Corona_UpdatesMain Slider

कोरोना को लेकर डराने वाली खबर आयी, वैज्ञानिकों का दावा- हवा से भी फैलता है वायरस

विज्ञापन

NW Desk: देश में कोरोना संक्रमण की बेकाबू रफ्तार के बीच एक डरानेवाली खबर सामने आयी है. जिसके बाद संक्रमण से बचने के लिए और अधिक सावधान रहने की जरुरत है. दरअसल, दुनिया के कई वैज्ञानिकों ने अपनी रिसर्च में पाया है कि कोविड-19 वायरस केवल संक्रमित के संपर्क में आने से ही नहीं बल्कि ये एयरबोर्न भी है. यानी कोरोना वायरस हवा से भी फैलता है.

इसे भी पढ़ेंःवर्चस्व की लड़ाई में मारा गया हार्डकोर उग्रवादी मोहन यादव, TPC ने ली हत्या की जिम्मेवारी

हवा से फैलता है कोविड-19

दुनिया के32 देशों के 239 वैज्ञानिकों ने कोविड-19 को लेकर किये अपने रिसर्च में पाया कि नोवेल कोरोना वायरस के छोटे-छोटे कण हवा में भी जिंदा रहते हैं. और ये छोटे कण लोगों को संक्रमित कर सकते हैं.

advt

हालांकि, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोविड-19 के फैलने के तरीकों के बारे में कहा था कि कोरोना वायरस का संक्रमण हवा से नहीं फैलता है. डब्ल्यूएचओ ने तब साफ किया था कि यह वायरस सिर्फ थूक के कणों से ही फैलता है. और ये कण कफ, छींक और बोलने से शरीर से बाहर निकलते हैं. थूक के कण इतने हल्के नहीं होते कि हवा के साथ यहां से वहां उड़ जाएं. और ऐसे कण बहुत जल्द ही जमीन पर गिर जाते हैं. लेकिन ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, वैज्ञानिकों ने जो दावा किया है, उसमें इसके हवा से फैलने ती बात कही है.

डब्ल्यूएचओ से संशोधन की मांग

32 देशों के इन 239 वैज्ञानिकों ने अपने रिसर्च को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन को एक ओपन लेटर लिखा है. वैज्ञानिकों ने दावा किया कि इस बात के पर्याप्त सबूत हैं, जिसमें यह बात सामने आयी की इस वायरस के छोटे-छोटे कण हवा में तैरते रहते हैं, जो लोगों को संक्रमित कर सकते हैं. यह ओपन लेटर साइन्टिफिक जर्नल में अगले सप्ताह प्रकाशित होगा. साइंटिस ने विश्व स्वास्थ्य संगठन से इस वायरस की रिकमंडेशन्स (संस्तुति) में तुरंत संशोधन करने का निवेदन किया है.

इसे भी पढ़ेंःकोरोना संक्रमण के मामले में रूस को पीछे छोड़ तीसरे नंबर पर पहुंचा भारत

न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी इस रिपोर्ट के मुताबिक, ‘थूक के बड़े कण हो या फिर बहुत छोटे कण, जो पूरे कमरे में फैल सकते हैं. और जब दूसरे लोग सांस लेते हैं तो हवा में मौजूद कोविड-19 का कण शरीर में घुस कर उसे संक्रमित कर देता है.’ हालांकि, इस रिपोर्ट के मुताबिक हेल्थ एजेंसी ने कहा कि इस वायरस के हवा में मौजूद रहने के जो सबूत दिए गए हैं, उनसे ऐसे किसी नतीजे में फिलहाल नहीं पहुंचा जा सकता कि यह एयरबोर्न वायरस है.

adv

दुनिया में एक करोड़ 15 लाख से अधिक संक्रमित

बता दें कि दुनिया भर में कोरोना वायरस का कोहराम लगातार बढ़ता ही जा रहा है. दुनिया में 1 करोड़ 15 लाख 44 हजार से ज्यादा लोग इस वायरस के संक्रमण में है. और 5 लाख 36 हजार से ज्यादा लोगों की इसके चलते मौत हो चुकी है. वहीं भारत में भी संक्रमितों की संख्या 7 लाख के करीब पहुंच गयी है और यहां अब तक 19,286 लोगों की मौत हुई है. रुस को पीछे छोड़कर भारत तीसरे नबंर पर पहुंच चुका है. ऐसे में कोरोना वायरस के एयरबोर्न होने का दावा लोगों की चिंता बढ़ाने वाला है.

इसे भी पढ़ेंःSawan 2020: सावन का पहला सोमवार आज, बन रहा विशेष योग

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button