JharkhandRanchiTOP SLIDER

हरमू नदी के सुंदरीकरण में रोड़ा अटका रहे 45 अतिक्रमणकारी, प्रशासन ने मूंद रखी हैं आंखें

Amit Jha

Ranchi : हरमू नदी का अस्तित्व खतरे में है. ऐसा अतिक्रमणकारियों और प्रशासन के रवैये की वजह से है. लगभग 18 किमी लंबी नदी नाले में तब्दील हो चुकी है. हालांकि, इसके सुंदरीकरण की दिशा में भी काम जारी है, लेकिन अतिक्रमणकारी इसमें लगातार रोड़े अटका रहे हैं. नदी के जीर्णोद्धार और रख-रखाव में लगी कंपनी ईगल इन्फ्रा ने सरकार से मदद की गुहार लगायी है. कहा है कि 45 अतिक्रमणकारियों के कारण नदी का बहाव क्षेत्र भी सिमट रहा है और गंदगी भी पसर रही है. सरकार इसके खिलाफ एक्शन ले. इधर, जिला प्रशासन, जुडको और रांची नगर निगम आंखें मूंद सिर्फ सरकारी कोरम पूरा करने की कवायद में जुटे हैं.

advt

इसे भी पढ़ें- Jharkhand में प्राइवेट स्कूलों की फीस तय करने के लिए हर जिले में कमिटी, DC होंगे अध्यक्ष

ईगल इन्फ्रा को मिला है मेंटेनेंस का जिम्मा

ईगल इन्फ्रा इंडिया लिमिटेड को हरमू नदी के जीर्णोद्धार, ऑपरेशन एंड मेंटेनेंस का जिम्मा रघुवर सरकार में मिला था. 17.8 किमी लंबी हरमू नदी का रांची में बहाव क्षेत्र 10.4 किमी है. नदी के सुंदरीकरण और रख-रखाव के लिए तकरीबन 85 करोड़ रुपये का प्रोजेक्ट तैयार किया गया था. 77 करोड़ रुपये से भी अधिक पैसे हरमू नदी के जीर्णोद्धार पर अब तक व्यय किये जा चुके हैं. चूंकि, शर्तों के मुताबिक इसी कंपनी को नदी के सुंदरीकरण के काम के अलावा ऑपरेशन और रख-रखाव का काम पांच सालों तक करना है, ऐसे में कंपनी की ओर से अलग-अलग स्तर पर काम जारी है.

कंपनी ने अरगोड़ा सीओ से किया हरमू नदी को अतिक्रमणमुक्त करने का आग्रह

ईगल इन्फ्रा कंपनी ने पिछले दिनों अरगोड़ा के अंचल अधिकारी को आवेदन देकर हरमू नदी को अतिक्रमणमुक्त करने का आग्रह किया है. कहा है कि हरमू नदी के जीर्णोद्धार का काम अभी जारी है. नदी के दोनों छोर पर पूर्व में कई भू माफियाओं ने अतिक्रमण कर लिया था. इसके बाद झारखंड हाई कोर्ट के आदेश पर 2015 में उन्हें हटाया गया था. फिर कंपनी ने इन जगहों पर बाउंड्री पिलर लगा दिया था. लेकिन, इन सबके बावजूद भू माफियाओं ने अपनी आदतें नहीं छोड़ी हैं. अब विद्या नगर, अरगोड़ा से लेकर अमरावती कॉलोनी तक सभी जगहों पर फिर से अतिक्रमण कर लिया गया है. खटाल और मकान बनाये जा रहे हैं. इससे नदी के सुंदरीकरण और दूसरे कामों पर असर पड़ रहा है. नदी पूरी तरह से साफ नहीं हो पा रही है. कंपनी ने ऐसे लोगों पर कार्रवाई की मांग की है.

हरमू नदी के सुंदरीकरण में रोड़ा अटका रहे 45 अतिक्रमणकारी, प्रशासन ने मूंद रखी हैं आंखें

इसे भी पढ़ें- रिम्स के ऑनकोलॉजी विभाग का हालः कैंसर मरीजों की कीमोथेरेपी में लगनेवाली 16 दवाओं में 8 उपलब्ध नहीं

तीन सालों में 45 पर FIR

2017 से दिसंबर 2020 तक अरगोड़ा, डोरंडा थाना में 45 अतिक्रमणकारियों के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज करायी गयी है. लेकिन, इन पर कोई एक्शन नहीं लिया नहीं गया है. कडरू, मुक्तिधाम (हरमू), विद्या नगर, स्वर्णरेखा, रिसालदार नगर, विद्या नगर पुल, कडरू पुल, कडरू, कृष्णापुरी, अमरावती (चुटिया) सहित अलग-अलग क्षेत्रों में नदी किनारे किये गये अतिक्रमण की शिकायत सीओ कार्यालय, अरगोड़ा में भी की गयी है, लेकिन ये शिकायतें बेनतीजा ही रही हैं.

