DhanbadJharkhand

देश की कोयला राजधानी में अंधविश्वास बरकरार, डायन के आरोप में महिला को पिलाया  मैला 

विज्ञापन

Dhanbad: झारखंड में कई तरह के अंधविश्वास कायम हैं. उनमें से एक है डायन प्रथा. झारखंड के सुदूरवर्ती  आदिवासी बहुल जिलों में डायन प्रथा और उससे जुड़े  अत्याचार के  मामले  अक्सर सुनने को मिल जाते हैं, लेकिन कोयला राजधानी  धनबाद में  इस तरह  के  मामले का उजागर होना समाज ही नहीं  जिला प्रशासन के लिए  जरूर चुनौती पेश करता है. डायन प्रथा की  रोकथाम के लिए झारखंड में सख्त कानून बनाये गये हैं.

देखें वीडियो-

इसे भी पढ़ें – alexa.com रैंकिंग में newswing.com को हिन्दी न्यूज पोर्टल श्रेणी में देश में 21वां रैंक

मारपीट भी की गयी

ताजा मामला  धनबाद  के पुटकी  थाना क्षेत्र के कच्छी बलिहारी इलाके  का  है. जहां सावित्री देवी नाम की महिला को पड़ोसियों द्वारा  मैला पिलाने  का  मामला प्रकाश में आया है. पीड़ित महिला की बेटी लीलावती पड़ोसियों द्वारा जबरन उसकी माँ के  साथ मारपीट करने और मैला पिलाने का  बात कह रही है. पीड़ित परिवार ने मामले की लिखित  शिकायत पुटकी थाने में की  है.

इसे भी पढ़ें – धोनी ग्लव्स मामले में BCCI ने ICC से मांगी अनुमति, विचार करेगी विश्व संस्था

दो दिन पहले की है घटना

पीड़िता ने महिला थाना में जो मामला दर्ज  करवाया गया है उसमें कहा गया है कि  घटना दो दिन पूर्व की है.  पीड़ित युवती  के अनुसार वह दो दिन पूर्व शाम को अपने घर पर थी, तभी पड़ोस की खेड़ी देवी, राजू महतो, मुकेश महतो, प्रकाश महतो, प्रमिला देवी और बादली देवी उनके घर में घुसे और मुझे व मेरी मां को डायन बिसाही कह कर पीटने लगे. साथ उन्होंने कहा कि दोनों मां-बेटी डायन हैं, इसी कारण उनके पिता बीमार रहते हैं. इसलिए इसको मारो. मारपीट के क्रम में हम लोग को जमीन पर पटक दिया और प्लास्टिक के थैले में लाये मैला को मेरी मां सावित्री देवी को पिला दिया.

इसे भी पढ़ें – लातेहार : रामचरण के घर पहुंच बोले एसडीएम – भूख से नहीं हुई है मौत, सबकुछ सामान्य

यही नहीं पीड़िता ने उसके साथ बदसलूकी करने का भी आरोप लगाया. फिलहाल  पीड़ित महिला  शुक्रवार को  धनबाद के पीएमसीएच  में इलाजरत है. वहीं इस पूरे मामले में पुटकी थाना प्रभारी ने जांच के बाद करवाई की बात कही है.

इसे भी पढ़ें – पूर्व टाउन प्लानर घनश्याम अग्रवाल चाहते हैं नगर निगम में वापसी, कर रहे हैं लॉबिंग

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close