी हुई थी. उन्होंने बताया कि पुलिस ने इस मामले में नियमानुसार कार्रवाई की थी. गर्ग ने बताया कि गुड़िया एवं उसकी मां ने आत्मदाह के प्रयास से संबंधित कोई पत्र नहीं दिया था और न ही खुफिया विभाग के पास इसकी कोई जानकारी थी.

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

उन्होंने बताया कि इस मामने में थाना प्रभारी जामो रतन सिंह, एक उप निरीक्षक एवं एक सिपाही को निलंबित कर दिया गया है. मामले की जांच अपर पुलिस अधीक्षक को सौंपी गयी है और जांच रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जायेगी.

इसे भी पढ़ेंःराजस्थानः बीजेपी ने की फोन टैपिंग की सीबीआइ जांच की मांग

क्या है मामला

पुलिस ने शनिवार को बताया था कि घटना शुक्रवार शाम लगभग साढ़े पांच बजे की है, जब अमेठी की दो महिलाओं ने खुद पर मिट्टी का तेल छिड़का और खुद को आग लगा ली. उन्होंने बताया कि मौके पर मौजूद पुलिसकर्मी तुरंत उनकी ओर भागे.

इनमें से एक महिला का वीडयो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिसमें वह आग की लपटों में भागती हुई नजर आ रही है. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि दोनों को सिविल अस्पताल की बर्न यूनिट में भर्ती कराया गया है. उनकी हालत गंभीर बताई जाती है.

पूरे मामले को लेकर महिला ने थाने में शिकायत भी की गयी. इसके बावजूद थाने के बाहर और बाद में जमकर पिटाई की गयी. सुनवाई न होने से नाराज मां-बेटी शुक्रवार को लखनऊ पहुंचकर मुख्यमंत्री से अपनी गुहार लगाना चाह रही थीं.

बताया जा रहा है कि मां-बेटी पिछले एक महीने से चक्कर लगा रही थीं. दोनों ने शुक्रवार को लोक भवन के बाहर खुद को आग लगा ली.

विपक्ष ने साधा निशाना

पूरे मामले पर विपक्षी दलों बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और समाजवादी पार्टी (सपा) ने राज्य सरकार पर निशाना साधा है.

बसपा सुप्रीमो मायावती ने शनिवार को ट्वीट किया, ‘जमीन विवाद मामले में अमेठी जिला प्रशासन से न्याय न मिलने पर मां-बेटी को लखनऊ में मुख्यमंत्री कार्यालय के सामने आत्मदाह (का प्रयास) करने को मजबूर होना पड़ा. उत्तर प्रदेश सरकार इस घटना को गम्भीरता से ले, पीड़ितों को न्याय दे और लापरवाह अफसरों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करे ताकि ऐसी घटना पुनः न हों.’

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शनिवार को ट्वीट किया, ‘लोकभवन के सामने दो महिलाओं द्वारा आत्मदाह (के प्रयास) की घटना सोती हुई सरकार को जगाने के लिए क्या काफी नहीं है या फिर असंवेदनशील सरकार एवं मुख्यमंत्री जी किसी और बड़ी दुर्घटना का इंतजार कर रहे हैं. क्या उत्तर प्रदेश में सरकार नाम की कोई चीज़ है!’

इसे भी पढ़ेंःराजस्थानः बीजेपी ने की फोन टैपिंग की सीबीआइ जांच की मांग

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button