हरमू नदी के सुंदरीकरण में रोड़ा अटका रहे 45 अतिक्रमणकारी, प्रशासन ने मूंद रखी हैं आंखें

क्या कहते हैं प्रशासनिक अधिकारी

रांची डीसी छवि रंजन ने न्यूज विंग से कहा कि रांची नगर निगम क्षेत्र में बहनेवाली हरमू नदी के संबंध में प्रमुख दायित्व रांची नगर निगम का है. अगर अतिक्रमण संबंधी मामला निगम के माध्यम से जिला प्रशासन के पास आता है, तो निश्चित तौर पर प्रशासन उस पर आगे बढ़कर सहयोग देगा. अरगोड़ा सीओ रविंद्र कुमार के मुताबिक, उनके यहां ईगल इन्फ्रा कंपनी का आवेदन होने की सूचना मिली है. इस आधार पर नियमतः अतिक्रमणकारियों को नोटिस भेजा जायेगा. साथ ही चिह्नित एरिया में मापी भी करायी जायेगी. नदी को अतिक्रमणमुक्त कराने के लिए लीगल एक्शन जरूर लेंगे.

वार्ड 26 के पार्षद अरुण कुमार झा मानते हैं कि हरमू नदी के किनारे अतिक्रमण हुआ है. यह लगातार हो रहा है. खटालों को निगम की तरफ से समय-समय पर हटाया जाता है, लेकिन कुछ समय बाद फिर से सारा कारोबार शुरू हो जाता है. इससे हरमू नदी में गंदगी फैल रही है. पांच फरवरी से एक बार फिर निगम की तरफ से स्पेशल ड्राइव चलाया जायेगा. निगम को जिला प्रशासन के साथ मिलकर लीगली काम करने की जरूरत है.

इसे भी पढ़ें- नियुक्ति नियमावली रद्द होने से 11,664 उम्मीदवारों का भविष्य अधर में

इन लोगों पर है हरमू नदी की जमीन पर अतिक्रमण करने का आरोप

क्र संनामस्थान
1इमरान कुंजराकडरू
2चोटोकडरू
3सुरेश यादवमुक्तिधाम
4जगलाल यादवमुक्तिधाम
5जनार्दन यादवविद्यानगर
6महानंद यादवस्वर्णरेखा
7अज्ञातस्वर्णरेखा
8नविदा खातूनरिसालदार नगर
9मो अब्दुल्लाहरिसालदार नगर
10मो अख्तररिसालदार नगर
11मो शाहिद अंसारीरिसालदार नगर
12मो सादिक अंसारीरिसालदार नगर
13जावेद इस्लामरिसालदार नगर
14फेकू शाहरिसालदार नगर
15छोटू शाहरिसालदार नगर
16मकबूलरिसालदार नगर
17मो वकील अहमदरिसालदार नगर
18मोहनेजा जफररिसालदार नगर
19हरेंद्र सिंहविद्यानगर पुल
20छोटेलाल सिंहविद्यानगर पुल
21गजाधर यादवविद्यानगर पुल
22रामकरण रायविद्यानगर पुल
23राजकरण रायविद्यानगर पुल
24मिठाले रॉयविद्यानगर पुल
25सुभाष यादवविद्यानगर पुल
26श्यामसुंदर रॉयविद्यानगर पुल
27आकाश रॉयविद्या नगर पुल
28तस्लीम अंसारीकडरू ब्रिज
29सद्दाम अंसारीकडरू ब्रिज
30नाविद खातूनकडरू
31मो अब्दुल्लाहकडरू
32मो अख्तरकडरू
33मो शाहिद अंसारीकडरू
34जावेद इस्लामकडरू
35फेक शाहकडरू
36चिंतू शाहकडरू
37मजबूलकडरू
38दिलीपकडरू
39मो वकील अहमदकडरू
40मोहनिया जफरकडरू
41अरविंद शर्मारिसालदार नगर
42रोहित मुंडाकृष्णापुरी (अमरावती)
43गोरख यादव
44शंभू सिंहअमरावती चुटिया
45मुन्ना सिंहअमरावती चुटिया

इसे भी पढ़ें- सांसद ने हज़ारीबाग झील व बिजुलिया तालाब के सौंदर्यीकरण के लिए सीएसआर सहयोग का किया आग्रह

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: