न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भाई बहन का अटूट प्रेम प्रतिबिम्बित करता है करम

विश्व कल्याण की भावना से यहां के आदिवासी पूरी श्रद्धाभाव से अपने आराध्य की उपासना करते हैं

456

Raj Kumar Minz

त्योहार लोगों को अपनी परंपरा और आदर्शों से जोड़कर रखते हैं. करमा उत्सव (करम परब) में भी यह बात सच साबित होती है. विश्व कल्याण की भावना से यहां के आदिवासी पूरी श्रद्धाभाव से अपने आराध्य की उपासना करते है. और उल्लास व उमंग की छटा बिखेरते हुए नृत्य-वाद्य यंत्रों के सहारे ईश्वर से एकाकार होने का प्रयास करते हैं.

इसे भी पढ़ें – अलर्ट – आज के अखबारों में निकला है 2476 युवाओं को नौकरी देने का फर्जी विज्ञापन

हर वर्ष भाद्रपद एकादशी को करम पर्व मनाया जाता है. करम पर्व प्रकृति की पूजा है और झारखंड के आदिवासियों एवं मूलवासियों की संस्कृति का प्रतीक भी है. यूं तो करम देव की पूजा की तैयारी एकादशी से सात दिन पूर्व ही शुरु हो जाती है. जब युवतियां बांस की बनी नई टोकरी में पास के नदी से बालू भर कर लाती है. साथ ही नेक-नियम के साथ सात प्रकार के बीज जैसे- धान, जौ, मकई, चना, उड़द, खुखरी-बटुरी तथा सुरगुजा को मिला कर उस बालू भरी टोकरी में जावा उगाने के लिए रखती हैं. प्रत्येक दिन प्रात: काल स्नान इत्यादि के बाद उसमें जल अर्पण करती हैं. कुछ दिनों बाद उन बीजों पर पौधे निकल आते हैं. जिसे ‘जावा फूल’ कहते हैं.

इसे भी पढ़ें –   सर हाजिरी बनाने के लिए छुट्टी दीजिए इमली पेड़ पर चढ़ना है : पेड़ पर चढ़ते देखें वीडियो

silk_park

करम पूजा के लिए करम वृक्ष के तीन डाल को काट कर ‘अखरा’ में स्थापित किया जाता है. पूजा के दिन युवतियां दिनभर निर्जला व्रत रखती है. तथा संध्या को ‘पहान’ द्वारा पूजा-विधान के पश्चात ही प्रसाद खाती है. व्रतधारी जिन्हें ‘करमईत’ कहा जाता है. अपने साथ पूजा की सामग्रियों के रुप में फूल, दीप, धूप-धूवन, अगरबत्ती, खीरा, पकवान, जावा, सिन्दूर, हल्दी से रंगे नये कपड़े का टुकड़ा, एक लोटा जल इत्यादि ले कर अखरा जाती है. वहां पूजा के पश्चात करम राजा की कहानी सुनाई जाती है. जिसमें धन और धर्म की लड़ाई में आखिर-धर्म की जीत होती है ऐसा बताया गया है. करम राजा को कथा का सार यह है कि मनुष्य का अपने कर्म के प्रति निष्ठा, दूसरे मनुष्यों के प्रति भाईचारा एंव व्यवहार कुशलता अन्य जीव-जन्तुओं के प्रति श्रध्दा ही धर्म है.
इस पर्व मे भाई बहन का अटूट प्रेम प्रतिबिम्बित होता है. बहनें अपने भाईयों की सुख-समृध्दि के लिए उपवास रखती है. पूजा-अर्चना के पश्चात अखरा में नृत्य-संगीत का दौर चलता है. करमा पर्व के गीतों में प्रेम-श्रृंगार के साथ ही जीवन के अनेक गतिविधियों की अभिव्यक्ति देखी जा सकती है. करम नृत्य अति सुन्दर नृत्य होता है. जिसमें मूल वाद् यंत्र मांदर की धुन पर नृत्य किया जाता है. पर्व के दूसरे दिन करम डाल का विसर्जन किया जाता है.

इसे भी पढ़ें – तीन महीने बाद अयोग्‍य हो जायेंगे 70,175 सरकारी शिक्षक

करम पर्व मनाने की परंपरा झारखंड के अनेक जनजातियों में है. जैसे-उरांव, मुंडा, पहाड़िया, खड़िया इत्यादि. आदिवासियों के साथ रहने वाले झारखंड के मूलवासी जैसे- साहू, कुरमियों में भी करमा पर्व बहुत धूम-धाम से मनाया जाता है.
पर्व के मौके पर बैगाओ,पहान,पुजारी के द्वारा समाज के रीति-रिवाज से विशेष पूजा-अर्चना की जाएगी. इसके अलावा समाज के लोग पारंपरिक परिधानों में सज-धजकर मांद, झांझ, नगाड़े की थाप पर रात भर लोक नृत्यों में थिरकते रहेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: