BiharLead News

देव में इस बार नहीं होगा महापर्व छठ का महोत्सव

Patna : देव में इस बार कार्तिक महापर्व छठ व्रत महोत्सव का आयोजन नहीं किया जायेगा. देव कार्तिक छठ पर्व के आयोजन को लेकर कर द्वितीय बैठक हुई. कोविड-19 के कारण देव प्रखंड में कार्तिक छठ महोत्सव का आयोजन नहीं किया जायेगा. साथ ही देव में छठ पूजा से संबंधित आयोजित किये जाने वाले किसी भी प्रकार के कार्यक्रम, उद्घाटन समारोह, सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं मनोरंजन से संबंधित अन्य कार्यक्रम का आयोजन भी नहीं होगा.

इसे भी पढ़ें :  Garhwa : ज्वेलरी व्यवसायी से लूट की योजना विफल, दो लुटेरे गिरफ्तार, दो देसी कट्टा बरामद

advt

डीएम सौरभ जोरवाल ने बताया कि हाल के इन दिनों में विश्व के कई देशों चीन, ब्रिटेन, रूस इत्यादि में कोविड का प्रकोप बढ़ता जा रहा है. कई देशों में लॉकडाउन, स्कूलों की बंदी, एयरपोर्ट का परिचालन आदि बंद करने का निर्णय लिया गया है. पूर्व का अनुभव रहा है कि देव छठ मेला में लगभग 15 से 20 लाख श्रद्धालु हर वर्ष आते हैं.

देव में आने वाले छठ व्रतियों को मानना होगा यह नियम

उन्होंने कहा कि देव छठ पूजा में किसी भी श्रद्धालु को बिना टीकाकरण सर्टिफिकेट एंट्री नहीं दी जायेगी. साथ ही साथ छठ पूजा के लिए प्रत्येक श्रद्धालु के साथ परिवार के अधिकतम दो से तीन सदस्यों को ही अनुमति रहेगी. किसी भी प्रकार के वाहन की एंट्री मंदिर एवं तालाब क्षेत्र में वर्जित होगी. बाहर से आने वाले यात्रियों को एनएच-02 पर देव जाने वाले प्रवेश द्वार एवं देव प्रखंड के अन्य मार्गों से आने वाले यात्रियों को एंट्री प्वाइंट पर बैरिकेडिंग के माध्यम से रोका जायेगा.

इसे भी पढ़ें :  गार्ड पर यौन शोषण के आरोप के बाद हेहल बालाश्रय सील, बच्चों को स्थानांतरित किया गया

एनएच-02 के विभिन्न स्थलों पर दंडाधिकारी एवं पर्याप्त पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति होगी. वे बिना टीकाकरण के आये आगंतुकों को वापस भेज देंगे. डीएम ने सिविल सर्जन(CS) को निर्देश दिया कि देव प्रखंड के शत प्रतिशत स्थानीय लोगों को कैंप लगा कर अनिवार्य रूप से टीकाकरण कराना सुनिश्चित करें.

स्थानीय लोगों के लिए सूर्य मंदिर और सूर्य कुंड खुला रहेगा

छठ पूजा के दौरान केवल सूर्य मंदिर एवं सूर्य कुंड ही खुला रहेगा. छठ पूजा सादगीपूर्वक मनाने के उद्देश्य से किसी भी प्रकार की सजावट आदि की व्यवस्था नहीं की जायेगी. जगह-जगह पर श्रद्धालुओं को टेंट, बांस, बल्ला, तंबू आदि लगाने की अनुमति नहीं दी जायेगी. मंदिर, तालाब एवं प्रखंड कार्यालय के इर्द-गिर्द मकान मालिकों द्वारा बाहर से आये श्रद्धालुओं को बिना टीकाकरण सर्टिफिकेट देखे आवास मुहैया नहीं कराया जायेगा. यदि बिना टीकाकरण सर्टिफिकेट के आवास मुहैया कराया जाता है तो उनके विरुद्ध सुसंगत धाराओं के तहत कार्रवाई की जायेगी. इसके लिए मकान मालिक स्वयं जवाबदेह होंगे.

इसे भी पढ़ें : हाइकोर्ट ने विधायक दीपिका पांडेय पर किसी भी तरह की कानूनी कार्रवाई करने पर लगायी रोक

पुलिस प्रशासन एवं प्रखंड प्रशासन को निर्देश दिया गया है कि बैठक में लिये गये निर्णय के संबंध में माइकिंग के माध्यम से व्यापक प्रचार प्रसार किया जाये. साथ ही साथ जन प्रतिनिधियों, मंदिर के न्यास परिषद के सदस्यों एवं स्थानीय गणमान्य लोगों आदि के साथ समय समय पर बैठक की जाए एवं उन्हें भी बिना किसी समारोह के सादगी पूर्वक छठ पर्व मनाने के लिए बताया जाये. डीएम ने कहा कि औरंगाबाद जिले के अगल-बगल के जिलाधिकारियों एवं सीमावर्ती राज्यों के जिलाधिकारियों को भी देव प्रखंड में कार्तिक छठ पूजा का आयोजन सादगी से कोविड प्रोटोकॉल के तहत मनाने की सूचना दी जायेगी.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: