Corona_UpdatesLead NewsWorld

कोरोना के डेल्टा वेरिएंट के कहर से अमेरिका में हालात बदतर, ऑक्सीजन की भी भारी कमी

कई अस्पतालों को अपने रिजर्व से ऑक्सीजन का इस्तेमाल करना पड़ रहा

New Delhi : अमेरिका में कोरोना वायरस के डेल्टाी वेरिएंट का कहर बढ़ता ही जा रहा है और भारत की तरह ही यहां पर भी कई अस्पतालों में ऑक्सी‍जन की भारी कमी देखी जा रही है. बताया जा रहा है कि अमेरिका के दक्षिणी हिस्सेप में अस्पतालों की हालत बेहद खराब है. इस क्षेत्र में आ रहे ज्यादातर कोरोना के मामले उन लोगों के हैं जिन्होंने वैक्सीन नहीं लगवाई है. कोरोना वायरस की चपेट में अब तक लाखों अमेरिकी आ चुके हैं.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें :बिहारः पंचायत चुनाव को लेकर बड़ी संख्या में होगा दारोगा का तबादला

MDLM

दक्षिणी राज्यों फ्लोरिडा, साउथ कैरोलीना में ऑक्सीजन की भारी कमी

सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका के दक्षिणी राज्यों फ्लोरिडा, साउथ कैरोलीना, टेक्सास आदि में ऑक्सीजन की भारी कमी हो गई है.

आलम यह है कि अस्पातालों को अपने रिजर्व से ऑक्सीजन का इस्तेमाल करना पड़ रहा है या उनकी सप्लाइ खत्म होती जा रही है. खबर में कहा गया है कि इन राज्यों में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों की वजह से ऑक्सीजन की डिमांड बहुत ज्या दा हो गई है.

इसे भी पढ़ें :बिहार में कई ट्रेनों का बदला गया रूट, एक क्लिक में देखें ट्रेनों की पूरी लिस्ट

डेल्टा वेरिएंट से खराब हो रहे हैं फेफड़े

उधर, कम सप्लाइ की वजह से अस्पेताल मांग को पूरा नहीं कर पा रहे हैं. आमतौर पर ऑक्सीजन की सप्लाइ टैंक के 90 फीसदी आने पर कर दी जाती थी लेकिन अब 30 से 40 तक आने पर टैंक को भरा जा रहा है.

डॉक्टरों का कहना है कि डेल्टा वेरिएंट की वजह से लोगों के फेफड़े खराब हो रहे हैं जिससे कई मरीजों की मौत हो रही है. उन्होंने बताया कि मरने वालों की दर बहुत ज्यादा है.

इसे भी पढ़ें :Vinod Kumar Loses Bronze: टोक्यो पैरालंपिक में भारत को झटका, विनोद का कांस्य पदक रद्द

अमेरिका में 6,37,525 लोगों की हो चुकी है मौत

इस बीच दुनियाभर में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर 21.63 करोड़ हो गए है. इस महामारी से अब तक कुल 45 लाख से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी हैं. वहीं अभी तक 5.19 अरब से ज्यादा लोगों का टीकाकरण हो चुका है. ये आंकड़े जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ने साझा किए.

वर्तमान वैश्विक मामले, मरने वालों की संख्या और टीकाकरण की संख्या क्रमश: 216,356,046, 4,500,291 और 5,191,545,258 हो गई है.

सीएसएसई के अनुसार, दुनिया के सबसे अधिक मामलों और मौतों की संख्या क्रमश: 38,796,236 और 6,37,525 के साथ अमेरिका सबसे अधिक प्रभावित देश बना हुआ है.

इसे भी पढ़ें :नीतीश कुमार PM पद के उम्मीदवार नहीं, जदयू राष्ट्रीय परिषद की बैठक में प्रस्ताव पारित

मौतों के मामले में ब्राजील दूसरे नंबर पर

कोरोना संक्रमण के मामले में भारत 32,695,030 मामलों के साथ दूसरे स्थान पर है. सीएसएसई के आंकड़े के अनुसार 30 लाख से ज्यादा मामलों वाले अन्य सबसे प्रभावित देश ब्राजील (20,741,815), फ्रांस (6,827,146), रूस (6,785,465), यूके (6,762,904), तुर्की (6,329,519), अर्जेंटीना (5,173,531), कोलंबिया (4,905,258), ईरान (4,926,964 , स्पेन (4,831,809), इटली (4,530,246), इंडोनेशिया (4,073,831), जर्मनी (3,940,212) और मैक्सिको (3,328,863) हैं.

कोरोना से हुई मौतों के मामले में ब्राजील 579,308 मामलों के साथ दूसरे नंबर पर है. जिन देशों में मरने वालों की संख्या 100,000 के पार चली गई हैं उनमें भारत (437,830), मैक्सिको (257,906), पेरू (198,115), रूस (178,457), यूके (132,760), इंडोनेशिया (131,923), इटली (129,093), कोलंबिया (124,811) फ्रांस (114,506), अर्जेंटीना (111,383) और ईरान (106,482) शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें :लालू के बड़े लाल फिर लाइव आये और ज्ञान देकर चल दिये

Related Articles

Back to top button