JharkhandRanchi

रांची में बोरिंग कराने वालों को अब कैंपस में ही बनाना होगा शॉकपिट

  •  गिरते ग्राउंड वाटर लेवल को लेकर निगम सख्त
  •  कैंपस का पानी नहीं जायेगा बाहर
  •  वाटर लेवल मेंटेन करने की है चुनौती
  • 53 वार्ड है रांची नगर निगम एरिया में
  • 5 बोरिंग हर वार्ड में कराने की थी योजना

Ranchi : रांची नगर निगम एरिया में बोरिंग कराना अब आसान नहीं होगा. इसके लिए पहले से ही रांची नगर निगम ने परमिशन लेने की व्यवस्था कर दी है. अब नए नियम के अनुसार बोरिंग कराने वालों को कैंपस में ही शॉकपिट भी बनाना होगा. जिससे कि घरों से निकलने वाला पानी उसी में जाये. जिससे कि पानी बेकार में नहीं बहेगा और ग्राउंड वाटर लेवल भी मेंटेन रहेगा. बताते चलें कि सिटी में गिरते ग्राउंड वाटर लेवल को देखते हुए नगर निगम अब सख्त हो गया है.

शॉकपिट से घर का पानी घर में रहेगा

Catalyst IAS
ram janam hospital

बोरिंग के बाद शॉकपिट बनाने का फायदा भी नगर निगम ने बताया है. बोरिंग से पानी तो निकाल सकते है. जब यह पानी शॉकपिट के माध्यम से जमीन में जाएगा तो घर का पानी घर में रहेगा. जिससे कि आसपास के इलाके का वाटर लेवल मेंटेन रहेगा. लेकिन इसके लिए थोड़ी टेक्निकल जानकारी भी बनाने से पहले लेनी होगी, जिससे कि बोरिंग के पानी पर कोई असर न पड़े.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

इसे भी पढ़ें :हजारीबाग : देश के प्रथम राष्ट्रपति व देशरत्न डॉ राजेन्द्र प्रसाद को कांग्रेस नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

हर वार्ड में बोरिंग और वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था

गर्मी ने दस्तक दे दी है. ऐसे में पानी की समस्या से निपटने को लेकर नगर निगम ने अपनी ओर से पूरी तैयारी कर ली है. वहीं योजना पर काम भी शुरू कर दिया गया है. 15वें वित आयोग की राशि नगर निगम को मिली है. जिससे हर वार्ड में बोरिंग कराने का काम किया जाएगा. इसके बाद पानी की टंकी और मोटर भी लगाए जाएंगे. इसके अलावा वाटर हार्वेस्टिंग भी कराने को कहा गया है. जिससे कि बारिश का पानी जमीन में जाए और वाटर लेवल मेंटेन रहे.

इसे भी पढ़ें :आजसू के मिलन समारोह में सुदेश महतो ने कहा, मजदूर हैं लेकिन मजबूर नहीं

जहां जगह नहीं, वहां कम्युनिटी रेन वाटर हार्वेस्टिंग

बड़े एरिया में बने घरों के लिए रेन वाटर हार्वेस्टिंग अनिवार्य कर दिया गया है. इसके अलावा कोई चाहे तो अपने घरों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग करा सकता है. अगर किसी इलाके में लोगों के घरों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग कराने की जगह नहीं है तो वहां पर कम्युनिटी रेन वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था की जाएगी. जिससे कि ग्राउंड वाटर लेवल को बचाया जा सके. जब भी बारिश हो तो उससे ग्राउंड वाटर रिचार्ज भी होता रहे. तब बोरिंग से पानी निकालने में नहीं सोचना होगा.

क्या कहती हैं मेयर

शहर में गर्मी को देखते हुए पानी की समस्या से निपटने को लेकर चर्चा हुई है. जिसके लिए 15वें वित आयोग की राशि का इस्तेमाल किया जाएगा. बोरिंग कराने के लिए घर में शॉकपिट भी बनाना होगा. हर वार्ड में बोरिंग के अलावा रेन वाटर हार्वेस्टिंग भी कराएंगे. जिससे कि पानी का लेवल बना रहे. लोगों को इसके लिए जागरूक होना होगा तो पानी की दिक्कत नहीं होगी.
आशा लकड़ा, मेयर, रांची.

इसे भी पढ़ें :NDA की ट्रेनिंग में एक्सीडेंट से सपना टूटा, जानिये क्यों कन्याकुमारी से लेह की पैदल यात्रा पर निकला रांची का रोनित रंजन

Related Articles

Back to top button