National

इस सप्ताह राज्यसभा में एनडीए बहुमत के करीब, सिर्फ छह सांसद दूर रहेगा

विज्ञापन

NewDelhi : इस सप्ताह  एनडीए राज्यसभा में भी बहुमत के करीब पहुंच जायेगा. आंकड़ों के हिसाब से सिर्फ 6 सांसद कम रह जायेंगे. जान लें कि   टीडीपी चार  सांसदों और इंडियन नैशनल लोक दल के एक सांसद के भाजपा से जुड़ने से एनडीए को राज्यसभा में बड़ी बढ़त मिली है. इसके अलावा और चार सांसद पांच जुलाई तक एनडीए का हिस्सा बनने वाले हैं. , ऐसा होने पर  एनडीए बहुमत के काफी करीब होगा. रविवार तक के डेटा के अनुसार  235 सदस्यों वाली राज्यसभा में एनडीए के 111 सांसद हैं.

10 सीटें खाली हैं, जिनमें से चार सांसद 5 जुलाई तक एनडीए के चुनकर आने की संभावना है.  इसके साथ ही यह आंकड़ा 115 पर पहुंच  जायेगा.  कुल 241 सदस्यों की संख्या में 115 सांसदों का आंकड़े का मतलब एनडीए के पास बहुमत से महज छह सांसद कम रहेंगे.  यदि राज्यसभा में कुल 245 मेंबर हो जाते हैं तो फिर एनडीए को अपने दम पर 123 सांसदों की आवश्यकता होगी.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड के तबरेज की हत्या के विरोध में मेरठ में हंगामाः धारा 144 लागू, इंटरनेट सेवाएं बंद

advt

राज्यसभा में एनडीए को किसी विधेयक को पारित कराने में समस्या नहीं आयेगी!

इसके बाद भी राज्यसभा में एनडीए को किसी विधेयक को पारित कराने में समस्या नहीं आयेगी, यदि टीआरएस, बीजेडी और वाईएसआरसीपी जैसी गैर-यूपीए पार्टियां उसे समर्थन करे. सूत्रों केअनुसार इस बात की कम संभावना है कि विपक्ष किसी विधेयक को पारित करने से रोक सके या फिर उसे एक बार फिर संशोधन के लिए भेजना पड़े.  जैसे 2014-2019 में राष्ट्रपति के अभिभाषण को भी संशोधन के लिए भेजना पड़ा था.  हालांकि अब भी तीन तलाक जैसे विवादित विधेयकों को पारित कराना चुनौती होगी.  भाजपा की सहयोगी पार्टी  जदयू इस मुद्दे पर साथ नहीं है, इसके अलावा बीजेडी और वाईएसआर  पर भी संशय है.

राज्यसभा की छह सीटों पर पांच जुलाई को चुनाव होना है

राज्यसभा की छह सीटों पर पांच जुलाई को चुनाव होना है.  इनमें से एक पर बीजेपी की सहयोगी एलजेपी के मुखिया राम विलास पासवान निर्विरोध चुने जा चुके हैं. इसके अलावा गुजरात की दो सीटें भाजपा के खाते में जात रही हैं.  ओडिशा में भी तीन सीटों पर चुनाव हैं, इनमें से एक भाजपा और दो बीजेडी के हिस्से में जा सकती हैं. इस क्रम में पांच जुलाई के बाद 18  तमिलनाडु की छह सीटों पर चुनाव होना है.  इन सीटों पर सांसदों का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है.  फिलहाल एआईएडीएमके के पास इनमें से चार सीटें हैं, जबकि डीएमके और सीपीआई के पास एक-एक सीट है.  इस बार डीएमके के खाते में तीन और एआईएडीएमके के खाते में तीन सीटें जाने की उम्मीद है.

इसे भी पढ़ेंः मनोज तिवारी का आरोप,  दिल्ली सरकार ने स्कूलों में कमरे बनवाने के लिए 892 करोड़ के ठेके 2000 करोड़ में दिये   

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button