न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड की संस्कृति, परंपरा में चुंबन प्रतियोगिता जैसे अश्लील आयोजन का कोई स्थान नहीं : प्रतुल शाहदेव

31

Ranchi : झामुमो के विधायक साइमन मरांडी ने चुंबन प्रतियोगिता आयोजित कराने के मुद्दे पर यू-टर्न ले लिया है. भाजपा ने इसे प्रेशर पॉलिटिक्स का नतीजा बताया है. भाजपा ने ‘अश्लील आयोजन’ को संस्कृति से जोड़ने के प्रयास की आलोचना की थी, इसके बाद चुंबन प्रतियोगिता का अयोजन न होने को भाजपा अपनी जीत के रूप में देख रही है. भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा कि झारखंड की संस्कृति को नष्ट करने के किसी भी प्रयास का भाजपा विरोध करेगी. झारखंड की संस्कृति और परंपरा में चुंबन प्रतियोगिता जैसा अश्लील आयोजन करने का कोई स्थान नहीं है. प्रतुल शाहदेव ने कहा कि साइमन मरांडी दरअसल संतालपरगना को रोम और लंदन बनाना चाहते थे, लेकिन जनता के जबर्दस्त आक्रोश और भाजपा की चेतावनी के बाद उन्हें अपने कदम वापस खींचने पड़े. प्रतुल ने कहा कि साइमन मरांडी को अपनी इस ओछी हरकत के कारण जनता से सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए.

क्या कहा था साइमन मरांडी ने धनबाद में

झारखंड मुक्ति मोर्चा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सह लिट्टीपाड़ा के विधायक साइमन मरांडी ने एक बार फिर से चुंबन प्रतियोगिता कराने का एलान धनबाद में किया था और कहा था कि 15 दिसंबर को पाकुड़ में चुंबन प्रतियोगिता का आयोजन किये जाने की तैयारी की जा रही है. इस प्रतियोगिता को आदिवासी परंपरा का एक हिस्सा बताया गया. वहीं, दूसरी ओर प्रतियोगिता पर भाजपा की तीखी प्रतिक्रिया देख विधायक साइमन मरांडी ने यू-टर्न लिया और इसे कमिटी का निर्णय कहकर प्रतियोगिता नहीं किये जाने की बात कही.

झारखंड की संस्कृति, परंपरा में चुंबन प्रतियोगिता जैसे अश्लील आयोजन का कोई स्थान नहीं : प्रतुल शाहदेव

नौ दिसंबर 2017 को लिट्टीपाड़ा चुंबन प्रतियोगिता का हुआ था आयोजन

पिछले साल आदिवासी परंपरा के नाम पर हुई चुंबन प्रतियोगिता से पूरे राज्य में बखेड़ा खड़ा हो गया था. लिट्टीपाड़ा में पिछले साल नौ दिसंबर को सिदो-कान्हू मेला के दौरान ‘दुलार चो’ नाम से प्रतियोगिता आयोजित हुई थी. इस दौरान झारखंड मुक्ति मोर्चा के दो विधायक स्टीफन मरांडी और साइमन मरांडी मौजूद थे. इसके बाद कई दिनों तक आरोप-प्रत्यारोप के बाद यह प्रतियोगिता विवाद के घेरे में आ गयी थी. इससे कई परिवारों में विवाद भी हुआ था. इस मुद्दे पर संतालपरगना समेत पूरे राज्य में सियासत भी गरमा गयी थी.

इसे भी पढ़ें- खदान क्षेत्र में है गैर मान्यता प्राप्त स्कूल, बच्चों की जान से खिलवाड़

इसे भी पढ़ें- झारखंड बिजली बोर्ड की विफलता : चार साल पहले खरीदते थे 5223 करोड़ की, मगर अब खरीदेंगे 6172 करोड़ की…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: