न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बजट घोषणा के साढ़े तीन साल बाद भी बिहार में दूसरे एम्स के लिये स्थान तय नहीं

22

New Delhi : बिहार में दूसरे अखिल भारतीय चिकित्सा आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की स्थापना के लिए केंद्रीय बजट में घोषणा साढ़े तीन साल पहले की गयी थी, लेकिन अभी तक इसके लिए कोई स्थान तय नहीं किया जा सका है. सूचना के अधिकार कानून (आरटीआइ) के तहत स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय से प्राप्त जानकारी में बताया गया है, ‘‘बिहार में एम्स बनाने की घोषणा साल 2015-16 के संघीय बजट में की गयी थी. लेकिन राज्य सरकार ने अब तक एम्स के लिये किसी जगह की पेशकश नहीं की है.’’

आरटीआइ से हुआ खुलासा

मंत्रालय ने बताया कि एम्स का निर्माण तभी शुरू किया जा सकता है जब स्थान को अंतिम रूप दे दिया जाए. इसके बाद वित्त व्यय समिति :ईएफसी: एवं कैबिनेट की मंजूरी ली जायेगी. आरटीआई कार्यकर्ता ब्रजेश कुमार ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय से पूछा था कि साल 2015 में बिहार में नये एम्स की स्थापना की घोषणा की गयी थी. इस बारे में फिलहाल क्या स्थिति है और कार्य कब शुरू किया जायेगा. उल्लेखनीय है कि नयी दिल्ली स्थित अखिल भारतीय चिकित्सा आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स पर मरीजों के बढ़ते दबाव को देखते हुए मोदी सरकार ने बिहार में एम्स की स्थापना की घोषणा की थी. 2015-16 के बजट भाषण में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इसका प्रस्ताव भी किया था. आज करीब साढ़े तीन साल बीत गए, लेकिन प्रदेश सरकार एम्स के लिए 200 एकड़ जमीन उपलब्ध नहीं करा पायी. 

केंद्र को जमीन और जगह का इंतजार

राज्य सरकार तय करेगी कि नया एम्स कहां बनेगा. यह तय करने के बाद संस्थान के लिए जमीन भी राज्य सरकार ही उपलब्ध कराएगी. एम्स के लिए ऐसी जगह पर कम से कम दो सौ एकड़ जमीन चाहिए जहां, बिजली, पानी और सड़क की सुविधा हो. सूत्रों के अनुसार, केंद्र सरकार जमीन तथा आवश्यक संरचना उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार को अब तक कई पत्र भेज चुकी है.

पटना में एक एम्स पहले से परिचालन में

बिहार में दूसरे एम्स का विषय राजनीतिक मुद्दा बन चुका है. इसे लेकर राजद और जन अधिकार पार्टी राज्य में सत्तारूढ़ जदयू और भाजपा की गठबंधन सरकार पर निशाना साध रही है.  जन अधिकार पार्टी के नेता राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समावेशी विकास की बात करते हैं लेकिन कोशी सीमांचल की घोर उपेक्षा कर रहे हैं. दूसरे एम्स पर पहला हक कोशी सीमांचल का है और उसे यह मिलना ही चाहिए. राजद सांसद शैलेश कुमार उर्फ बुलो मंडल ने राज्य के भागलपुर जिले में दूसरा एम्स खोलने और राज्य सरकार से इसके लिए तत्काल जमीन उपलब्ध कराने की मांग की है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: