न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अधिवक्ता समेत लापता तीन लोगों का दो दिन बाद भी नहीं कोई सुराग, जांच में जुटी पुलिस की दो टीम

966

Ramgarh : मंगलवार को औरंगाबाद जाने के क्रम में लापता हुए कुजू ओपी क्षेत्र के रोबा काॅलोनी निवासी रामगढ़ कोर्ट के अधिवक्ता मिथिलेश सिंह, बिंझार निवासी रुपेश कुमार और कार के ड्राइवर मो कलाम अब तक कोई सुराग नहीं मिल पाया है.

सभी लोगों की बरामदगी के लिए के रामगढ़ पुलिस के द्वारा दो पुलिस टीमों का गठन किया गया है. जहां एक टीम गया और औरंगाबाद में छापेमारी कर रही है वहीं दूसरी टीम कोडरमा में छापेमारी कर रही है.

रास्ते से गायब हो गई कार

रामगढ़ के नईसराय से स्विफ्ट डिजायर कार लेकर अधिवक्ता मिथिलेश सिंह, बिंझार निवासी रुपेश कुमार और कार ड्राइवर मो कलाम मंगलवार को सुबह करीब 7:00 बजे औरंगाबाद के लिए निकले थे. जिसके बाद परिजनों ने बात करने के लिए मोबाइल पर कॉल किया लेकिन तीनों का नंबर बंद आया.

जिसके बाद परिजन काफी परेशान हो गए. कार के बारे में पता किया गया तो कार का भी कुछ पता नहीं चला. लापता होने के शक पर रामगढ़ थाना में बुधवार को कार ड्राइवर के भाई मोहम्मद एजाज ने आवेदन देकर खोजबीन करने की अपील की. अधिवक्ता के परिजनों ने भी पुलिस से मुलाकात कर मोबाइल लोकेशन सहित औरंगाबाद रुट के थानों से जानकारी लेने की अपील की है.

इसे भी पढ़ेंःमोदी सरकार ने किया मंत्रिमंडल की विभिन्न समितियों का गठन, रोजगार के सृजन पर विशेष ध्यान

क्या है मामला

कार ड्राइवर मो कलाम के भाई मो एजाज अहमद ने भाई के लापता होने के संबंध में थाना में आवेदन दिया है. उसने आवेदन में कहा है एजाज स्विफ्ट डिजायर कार जेएच 24 ई-4435 का ड्राइवर था. मंगलवार की सुबह करीब सात बजे उसने अपनी पत्नी से कहा कि वह अधिवक्ता मिथिलेश सिंह व रुपेश कुमार को लेकर बिहार के औरंगाबाद जा रहा है. शाम आठ बजे तक घर वापस लौट आएगा.

जिसके बाद शाम के करीब चार बजे जब एजाज के मोबाइल पर फोन किया तो नंबर बंद आया. फिर मिथिलेश सिंह के मोबाइल पर फोन किया गया तो वह भी बंद आया. वहीं रुपेश कुमार का फोन घर पर ही पाया गया.

फोन बंद आने की वजह से परिजनों परेशान हो गए. उन्होंने एजाज के घर लौटने का इंतजार किया. लेकिन बुधवार सुबह तक घर वापस नहीं लौटने पर परिजनों की चिंता और बढ़ गई. खोजबीन करते हुए परिजन औरंगाबाद पहुंचे तो पता चला वहां भी लोग नहीं पहुंचे हैं.

इसके बाद रुट के सभी थाना व अस्पताल से कार व उसपर सवार लोगों के बारे में जानकारी ली गई लेकिन कहीं कुछ भी पता नहीं चल पाया. परिजनों ने लापता होने की खबर पुलिस को दी. जिसपर कार्रवाई करते हुए पुलिस रुपेश कुमार के घर गई ताे उसकी पत्नी ने बताया कि उनका मोबाइल घर पर ही है. फिलहाल पुलिस की टेक्निकल सेल ड्राइवर मो कलाम व अधिवक्ता मिथिलेश सिंह के मोबाइल का लोकेशन ट्रेस करने में जुट गई है.

इसे भी पढ़ेंःगिरिराज सिंह को नीतीश का जवाब- ‘दूसरों के धर्म का सम्मान नहीं करने वाले अधार्मिक’

जांच कर रही पुलिस की दो टीम

इस मामले में रामगढ़ थाना प्रभारी से बात करने पर उन्होंने बताया कि अभी तक लापता हुए लोगों का कोई सुराग नहीं मिल पाया है. लापता हुए लोगों की बरामदगी के लिए पुलिस की दो टीम का गठन किया गया है.

टीम कोडरमा गया और औरंगाबाद में जांच कर रही है. मोबाइल लोकेशन की रिपोर्ट आने के बाद यह पता चल सकेगा कि आखिर बार कहां पर फोन को ऑफ किया गया था. जिसके आधार पर खोजबीन की जाएगी. जल्द ही लापता लोगों का पता लगाएगी पुलिस.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: