न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

खुलासाः जमीन पर दावेदारी को लेकर हुई थी बीजेपी नेता मागो मुंडा सहित तीन की हत्या, चार गिरफ्तार

1,466

Khunti: मुरहू थाना क्षेत्र में हेठगोवा गांव में 22 जुलाई को हुई भाजपा नेता मागो मुंडा सहित तीन की हत्‍या हेठगोवा में 12 एकड़ 55 डिसमिल जमीन को लेकर की गयी. जमीन पर दावेदारी को लेकर लंबे समय से विवाद चल रहा था. इसी के परिणाम में तीन लोगों की हत्या हुई.

जमीन पर दावेदारी को लेकर मागो मुंडा का अपने ही गांव के रोतोन मुंडा और उनके भाई खेदन मुंडा से विवाद चल रहा था. जिसकी वजह से रोतोन मुंडा और उनके भाई खेदन मुंडा ने पीएलएफआई के सनिका ओड़िया के साथ मिलकर हत्या को अंजाम दिया. हत्या की घटना के अंजाम देने में कुल आठ अपराधी शामिल थे.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

जिनमें चार अपराधियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर किया. इनमें रोतोन मुंडा और उसका भाई खेदन मुंडा, सिरका सरुकद और सागर मुंडा शामिल हैं. बाकी चार अपराधियों कि गिरफ्तारी के लिए पुलिस कार्रवाई कर रही है.

इसे भी पढ़ेंः कुत्तों को बचाने की बात करनेवाला पशुप्रेमी तो गाय बचानेवाला कट्टर क्यों : महेश पोद्दार  

 सात दिनों के अंदर हुआ हत्याकांड का खुलासा

बीजेपी नेता सहित तीन लोगों की हत्या के मामले में डीआइजी एवी होमकर, खूंटी एसपी श्री आलोक के द्वारा लगातार कार्रवाई की जा रही थी. उनके नेतृत्व में पुलिस की टीम कैंप भी कर रही थी. हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने में जमशेदपुर, कोडरमा पुलिस एवं अन्य एजेंसियों की मदद ली जा रही थी.

संयुक्त रूप से चलाये  गये इस अभियान में पुलिस ने हत्याकांड के सात दिनों के अंदर मामला का खुलासा कर लिया. बता दें कि रोतोन मुंडा और उनके भाई खेदन मुंडा ने हत्या के लिए पीएलएफआइ उग्रवादी सनिका ओड़िया को 10 हजार रुपया दिया था. हत्या के बाद बाकी भुगतान करने की बात कही गयी थी.

इसकी पुष्टि पुलिस के द्वारा छापेमारी के क्रम में मुख्य अभियुक्त के घर से बरामद 5 लाख रूपये से हुई है.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

इसे भी पढ़ेंः SAIL में तकनीशियन से स्पेशलिस्ट तक के 361 पदों पर होगी बहाली, 20 अगस्त तक करें ऑनलाइन आवेदन

लंबे समय चल रहा था जमीन का विवाद

हत्या के मुख्य साजिशकर्ता रोतोन मुंडा, उसके भाई खेदन मुंडा और मागो मुंडा का हेठगोवा में 12 एकड़ 55 डिसमिल जमीन को लेकर पारिवारिक विवाद चल रहा था. मृतक मागो मुंडा ने जमीन को अपने हिस्से ले लिया था. किंतु मुख्य साजिशकर्ता रोतोन मुंडा और उनके भाई खेदन मुंडा को जमीन नहीं मिली. जब आरोपी के द्वारा दावेदारी की जाने लगी तो इसका विरोध मृतक मागो मुंडा ने किया.

वर्ष 2018 में जमीन को लेकर ग्रामसभा का आयोजन कराया गया था. जिसमें ग्रामप्रधान ने दोनों आरोपी भाई की दावेदारी को सही बताया. लेकिन मृतक मागो मुंडा ने जमीन देने से इनकार कर दिया. जमीन को लेकर लंबे समय तक विवाद चलता रहा. जब दोनों आरोपी भाई को जमीन नहीं मिली तो उन्होंने पीएलएफआई के उग्रवादी के साथ मिलकर हत्या की साजिश रची.

22 जुलाई की रात हुई थी हत्या

जिला मुख्यालय से करीब 30 किमी दूर मुरहू थाना क्षेत्र के हेठगोवा गांव में 22 जुलाई की रात करीब 8.30 हत्या हुई थी. वर्दीधारी हमलावरों ने कूदा पंचायत की मुखिया राधा मुंडू के घर में घुसकर ताबड़तोड़ फायरिंग की.

इस दौरान उनके पिता व भाजपा नेता मागो मुंडा, मां लखमनी मुंडू और भाई लिपराय मुंडा की घटनास्थल पर ही मौत हो गयी. जबकि उनकी रिश्तेदार नौरी देवी की कमर में गोली लगी. मागो मुंडा भाजपा एसटी मोर्चा के खूंटी जिला कार्यसमिति के सदस्य भी थे.

इसे भी पढ़ेंः जमशेदपुर : टाटा मोटर्स समेत 25 उद्योगों में गहराया संकट, 30 हजार लोगों के सामने रोजी-रोटी का सवाल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like