JharkhandMain SliderRanchi

जिनके पास है स्मार्टफोन और डिजिटल थर्मामीटर, होम आइसोलेशन में रह सकेंगे वैसे एसिंप्टोमेटिक कोरोना पॉजिटिव

-रुम के साथ अटैच बाथरुम होना जरुरी

-परिवार के सदस्यों को रखना होगा हाइड्रोक्लोरोक्वीन दवा

Ranchi: झारखंड सरकार ने पॉजिटिव एसिंप्टोमेटिक मरीजों को होम आइसोलेशन में रहने की अनुमति दे दी है. शनिवार को इसको लेकर प्रोटोकॉल जारी किया गया है. यह सुविधा एसिंप्टोमेटिक(बिना लक्षण वाले संक्रमित) और माइल्ड लक्षण वाले मरीजों को ही दी जाएगी. ऐसे मरीजों को चाहने पर राज्य सरकार होम आइसोलेशन की अनुमति दे सकता है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

होम आइसोलेशन के लिए मरीजों को निर्धारित शर्तों को पूरा करना होगा. मरीजों के पास स्मार्टफोन होना चाहिए. जिसमें इंटरनेट का इस्तेमाल किया जा रहा हो, ताकि जरुरत पड़ने पर डॉक्टरों और विभाग के लोगों से वीडियो कॉल किया जा सके. इसके अलावा मरीज के पास डिजिटल थर्मामीटर होना जरुरी है. साथ ही मरीज के पास हवादार कमरे में अटैच बाथरुम होना जरुरी है. जिसका इस्तेमाल सिर्फ वे ही करेंगे.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

इसके अलावा वे परिवार के किसी भी सदस्य के साथ सीधे संपर्क में नहीं आएंगे. होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों को हेल्थ केयर वर्कस उपलब्ध कराया जाएगा. जिन्हें अपने स्वास्थ्य की जानकारी रेगुलर देनी होगी. होम आइसोलेशन को लेकर केंद्र सरकार ने मई के अंमित सप्ताह में ही अनुमति दे दी थी.

इसे भी पढ़ें – पलामू: काम बंद करने के निर्देश के बावजूद चल रही मनरेगा योजनाएं, जांच के आदेश

सभी सदस्यों के रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद ही बाहर निकलेगी अनुमति

गाइडलाइन के हिसाब से होम आइसोलेशन में जाने वाले मरीज के किसी भी सदस्य को बाहर जाने की अनुमति नहीं होगी. ऐसे मरीजों को बाहर जाने की छूट तब मिलेगी, जब घर के सभी सदस्यों की रिपोर्ट नेगेटिव आ जाये.

कैंसर, किडनी रोगी और एड्स पीड़ित मरीजों को यह छूट नहीं दी जाएगी. जबकि लिवर, बीपी और सुगर की शिकायत वाले मरीजों को डॉक्टरी सलाह के बाद ही होम आइसोलेशन में भेजा जाएगा. जिस घर में होम आइसोलेशन में मरीज रहेंगे, उस घर के परिवार वालों को हाइड्रोक्लोरोक्वीन दवा का लगातार सेवन करना होगा.

लगातार मिल रहे 300 के करीब संक्रमित

राज्य में पिछले एक सप्ताह से मरीजों के मिलने की गति में तेजी आयी है. प्रतिदिन 300 के करीब पॉजिटिव मरीज मिल रहे हैं. रांची में सबसे अधिक 444 एक्टिव कोरोना मरीजों की संख्या है. रांची के 213 मरीज ही रिकवर हुए हैं.

रांची के बाद सबसे अधिक मरीज जमशेदपुर में हैं. वहां 418 एक्टिव मरीज हैं. इसके अलावा रामगढ़ में 100 एक्टिव मरीज हैं. राजधानी रांची सहित कई राज्यों में बेड की समस्या उत्पन्न हो गयी है. जिसको लेकर होम आइसोलेशन में रहने की अनुमति दी गयी है.

इसे भी पढ़ें – RIMS में भर्ती दो और कोविड मरीजों की मौत, राज्य में मृतकों की संख्या 51 हुई

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button