न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सत्येंद्र हत्याकांड के तीन नामजद आरोपी गिरफ्तार, पूछताछ में कबूला अपराध

70

Dhanbad: भाजपा नेता बलराम सिंह के भाई सत्येंद्र सिंह हत्याकांड में नामजद आरोपी अरुण मंडल, राजेश गुप्ता, बिपिन रावत को गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. तीनों ने घटना में अपनी संलिप्तता स्वीकार कर ली है. उक्त बातें बुधवार को एसएसपी मनोज रतन चौथे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी. एसएसपी ने बताया कि पुलिस को  गुप्त सूचना मिली थी कि हत्या के तीनों नामजद आरोपी बरमसिया क्षेत्र में देखे गये हैं. सूचना पर तुरंत संज्ञान लेते हुए धनसार थानेदार लखन राम व उनकी टीम ने छापेमारी कर  कुमारपट्टी निवासी अरुण मंडल (35), राजेश गुप्ता (34) व बि‍पिन कुमार रावत को गजुआटांड़ से गिरफ्तार कर लिया. बताते चलें कि 22 अक्टूबर को ही इस हत्या के एक आरोपी विकास सिंह को स्थानीय लोगों ने पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया था. जिसके बाद उसे जेल भेज दिया गया था. साथ ही एसएसपी चौथे ने कहा सत्येंद्र सिंह एवं अरुण मंडल सहित अन्य लोगों के साथ पुरानी रंजिश थी. पहले भी इन लोगों के बीच लड़ाइयां कई बार हो चुकी हैं. इस बार भी मारपीट कर सत्‍येंद्र सिंह को गंभीर रूप से जख्मी कर दिया था. जिसे पीएमसीएच के डॉक्टरों ने बेहतर इलाज के लिए मिशन अस्पताल ले जाने को  कहा. ले जाने के दौरान  रास्ते में ही उनकी मौत हो गई.

इसे भी पढ़ेंःJPSC: एक पेपर जांचने के लिए चाहिए 60 से अधिक टीचर, मेंस एग्जाम की कॉपी चेक करना बड़ी चुनौती

कहा- बार-बार का लफड़ा एक ही बार खत्म कर दो

घटना के संदर्भ में बता दें कि शनिवार की रात दर्जनों की संख्या में सत्येंद्र सिंह को आपसी रंजिश में लोगों ने मारपीट कर जख्मी कर दिया था. इतना ही नहीं जब वह बेहोशी की हालत में जमीन पर गिर गया, तो उसी दौरान लोगों ने कहा कि बार-बार की लड़ाई एक ही बार खत्म कर दी जाय और इतना बोलते ही  लोगों ने  जमीन से पत्‍थर उठाया और उसके ऊपर गिरा दिया. जिससे उसके सीने की हड्डी टूट गयी.  यह बात पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी सामने आयी है.

इसे भी पढ़ेंःराज्य प्रशासनिक सेवा के 420 पोस्ट खाली, 25 अफसरों पर गंभीर आरोप, 07 सस्पेंड, 06 पर डिपार्टमेंटल प्रोसिडिंग, 05 पर दंड अधिरोपण

गिरफ्तारी नहीं होती तो धनबाद बंद करने की थी योजना

दर्जनभर से अधिक संगठन के लोगों ने औपचारिक घोषणा कर कहा था कि  प्रशासन अगर आरोपियों की गिरफ्तारी 2 दिन के अंदर  नहीं करती है तो तीसरे दिन धनबाद बंद कर दिया जाएगा और इस बीच जो भी घटना होंगे उसके लिए जिम्मेवार जिला व पुलिस प्रशासन होगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: