Lead NewsOpinionRanchi

वो बेमिसाल योद्धा जिससे कांपती थी ब्रिटिश हुकूमत, घोखे से पकड़ा, तीसरे ही दिन फांसी पर लटकाया

1857 के स्वतंत्रता संग्राम के नायक तात्या टोपे के बलिदान दिवस पर विशेष

Naveen Sharma

Ranchi : 1857 में अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ हुए स्वतंत्रता संग्राम में तात्या टोपे ने बहुत ही दमदार भूमिका निभाई थी. उन्होंने अंग्रेजों के दांत खट्टे कर दिए थे. तात्या टोपे का जन्म सन 1814 ई. में नासिक के निकट पटौदा ज़िले में येवला नामक ग्राम में हुआ था. उनके पिता का नाम पाण्डुरंग त्र्यम्बक भट्ट तथा माता रुक्मिणी बाई थीं . तात्या टोपे देशस्थ कुलकर्णी परिवार में जन्मे थे. इनके पिता पेशवा बाजीराव द्वितीय के गृह-विभाग का काम देखते थे. तात्या का वास्तविक नाम ‘रामचंद्र पांडुरंग येवलकर’ था. ‘तात्या’ मात्र उपनाम था.

इसे भी पढ़ें :Corona Update : ऑक्सीजन की कमी दूर करने को  विभिन्न राज्यों के अस्पतालों में बनेंगे 162 ऑक्सीजन प्लांट

चार साल के थे तब आये बिठूर

तात्या टोपे जब मुश्किल से चार वर्ष के थे, तभी उनके पिता के स्वामी बाजीराव द्वितीय के भाग्य में अचानक परिवर्तन हुआ. बाजीराव द्वितीय 1818 ई. में बसई के युद्ध में अंग्रेज़ों से हार गए. उनका साम्राज्य उनसे छिन गया. उन्हें आठ लाख रुपये की सालाना पेंशन मंजूर की गई और उनकी राजधानी से उन्हें बहुत दूर हटाकर बिठूर, कानपुर में रखा गया.

बिठूर में ही तात्या टोपे का लालन-पालन हुआ. बचपन में उन्हें नाना साहब से अत्यंत स्नेह था. इसलिए उन्होंने जीवन-पर्यन्त नाना की सेवा की. उनका प्रारंभिक जीवन उदित होते हुए सूर्य की तरह था. क्रांति में योगदान की कहानी तांत्या के जीवन में कानपुर-विद्रोह के समय से प्रारंभ होती है. तांत्या काफी ओजस्वी और प्रभावशाली व्यक्ति थे. उनमे साहस, शौर्य, तत्परता, तत्क्षण निर्णय की क्षमता एवं स्फूर्ति आदी अनेक प्रमुख गुण थे.

इसे भी पढ़ें :अरबपति उद्योगपति कुमारमंगलम बिड़ला ने खरीदी 9,00,00,000 रुपये की CAR , जानिये इसमें क्या है खास

1857 के  संग्राम में अग्रेंजों के छुड़ाये छक्के

सन् 1857 के विद्रोह की लपटें जब कानपुर पहुंचीं और वहां के सैनिकों ने नाना साहब को पेशवा और अपना नेता घोषित किया. इसके बाद तात्या टोपे ने कानपुर में स्वाधीनता स्थापित करने में अगुवाई की. तात्या टोपे को नाना साहब ने अपना सैनिक सलाहकार नियुक्त किया. जब ब्रिगेडियर जनरल हैवलॉक की कमान में अंग्रेज सेना ने इलाहाबाद की ओर से कानपुर पर हमला किया तब तात्या ने कानपुर की सुरक्षा में अपना जी-जान लगा दी, परंतु 16 जुलाई, 1857  को इकी पराजय हो गयी और उसे कानपुर छोड देना पडा.

इसे भी पढ़ें :कोरोना के गंभीर मरीजों के उपचार में इस्तेमाल होने वाली Remedisvir के दाम में भारी कटौती, जानिये नयी कीमतें

सेना का पुनर्गठन किया

शीघ्र ही तात्या टोपे ने अपनी सेना का पुनर्गठन किया और कानपुर से बारह मील उत्तर में बिठूर पहुंच गये. यहां से कानपुर पर हमले का मौका खोजने लगे. इस बीच हैवलॉक ने अचानक ही बिठूर पर आक्रमण कर दिया. यद्यपि तात्या बिठूर की लडाई में पराजित हो गये परंतु उनकी कमान में भारतीय सैनिकों ने इतनी बहादुरी प्रदर्शित की कि अंग्रेज सेनापति को भी प्रशंसा करनी पडी.

इसे भी पढ़ें :27 से होने वाली जेईई मेन परीक्षा टली

यूरोप के समाचार पत्रों में भी छाये रहे तात्या

18 जून को रानी लक्ष्मीबाई ने वीरगति प्राप्त की तथा ग्वालियर अंग्रेजों के नियंत्रणमें आ गया. इसके बाद तात्या ने गुरिल्ला युद्ध की रणनीति अपनाई . तात्या पर दवाब बनाने के लिए अंग्रेजों ने उनके पिता, पत्नी तथा बच्चों को कैद में डाल दिया. तात्या को पकड़ने के लिए छह अंग्रेज सेनानी तीनों ओर से उन्हें घेरने का प्रयत्न कर रहे थे; परंतु तात्या उनके जाल में नहीं फंसे . इन तीन सेनानियों को छकाकर तथा पीछा कर रहे अंग्रेजी सेनिकों के छक्के छुडाकर 26 अक्टूबर 1858 को नर्मदा नदी पार कर दक्षिण में जा धमके . इस घटना को इंग्लैंड सहित यूरोप के समाचारपत्रों ने प्रमुखता से स्थान दिया .

इसे भी पढ़ें :खूंटी में  कोरोना की स्थिति विस्फोटक, दो मौतें, 127 नये मरीज, संख्या पहुंची 616

अंग्रेजों ने छल कर पकड़ा

निरंतर 10 माह तक अकेले अंग्रेजों को नाकों चने चबवानेवाले तात्या को पकडनेके लिए अंततः अंग्रेजों ने छल नीति का आश्रय लिया. ग्वालियर के राजा के विरुद्ध अयशस्वी प्रयास करनेवाले मानसिंह ने 7 अप्रैल 1859 को तात्या को परोणके वन में सोते हुए बंदी बना लिया. 15 अप्रैल को तात्या पर अभियोग चलाकर सैनिक न्यायालय ने फांसी पर चढ़ाने का निर्णय दिया.  इस वीर मराठा देशभक्त को 18 अप्रैल 1859 को फांसी पर चढ़ा दिया गया.

इसे भी पढ़ें :Ranchi womens college: सेमेस्टर की परीक्षाएं स्थगित

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: