NationalTop Story

‘अम्फान’ के बाद ‘निसर्ग’ चक्रवात का खतराः महाराष्ट्र और गुजरात में अलर्ट

विज्ञापन

Mumbai: पश्चिम बंगाल और ओडिशा में अम्फान चक्रवात के कहर बरपाने के बाद ‘निसर्ग’ का खतरा मंडरा रहा है. ‘निसर्ग’ तूफान को लेकर महाराष्ट्र और गुजरात में अलर्ट जारी किया गया है. भारतीय मौसम विभाग के अनुसार बुधवार यानी की 3 जून को ‘निसर्ग’ उत्तर महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के तटों से टकरायेगा, जिससे भारी बारिश की संभावना है. मौसम विभाग ने महाराष्ट्र और गुजरात के तटीय इलाकों और  गोवा, दमन-दीव और दादरा नगर हवेली में चक्रवात के मद्देनजर अलर्ट जारी किया है.

इसे भी पढ़ेंःधनबाद: PMCH में विक्षिप्त लड़की के साथ रेप मामले में अज्ञात वर्दी वाले पर FIR 

चक्रवात से होने वाली तबाही की आशंका को देखते हुए राज्य सरकारों ने निचले स्थानों पर रहने वालों को निकालने का आदेश दिया है. इसके साथ ही छह से अधिक जिलों में नेशनल डिजास्टर रेस्पॉन्स फोर्स (NDRF) की 10 टीमें तैनात की गई हैं. ‘निसर्ग’ से निपटने के लिए एनडीआरएफ की कुल 23 टीमों को तैनात किया गया है.

इधर चक्रवाती तूफान ‘‘निसर्ग’’ के खतरे को देखते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने तैयारियों को लेकर नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (NDMA) के अधिकारियों और प्रभावित होने वाले राज्यों के मुख्यमंत्रियों के बैठक की. इस वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में उन्होंने हर संभव मदद का भरोसा दिया.

महाराष्ट्र के कई जिलों में अलर्ट

महाराष्ट्र सरकार ने चक्रवाती तूफान ‘‘निसर्ग’’ से मद्देनजर मुंबई और आस पास के जिलों के लिए सोमवार को अलर्ट जारी किया. तूफान के तीन जून को राज्य के तट पर पहुंचने की आशंका है. राज्य के मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से वीडियो कॉन्फ्रेंसे के जरिए बात की और किसी भी स्थिति से निपटने में राज्य की तैयारियों का जायजा लिया.

अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की दस इकाइयों को संवेदनशील जिलों में तैनात गया है, जबकि छह अन्य को तैयार रहने को कहा गया है. उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं कि ऐसे वक्त में बिजली आपूर्ति बिल्कुल बाधित नहीं हो जब राज्य कोरोना वायरस संकट से जूझ रहा है और विभिन्न अस्पतालों में हजारों मरीजों का इलाज चल रहा है.

तटीय पालघर और रायगढ़ जिलों में स्थित रासायनिक और परमाणु ऊर्जा संयंत्रों की सुरक्षा के लिए पर्याप्त एहतियात बरती जा रही है. ठाकरे ने एक बयान में कहा कि अरब सागर में विकसित हो रहे चक्रवाती तूफान के मद्देनजर मुंबई शहर, मुंबई उपनगरीय जिले, ठाणे, पालघर, रायगढ़, रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग जिलों में अलर्ट जारी किया गया है.

इसे भी पढ़ेंः11 महीने से अटकी थी Ranchi का अर्बन वाटर सप्लाई स्कीम, मंत्री मिथिलेश ठाकुर की पहल से निकला रास्ता 

तेज रफ्तार पकड़ सकता है ‘निसर्ग’

अरब सागर पर कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है. इस दवाब के भयंकर चक्रवाती तूफान में तब्दील होने पर 105 से 115 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवा चल सकती है. वहीं, 3 जून को हवा की रफ्तार 125 किलोमीटर प्रति घंटा तक पहुंच सकती है. भारतीय मौसम विभाग का अनुमान है कि, ‘इससे दक्षिणी गुजरात क्षेत्र में 3 और 4 जून को भारी बारिश होगी.’ समुद्र में 4 जून तक स्थिति अत्यंत खराब रहने का पूर्वानुमान है. 90 से 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा की गति बढ़कर 110 किलोमीटर भी हो सकती है.

चक्रवात को लेकर गुजरात सरकार भी अलर्ट है. तैयारियों की समीक्षा करने के बाद मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने कहा कि चक्रवात के कारण उपजी किसी भी स्थिति से निपटने के लिए एडीआरएफ की 10 टीमें तैनात की गयी है. दक्षिणी गुजरात के पांच जिलों- सूरत, भरुच, नवसारी, वलसाड और दांग और सौराष्ट्र के भावनगर और अमरेली जिले में ये टीमें तैनात की गई हैं.

इसे भी पढ़ेंःधनबाद: PMCH में विक्षिप्त लड़की के साथ रेप मामले में अज्ञात वर्दी वाले पर FIR 

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close