JamshedpurJharkhand

प्री मैट्रिक में एक लाख बच्चों को छात्रवृत्ति देने का था लक्ष्य, 33379 का डाटा शिक्षा विभाग ने कल्याण विभाग को दिया ही नहीं

Jamshedpur : पूर्वी सिंहभूम जिले में 33379 विद्यार्थी छात्रवृत्ति से वंचित हैं. वर्ष 2021-22 में प्री मैट्रिक के एक लाख मेधावी विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति देने का लक्ष्य था, लेकिन अभी तक कुल 71720 विद्यार्थियों को ही छात्रवृत्ति का भुगतान किया गया है. शेष 33379 छात्रों का डाटा शिक्षा विभाग ने पोर्टल पर अपलोड करने के लिए कल्याण विभाग को अब तक दिया ही नहीं है. पूर्वी सिंहभूम जिले को  वर्ष 2021-2022 में प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना मद में 8 करोड़ 99 लाख रुपये का आवंटन मिला है. इसमें से वर्ष 2020-21 के बचे हुए 7516 छात्रों के बीच 69 लाख 5 हजार रुपये वितरित किये गये. वर्ष 2021-22 के कुल 71720 छात्रों को 8 करोड़ 15 लाख 2 हजार 250 रुपये  का भुगतान किया जा चुका है.  वित्तीय वर्ष 2021-22 में प्री मैट्रिक और पोस्ट मैट्रिक अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति एवं मेरिट व मींस योजना के तहत आवेदन करने की अंतिम तिथि 31 दिसंबर थी. संस्थाओं द्वारा उक्त आवेदनों को सत्यापित करने की अंतिम तिथि 15 जनवरी 2022 है. ऐसे में विभाग को 15 जनवरी 2022 के बाद ही अल्पसंख्यक छात्रों की छात्रवृत्ति से संबंधित आवेदन प्राप्त हो पायेंगे.

ram janam hospital

प्रखंडों से 130621 विद्यार्थियों का डाटा कल्याण विभाग को मिला

जिला कल्याण पदाधिकारी ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2021-22 में प्री मैट्रिक के एक लाख छात्रों को छात्रवृत्ति देने का लक्ष्य रखा गया है. विभिन्न प्रखंडों से 130621 छात्रों का आंकड़ा जिला कल्याण कार्यालय को मिला है. अब तक ई कल्याण पोर्टल में 110982 छात्रों का डाटा अपलोड किया जा चुका है. 19639 छात्रों का डाटा गलतियों को ठीक करने के लिए प्रखंडों को वापस किया गया है. शेष 33379 छात्रों का डाटा शिक्षा विभाग ने पोर्टल पर अपलोड करने के लिए कल्याण विभाग को अब तक दिया ही नहीं है. इस संबंध में पूछने पर जिला शिक्षा अधीक्षक विनीत कुमार ने बताया कि सभी प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वे छात्रवृत्ति से वंचित 33379 छात्रों का डाटा एकत्रित कर कार्यालय में जमा करें.

 एसटी, एससी और पिछड़ी जातियों के बच्चों को मिलती है स्कॉलरशिप 

बता दें कि झारखंड सरकार द्वारा अनुसूचित जाति, जनजाति और पिछड़ी जातियों के छात्र-छात्राओं को शिक्षित करने की योजना के तहत  प्राथमिक, माध्यमिक और इंटरमीडिएट में पढ़नेवाले छात्र-छात्राओं को वार्षिक छात्रवृत्ति की राशि दी जाती है. जिला कल्याण पदाधिकारी राजेश कुमार पांडे ने बताया कि कक्षा पहली से चौथी तक के छात्र-छात्राओं को 500 रुपये वार्षिक, कक्षा 5 से 6 तक के छात्र-छात्राओं को एक हजार रुपये वार्षिक और कक्षा 7 से 10वीं तक के छात्र-छात्राओं को 1500 रुपये वार्षिक छात्रवृत्ति कल्याण विभाग देता है. डीबीटी के माध्यम से यह राशि लाभुक छात्र-छात्राओं के खाते में सीधे भुगतान की जाती है. उन्होंने बताया कि इंटरमीडिएट या इसके समकक्ष तकनीकी शिक्षा प्राप्त कर रहे छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति मद में प्राप्त आवंटन राशि और लाभुकों की संख्या के आधार पर छात्रवृत्ति की राशि तय की जाती है, जो समय-समय पर घटती-बढ़ती रहती है.

इसे भी पढ़ें – चाईबासा : एआइडीएसओ ने शैक्षणिक समस्याओं पर कुलपति के समक्ष किया प्रदर्शन

Advt
Advt

Related Articles

Back to top button