Crime News

रातू रोड के बड़े बिल्डर और भाजपा नेता की हत्या करने की थी साजिश, सुजीत सिन्हा गिरोह के दो अपराधी गिरफ्तार

Ranchi: रातू रोड क्षेत्र के बड़े बिल्डर और भाजपा नेता की हत्या की साजिश में शामिल दो अपराधियों को पुलिस ने बुधवार को गिरफ्तार कर लिया. आजीवन कारावास की सजा काट रहे पलामू के गैंगस्टर सुजीत सिन्हा का भांजा सूरज सिन्हा और शूटर हरि तिवारी को पुलिस ने गिरफ्तार किया. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दोनों की गिरफ्तारी बिहार के नवादा जिले से हुई है. दोनों को सीआइडी और रांची पुलिस के इनपुट पर पकड़ा गया है. बता दें कि हरि तिवारी के खिलाफ पलामू के कई थानों में दर्जनों मामले दर्ज हैं. पुलिस इस मामले में छापामारी कर रही है. इसमें कई और अपराधियों के गिरफ्तार होने की संभावना है.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ें – लापरवाहीः राज्य बनने के 16 साल बाद भी नहीं बन पाया झारखंड पुलिस एक्ट, अब बनाया जा रहा है ड्राफ्ट  

दोनों अपराधियों से पुलिस कर रही है पूछताछ

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार गिरफ्तार दोनों अपराधी सूरज और हरि तिवारी को पुलिस गुप्त स्थान पर रख कर पूछताछ कर रही है. हालांकि, दोनों अपराधियों की गिरफ्तारी की पुष्टि कोई अधिकारी नहीं कर रहा है. गिरफ्तार हुए अपराधी के पास से पुलिस ने एक काले रंग की स्कॉर्पियो गाड़ी भी बरामद की है. वहीं हथियार भी जब्त किया गया है.

इसे भी पढ़ें – आइआइटी धनबाद के टॉप ब्रांच के छात्रों को भी नौकरी मिलने में हो रही दिक्कत, 2018-19 में 24 फीसदी छात्रों का नहीं हुआ प्लेसमेंट

Samford

एक करोड़ रुपये की मांगी गयी थी रंगदारी

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रातू रोड के एक बड़े बिल्डर से सुजीत सिन्हा के द्वारा फोन पर एक करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी गयी थी, नहीं देने पर जान से मारने की धमकी दी गयी थी. बिल्डर की हत्या करने से पहले ही रांची पुलिस और सीआइडी के द्वारा दिये गये इनपुट के आधार पर पुलिस ने दोनों अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया.

आजीवन कारावास की सजा काट रहा है सुजीत सिन्हा

11 जुलाई 2019 को पलामू सहित राज्य के कई क्षेत्रों में आतंक का पर्याय बने कुख्यात अपराधी सरगना सुजीत सिन्हा को हत्या के एक मामले में जिले की निचली अदालत ने सश्रम आजीवन कारावास की सजा सुनायी थी. व्यवहार न्यायालय के षष्टम जिला एवं सत्र न्यायाधीश पंकज कुमार की अदालत ने हत्या के मामले में सत्र वाद संख्या 148/2007 में सुजीत कुमार सिन्हा व उत्तम कुमार सिंह को सश्रम आजीवन कारावास की सजा सुनायी और एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया था.

रंगदारी नहीं देने पर दो लोगों की हत्या की थी

बता दें कि सुजीत कुमार सिन्हा व उत्तम कुमार सिंह ने अन्य साथियों के साथ मिल कर भूषण सिंह व सुनील सिंह से रंगदारी की मांग की थी. रंगदारी नहीं देने पर भूषण व सुनील की गोली मार कर हत्या कर दी गयी थी. इस मामले में अभियुक्तों के विरुद्ध मेदिनीनगर शहर थाना में 21 फरवरी 2006 को कांड संख्या 79/2006 भादवि की धारा 302/34 व 27 आर्म्स एक्ट के तहत दर्ज किया गया था.

इसे भी पढ़ें – पलामू: जेजेएमपी के दो शातिर उग्रवादी गिरफ्तार, निशानदेही पर पांच हथियार, गोलियां और वर्दी बरामद  

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: