न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बेटियों को पढ़ाने का देते हैं नारा और कर रहे हैं स्कूल बंद, कैसे पढ़ेंगी बेटियां : सुनीता सिंह

44

Ranchi : झारखंड एक ऐसा राज्य बन गया है, जहां पलायन, बेरोजगारी, भुखमरी और कुपोषण अधिक है. ऐसे में समग्र विकास की बात थोड़ी धूमिल दिखाई पड़ती है. शिक्षा का ही हाल राज्य में देख लें. सरकार बेटियों को पढ़ाने और आगे बढ़ाने का नारा देती है, लेकिन यहां बच्चे शिक्षित क्या होंगे, सरकार तो स्कूलों को ही बंद करने में लगी हुई है. ऐसे में बेटियां आगे कैसे बढ़ेंगी. उक्त बातें जेवीएम की केंद्रीय प्रवक्ता सुनीता सिंह ने कहीं. वह मंगलवार को बिरसा माइन्स मॉनिटरिंग सेंटर की ओर से आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रही थीं. कार्यक्रम का आयोजन एसडीसी सभागार में किया गया, जिसका विषय ‘निर्णायक इकाइयों में महिलाओं की बराबर भागीदारी’ था. सुनीता सिंह ने कहा कि राजनीति का हाल भी कुछ ऐसा ही है. किसी पार्टी विषेश नहीं, बल्कि पुरुष प्रधानता के कारण महिलाएं राजनीति में आगे नहीं आ पा रही हैं. जबकि, महिलाओं को उचित अवसर मिलने से महिलाएं बेहतर कर सकती हैं.

इसे भी पढ़ें- गढ़वा: कलयुगी बेटों की लापरवाही से बुजुर्ग मां की सड़क पर तड़पते हुई मौत

एकजुट होकर आवाज उठायें

कांग्रेस की प्रदेश प्रवक्ता आभा सिन्हा ने कहा कि राजनीति में महिलाएं सशक्त हों, इसके लिए जरूरी है कि महिलाएं पार्टी विशेष से ऊपर उठकर कार्य करें. महिलाओं को चाहिए कि राजनीतिक पार्टियों से अलग हटकर कार्य करें. एकजुटता के साथ आवाज उठाने से ही महिलाएं राजनीति में आगे बढ़ सकती हैं. उन्होंने कहा कि विधानसभा और लोकसभा में पार्टियों को चाहिए कि महिला उम्मीदवारों को भी बराबरी से टिकट दिया जाये. वहीं, ग्राम सभा से लेकर संसद तक 50 प्रतिशत आरक्षण महिलाओं के लिए निर्धारित किया जाये.

इसे भी पढ़ें- पलामू: आठ साल पुराने मामले में पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी का कोर्ट में सरेंडर, मिली जमानत

पुरुषों ने ही बनाये महिलाओं के लिए कानून

Related Posts

पलामू, हजारीबाग एवं दुमका मेडिकल कॉलेजों में इसी सत्र से शुरू होगी पढ़ाई

राज्य सरकार के विशेष अनुरोध पर सुप्रीम कोर्ट ने पढ़ाई शुरू करने का आदेश सोमवार को दिया.

SMILE

इस संबंध में सीपीआईएम की वीणा लिंडा ने कहा कि आज तक महिलाओं के हित में जितने भी कानून बने, सभी पुरुषों ने ही बनाये. कोई भी कानून महिलाओं ने बनाया. लेकिन, अब जरूरी है कि महिलाओं की भागीदारी बढ़ायी जाये. पुरुषों ने अपने हितों को ध्यान में रखकर कानून बनाये हैं. ऐसे में जरूरी है कि महिला आरक्षण 50 प्रतिशत विधेयक को जल्द से जल्द पारित किया जाये.

इसे भी पढ़ें- क्या मेयर आशा लकड़ा ‘निगम’ से सीधा ‘लोकसभा’ जाने की चाहत रखती हैं ! 

ये थे उपस्थित

मौके पर सपना सुरीन, कामना खलखो, लक्ष्मी कुमारी, फैजीन फातिमा, मार्था उरांव समेत अन्य लोग उपस्थित थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: