न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भारतीय लोकतंत्र में मीडिया की भूमिका पर बोले प्रणब दा, फेक न्यूज आज सबसे बड़ा खतरा

प्रणब मुखर्जी ने सलाह दी कि सांप्रदायिक बयानों के प्रति संवेदनशीलता बरतने की आवश्यकता

32

 NewDelhi  : सत्ता में बैठे लोग जनता से सीधे संपर्क में होते हैं, ऐसे में मीडिया को उनसे सवाल पूछना चाहिए. वास्तविक रूप में लोकतांत्रिक समाज की रक्षा के लिए यह कदम जरूरी है. यह विचार पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने रविवार को भारतीय लोकतंत्र में मीडिया की भूमिका विषय पर आयोजित कार्यक्रत में रखे.  इस क्रम में प्रणब मुखर्जी ने सलाह दी कि सांप्रदायिक बयानों के प्रति संवेदनशीलता बरतने की आवश्यकता है. साथ ही उन्होंने फर्जी खबरों को यानी फेक न्यूज को आज का सबसे बड़ा खतरा बताया और कहा कि इसका इस्तेमाल सामाजिक, राजनीतिक और सांप्रदायिक नफरत फैलाने के लिए किया जाता है.

इसे भी पढ़ें : अवैध रोहिंग्याओं को बसाने में मदद कर रहे एनजीओ गृह मंत्रालय के रडार पर, कार्रवाई संभव

नौकरशाहों को देश के विकास में सबसे बड़ी बाधा कहा था

पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी इन दिनों कई कार्यक्रम में भाग ले रहे हैं. एक दिन पूर्व शनिवार को आईआईएम, अहमदाबाद में गेस्ट फैकल्टी के रूप में पहुंचे पूर्व राष्ट्रपति  ने नौकरशाहों को देश के विकास में सबसे बड़ी बाधा कहा था. श्री मुखर्जी भारत के विकास और लोकनीति विषय पर बोल रहे थे. उन्होंने कहा था कि विकास में सबसे बड़ी बाधा नौकरशाह हैं. वे विकास में अड़ंगा लगाते हैं और उसे काम नहीं करने के बहाने तलाश करते हैं. इसे तत्काल सुधारना जरूरी है. साथ ही श्री मुखर्जी ने कहा कि मेरा आशय यह कतई नहीं कि नौकरशाही ने कोई योगदान नहीं किया है. लेकिन इसके साथ ही यह भी ध्यान में रखना होगा कि दुनिया तेजी से बदल रही है. हमें भी उसके साथ बदलना होगा. उन्होंने सिविल सर्वेंट्स की चर्चा करते हुए कहा कि इनके द्वारा बाधा खड़ी करने के रास्ते तलाशे जाते हैं, काम नहीं करना पड़े और बहाने कैसे बनाये जायें, ऐसी कोशिश होती है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: