न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, गोरक्षा के नाम पर हिंसा करने वालों पर लगाम कसने की जिम्मेवारी राज्यों की

378

NewDelhi : सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि गोरक्षा के नाम पर हिंसा करने वालों पर लगाम लगाने की जिम्मेदारी राज्यों की है. देशभर में हो रही भीड़ हिंसा पर सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को सख्त रुख अपनाते हुए कहा कि किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जा सकती. मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायाधीश एएम खानविलकर और डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने कहा कि यह कानून एवं व्यवस्था का मामला है और इसकी जिम्मेदारी संबंधित राज्यों की है. पीठ ने कहा कि वह इस मामले में एक विस्तृत फैसला सुनायेगी. बता दें कि गोरक्षा के नाम पर हो रही भीड़ हिंसा पर रोक लगाने के संबंध में दिशानिर्देश जारी करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में  याचिका दाखिल की गयी थी. कोर्ट ने इस मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है. सुनवाई के दौरान पीठ ने कहा कि हिंसा की घटनाएं वास्तव में भीड़ हिंसा के मामले हैं, जो कि अपराध है.

mi banner add

इसे भी पढ़ें- हज यात्रियों के प्रति ठीक नहीं है रघुवर सरकार की नीयत, सबका साथ सबका विकास खोखला नारा : कांग्रेस

 केंद्र इन मामलों पर नजर बनाये हुए है

Related Posts

राज्यसभा में बोले पीएम, मॉब लिंचिंग का दुख, पर पूरे झारखंड को बदनाम करना गलत

सरायकेला की घटना पर जताया दुख, कहा- न्याय हो, इसके लिए कानूनी व्यवस्था है

अतिरिक्त सॉलीसिटर जनरल पीएस नरसिम्हा ने कोर्ट से कहा कि केंद्र इन मामलों पर नजर बनाये हुए है और इन पर लगाम लगाने की भी कोशिशें कर रहा है.  कहा कि सबसे बड़ी समस्या कानून एवं व्यवस्था बनाये रखने की है.  पीठ ने कहा कि किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने की इजाजत नहीं है और ऐसी घटनाओं पर लगाम लगाने की जिम्मेदारी राज्यों की है. पिछले साल छह सितंबर को सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों से कहा था कि वे गोरक्षा के नाम पर हिंसा को रोकने के लिए सख्त कदम उठाये. इस क्रम में महात्मा गांधी के परपोते तुषार गांधी ने कोर्ट में एक अवमानना याचिका दाखिल की थी. याचिका में तुषार गांधी ने हरियाणा, राजस्थान और यूपी पर कोर्ट के आदेश का पालन नहीं करने का आरोप लगाया है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: