Crime News

ट्रेन में लुटेरों से भिड़ी महिला, तो चलती ट्रेन से बाहर फेंका

Manoj Mishra

Ranchi: गोरखपुर से हटिया जा रही मौर्य एक्सप्रेस में लुटेरों से भिड़ी महिला उमा देवी को चलती ट्रेन से फेंक दिया गया. जसीडीह स्टेशन के पास हुई घटना के बाद रेलवे की हेल्पलाइन नंबर 182 पर लगातार कॉल करने के बाद भी मदद नहीं मिली. बाद में परिजनों को सूचना मिलने पर वे घटनास्थल पर पहुंचे. पूरा परिवार रात भर परेशान रहा. रात में ही जसीडीह रवाना हुए और शुक्रवार की सुबह उन्हें धनबाद के कार्मिक नगर के जिम्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया.

इसे भी पढ़ें – लोकसभा चुनाव का परिणाम तय कर देगा महागठबंधन का भविष्य

advt

यह है मामला

घटना के बारे में भुक्तभोगी उमा देवी ने कहा है कि रात के तकरीबन 12 बजे चलती ट्रेन में दो लड़के पर्स छीनने के लिए झपटे. इसके बाद भी दूसरे यात्री खामोश रहे. उमा देवी ने साहस दिखाया और अकेले ही उनसे भिड़ गई. इस बीच, महिला से धक्का-मुक्की होने लगी. साथ बैठी बेटी ने भी चिल्लाना शुरू किया. फिर भी कोई मदद को आगे नहीं आया. पर्स छीना-झपटी के बीच दोनों ने महिला को चलती ट्रेन से नीचे धकेल दिया. उसके बाद क्या हुआ कुछ भी मालूम नहीं. यह कहते-कहते महिला की आंखें नम हो गईं.

इसे भी पढ़ें – 2014 से पहले देश में एक मौनी बाबा का शासन रहा, जिन्होंने देश को अंधा बना दिया था : उषा पांडेय

182 पर नहीं लगा कॉल, फोन पर रेल पुलिस से नोक-झोंक 

भुक्तभोगी महिला के बेटे रोहित का कहना है कि पहले काफी देर तक 182 पर कॉल लगाया, पर लगा ही नहीं. फिर गूगल से रेलवे की दिल्ली हेल्पलाइन का नंबर ढूंढ़ कर निकाला. उस पर कॉल करने पर कहा गया कि लोकल टीटीई से बात कर लें. काफी देर बाद जसीडीह रेल पुलिस की महिला पुलिस ने रोहित को कॉल किया और महिला के बारे में पूछताछ करने लगी. रोहित का कहना था पहले मेरी मां को हॉस्पिटल में एडमिट करा दिया जाये. इस पर रेल पुलिस के साथ फोन पर नोक-झोंक भी हुई.

इसे भी पढ़ें – जेएमएम ने बेच दी झारखंड की अस्मिता, विधायक ने भी माना स्वार्थ का है महागठबंधन : रघुवर

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button