JharkhandLead NewsRanchi

जज हत्या कांड में शामिल हत्यारों की जानकारी देनेवालों को अब मिलेगा दस लाख का इनाम, CBI ने लगाये पोस्टर

Ranchi : झारखंड के धनबाद में जज उत्तम आनंद की मौत के मामले में सीबीआइ ने धनबाद में पोस्टर लगा कर 10 लाख रुपये इनाम की घोषणा की है. इससे पहले सीबीआइ ने पोस्टर लगा कर 5 लाख इनाम की घोषणा की थी. सीबीआइ के क्राइम ब्रांच के एसपी विजय कुमार शुक्ला के द्वारा ये पोस्टर जारी किये गये हैं.

Sanjeevani

धनबाद के जिला एवं सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद की मौत को 40 दिन हो गये हैं. परंतु अब तक सीबीआइ के हाथ इस मामले में खाली हैं. लिहाजा सीबीआइ के स्पेशल सेल ने न्यायाधीश की मौत से संबंधित जानकारी देनेवालों के लिए दस लाख रुपये इनाम की घोषणा कर दी है. आपको बता दें कि इससे पहले 16 अगस्त को 5 लाख के इनाम की घोषणा की गयी थी.

MDLM

इसे भी पढ़ें:झारखंड : 1 रुपये में जमीन रजिस्ट्री के प्रोग्राम से सरकार को हुआ 1296 करोड़ का घाटा, स्कीम शुरू करने का विचार नहीं

सीबीआइ ने शहर के सभी चौक चौराहों पर पोस्टर लगा कर लोगों से अपील की है कि यदि कोई व्यक्ति न्यायाधीश के हत्यारों या उससे संबंधित कोई भी जानकारी रखता हो तो वह सीबीआइ स्पेशल क्राइम ब्रांच वन नयी दिल्ली कैंप सीएसआइआर सत्कार गेस्ट हाउस धनबाद में इसकी सूचना दें या सीबीआइ के एसपी सह मामले के अनुसंधानकर्ता विजय कुमार शुक्ला को मोबाइल नंबर पर फोन कर इसकी जानकारी दें. जानकारी देने वालों को सीबीआइ 10 लाख का इनाम देगी.

28 जुलाई को न्यायाधीश उत्तम आनंद घर से सुबह 5:00 बजे मॉर्निंग वॉक के लिए निकले थे. घर वापस नहीं आने पर पत्नी कीर्ति सिन्हा ने रजिस्ट्रार को फोन कर इसकी सूचना दी. रजिस्ट्रार ने मामले की सूचना एसएसपी धनबाद को दी, जिसके बाद पुलिस महकमा न्यायाधीश को ढूंढ़ने में लग गया था.

इसे भी पढ़ें:नमाज कक्ष आवंटन मामले में विधायक बिरंची ने लाया कार्यस्थगन प्रस्ताव

थोड़ी देर बाद रणधीर वर्मा चौक के पास न्यायाधीश घायल मिले. एएनएमएमसीएच ले जाने पर मृत घोषित कर दिये गये. पहले इसे सामान्य सड़क हादसा माना गया, लेकिन सीसीटीवी फुटेज में एक ऑटो को जान बूझ कर धक्का मारते दिखने पर सनसनी फैल गयी.

हाइकोर्ट ने मामले पर संज्ञान लिया. पुलिस ने देर रात चालक लखन वर्मा और उसके साथ बैठे राहुल वर्मा को गिरफ्तार किया था. हाइकोर्ट के आदेश पर 4 अगस्त को सीबीआइ ने प्राथमिकी दर्ज कर ली थी.

उसके बाद सीबीआइ दोनों आरोपियों को गुजरात और दिल्ली ले कर गयी थी जहां उनका ब्रेन मैपिंग, वॉइस एनलाइसिस और नार्को टेस्ट हुआ. पर अब तक सीबीआइ को इस पूरे मामले में कोई विशेष सफलता नहीं मिली.

इसे भी पढ़ें:JHARKHAND VIDHAN SABHA: नमाज कक्ष विवाद- सड़कों पर उतरे भाजपाइयों पर बरसी लाठियां, सदन में हंगामा, झारखंड बंद का एलान

Related Articles

Back to top button