Business

विश्व बैंक को 2020 में भारत भेजी जाने वाली धनराशि में नौ फीसदी की गिरावट का अंदेशा

कोरोना वायरस महामारी एवं वैश्विक आर्थिक मंदी के कारण भारत प्रेषित की जाने वाली धन राशि नौ फीसदी गिर कर 76 अरब अमेरिकी डॉलर हो जायेगी

Washington :  विश्व बैंक ने  गुरुवार को कहा है कि कोरोना वायरस महामारी एवं वैश्विक आर्थिक मंदी के कारण भारत प्रेषित की जाने वाली धन राशि नौ फीसदी गिर कर 76 अरब अमेरिकी डॉलर हो जायेगी.

Jharkhand Rai

विश्व बैंक की ताजा रिपोर्ट में कहा गया है कि विदेशों से भेजे जाने वाले धन के मामले में भारत के बाद चीन, मैक्सिको, फिलिपीन और मिस्र 2020 में शीर्ष पांच देशों में शुमार हैं.

इसे भी पढ़ें :  पीएम मोदी  ने कहा, देश की इकोनॉमी तेजी से पटरी पर लौट रही है, विपक्ष को लिया निशाने पर

घर भेजे जाने वाले धन में 2021 तक 14 प्रतिशत की कमी आयेगी.

विश्व भर में कोविड-19 महामारी एवं आर्थिक संकट जारी रहने के बीच 2019 की तुलना में विदेशों में काम करने वाले लोगों द्वारा अपने घर भेजे जाने वाले धन में 2021 तक 14 प्रतिशत की कमी आयेगी.

Samford

जान लें कि पूर्व में विश्व बैंक के मुख्य अर्थशास्त्री हैंस टिमर ने कहा था कि भारत का परिदृश्य अच्छा नहीं है. टिमर ने कहा था कि यदि भारत में लॉकडाउन अधिक समय तक जारी रहता है तो यहां आर्थिक परिणाम विश्व बैंक के अनुमान से अधिक बुरे हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि इस चुनौती से निपटने के लिए भारत को सबसे पहले इस महामारी को और फैलने से रोकना होगा और साथ ही यह भी सुनिश्चित करना होगा कि सभी को भोजन मिल सके.

टिमर ने कहा कि इसके अलावा भारत को विशेष रूप से स्थानीय स्तर पर अस्थायी रोजगार कार्यक्रमों पर ध्यान केंद्रित करना होगा. टिमर ने कहा कि इसके साथ ही भारत को लघु एवं मझोले उपक्रमों को दिवालिया होने से बचाना होगा.

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: