न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पाकुड़ः जगन्नाथ मंदिर में चोरी, मूर्ति के आभूषण और दानपेटी भी ले गये चोर

एक बाद एक मंदिरों में हो रही हैं चोरियां

1,904

Pakur:  रद्दीपुर ओपी के जगरन्नाथ एवं राधाकृष्ण मंदिर में बुधवार की रात अज्ञात चोरों द्वारा मंदिर का ताला खोल कर हजारों रूपये के आभूषण सहित मंदिर की दानपेटी उड़ा लेने का मामला प्रकाश में आया है. घटना को अंजाम देने के बाद चोर मंदिर का ताला गेट में लगाकर भाग निकले. चोरी की घटना की सूचना पाकर महेशपुर पुलिस निरीक्षक वीरेन्द्र कुमार पांडेय, महेशपुर थाना प्रभारी सुरेन्द्र कुमार सिंह, रद्दीपुर ओपी प्रभारी विनय कुमार सिंह, एएसआई बिरसा टूटी ने गुरुवार की सुबह मंदिर पहुंच कर मामले की छानबीन की. आसपास के ग्रामीणों एवं मंदिर के पुजारी सूर्य दास से भी पूछताछ की गयी. पुलिस चोरों का पता लगाने में जुट गयी है. पुजारी सूर्य दास ने बताया कि हर रोज की तरह बुधवार की रात पूजा-अर्चना के बाद रात करीब 8:45 बजे मंदिर का मुख्य गेट बंद कर वे घर चले गये थे.

32 हजार के आभूषण की चोरी

पुलिस के अनुसार रात में अज्ञात चोरों ने घटना को अंजाम दिया गया है. मंदिर का ताला खोलकर मंदिर में चोरों ने प्रवेश किया है. घटना की जानकारी पुजारी को तब मिली जब गुरुवार की सुबह 4:45 में वह मंदिर में पूजा करने आये. ग्रिल गेट में लगा ताला खोलने गये तो ताला में चाभी लगाते ही ताला अपने आप खुल गया. अंदर जाकर पुजारी ने देखा कि मंदिर में जन्नाथ भगवान व बलदेव भगवान का 700 ग्राम चांदी का मुकुट, कृष्ण भगवान का चांदी की बासुंरी, सोने का लॉकेट, भगवान का हाथ का बाजुवंध, राधा मां का पैर का पायल, मंदिर की दानपेटी के अलावे एक छोटा सा का गोपाल भगवान का पीतल की चोर चोरी कर ले गये. लगभग 32 हजार का आभूषण अज्ञात चोरों के द्वारा चुराने की लिखित शिकायत पुजारी सह वादी सूर्या दास ने की है.

ओपी से 100 मीटर की दूरी पर मंदिर  

जिस मंदिर में चोरी हुई है उसकी रद्दीपुर ओपी से दूरी मात्र 100 मीटर के लगभग है. ओपी और मंदिर दोनों आगे-पीछे हैं. ओपी के इतने समीप चोरी की घटना होने से पुलिस पर सवालिया निशान लग रहे हैं. घटना के बाद पुलिस की रात्रि गश्ती पर भी उंगली उठ रही है. घटना के बाद इतना स्पष्ट हो गया है कि पुलिस का खौफ चोरों के मन से खत्म हो गया है. रात्रि गश्ती करने वाली पुलिस टीम पर भी सवाल खड़ा हो गया है. नाम न छपवाने के नाम पर कुछ ग्रामीणों ने बताया कि यहां रात्रि गश्ती नहीं होती है. अगर पुलिस द्वारा लगातार रात्रि गश्ती की जाती तो शायद चोरी की घटना नहीं होती.

मंदिरों में होती रही हैं चोरियां

बताते चलें कि महेशपुर थाना क्षेत्र में विगत वर्षों में महेशपुर प्रखंड मुख्यालय के शिवमंदिर, वन विभाग के समीप स्थित शिवमंदिर, हाटपाड़ा स्थित काली मंदिर, लक्खीपुर गांव स्थित शिवमंदिर तथा नुड़ाई गांव में दो मंदिरों में भी चोरी की घटना घट चुकी है. जिसमें चोरी की घटना का खुलासा नहीं हो पाया है. शायद यही वजह है कि चोरों का मंदिर में चोरी करने को लेकर मनोबल बढ़ा हुआ है.

इसे भी पढ़ेंः हटाये गये बोकारो के डीसी और एसपी, शैलेश नये डीसी और पी मुरुगन बने नये एसपी

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: