JharkhandLead NewsNationalPalamuRanchi

दारोगा लालजी यादव की संदेहास्पद मौत की उच्चस्तरीय जांच हो, प्रताड़ित करनेवाले अधिकारियों को कड़ी सजा मिले : अन्नपूर्णा देवी

New Delhi: केंद्रीय शिक्षा राज्यमंत्री और कोडरमा की सांसद अन्नपूर्णा देवी ने पलामू के नावा बाज़ार थाने के निलंबित थाना प्रभारी लालजी यादव की संदेहास्पद मौत की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है. अन्नपूर्णा देवी ने आज सुबह राज्य के पुलिस महानिदेशक नीरज सिन्हा से दूरभाष पर बात की और उनसे इस मामले में त्वरित, पारदर्शी, निष्पक्ष और प्रभावी कार्रवाई की मांग की है.

ram janam hospital

मंत्री अन्नपूर्णा देवी ने कहा कि लालजी यादव एक संभावनाशील और लोकप्रिय पुलिस अधिकारी थे, लेकिन अपनी तेजतर्रार और ईमानदार कार्यशैली के कारण कुछ भ्रष्ट वरीय पुलिस पदाधिकारियों और आपराधिक गतिविधियों में संलिप्त गिरोह को खटक रहे थे. दिवंगत लालजी यादव के परिजनों के मुताबिक पिछले कुछ दिनों से उन्हें लगातार प्रताड़ित और अपमानित किया जा रहा था, जिससे वे अत्यधिक आहत थे.

अन्नपूर्णा देवी ने कहा कि जिस तरह दिवंगत लालजी यादव के परिजनों के पहुंचने से पहले उनके शव का आनन-फानन में पोस्टमार्टम किया गया, उससे भी साजिश की आशंका को बल मिलता है. उन्होंने कहा कि परिजनों और आम जनता में सरकार और वरीय पुलिस अधिकारियों की कार्यशैली को लेकर आक्रोश है और सरकार इस आक्रोश का आदर करे. परिजनों और आम जनता की मांग के अनुरूप मेडिकल बोर्ड का गठन कर शव का दुबारा पोस्टमार्टम हो, पलामू के एसपी को अविलंब हटाया जाय, सीबीआई या किसी अन्य तटस्थ केंद्रीय एजेंसी से मामले की उच्चस्तरीय जांच हो और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो. उन्होंने कहा कि भाजपा इस मामले में चुप नहीं बैठेगी और अगर मामले को दबाने, जांच को भटकाने और दोषियों को बचाने की कोशिश हुई तो राज्य सरकार को कड़े प्रतिरोध का सामना करना पड़ेगा.

Advt
Advt

Related Articles

Back to top button