Lead NewsMain SliderNational

इस आईपीएस का 20 साल में हो चुका है 40 ट्रांसफर, दो बार मिल चुका है राष्ट्रपति पदक

आईपीएस डी रूपा वी के शशिकला के खिलाफ भी लगा चुकी है आरोप

New delhi : तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की सहयोगी वी के शशिकला पर आरोप लगाकर तीन वर्ष पूर्व चर्चा में आई आईपीएस अधिकारी डी रूपा फिर सुर्खियों में है. हाल ही में बंगलूरू सेफ सिटी प्रोजेक्ट की टेंडर प्रक्रिया में करोड़ों के घोटाले को लेकर डी रूपा ने अपने वरिष्ठ अधिकारी हेमंत निंबलकर पर आरोप लगाए थे. इस मामले के बाद डी रूपा का हेंडिक्राफ्ट्स इंपोरियम में ट्रांसफर कर दिया गया.  आईपीएस अधिकारी डी रूपा का 20 साल के करियर में 40 बार ट्रांसफर हो चुका है.

इसे भी पढ़ेंःकैसे शिकंजे में आएगा PLFI  सुप्रीमो दिनेश गोप, पुलिस ने बिछाया नया जाल

रूपा ने अपने वरिष्ठ अधिकारी पर आरोप लगाया था कि टेंडरिंग कमिटी के चीफ होते हुए निबंलकर नियमों का उल्लंघन कर एक खास कमिटी को तरजीह दे रहे थे. वहीं निबंलकर का आरोप है कि बिना किसी अथॉरिटी के डी रूपा इस प्रक्रिया में दखलअंजदाजी कर रही थी. इस पर रूपा ने कहा था कि उन्हें फैसला लेने के लिए प्रक्रिया का हिस्सा खुद मुख्य सचिव ने बनाया था.

advt

बता दें डी रूपा में कर्नाटक में गृह सचिव के तौर पर कार्यरत थीं और राज्य में इस पद पर आसीन होने वाली पहली महिला थीं. अपने ट्रांसफर ऑर्डर के बाद डी रूपा ने ट्वीट के जरिए अपनी बात कहनी चाही. डी रूपा ने लिखा कि ट्रांसफर होना सरकारी नौकरी का हिस्सा है. डी रूपा ने आगे लिखा कि जितने साल मेरे करियर को हुए हैं, उससे दोगुना बार मेरा ट्रांसफर हो चुका है.

रूपा का कहना है कि ये मेरा व्यक्तित्व है कि मैं कुछ गलत होते हुए नहीं देख सकती. कई अधिकारी ऐसे होते हैं कि उन्हें शांति चाहिए होती है, इसलिए वो किसी मुद्दे पर बात नहीं करते लेकिन मेरे साथ ऐसा नहीं है. मेरा मानना है कि नौकरशाहों को जहां एक्शन लेना होता है, वहां उन्हें लेना चाहिए.

वर्ष 2016 व 17 में मिल चुका है राष्ट्रपति पदक

तीन साल पहले डी रूपा सुर्खियों में आई थीं, जब उन्होंने तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की सहयोगी वी के शशिकला पर आरोप लगाए थे कि उन्होंने कर्नाटक जेल में अधिकारियों के साथ अधिमान्य व्यवहार के लिए एक सौदा किया था. इस विवाद के बाद डी रूपा पर 20 करोड़ रुपये का मानहानि का केस दर्ज किया गया था. मालूम हो कि डी रूपा 2000 के आईपीएस बैच की अधिकारी हैं और उन्हें दो बार (2016, 2017) राष्ट्रपति का पुलिस पदक मिल चुका है.

इसे भी पढ़ेंःअमेरिकी सर्वे का खुलासा, प्रधानमंत्री मोदी विश्व के सबसे लोकप्रिय राजनेता

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: