Bihar

पीएम मोदी से संबंध काफी बेहतर, पर विवादित मुद्दों पर करते रहेंगे विरोध : नीतीश कुमार

Patna : बिहार के मुख्यमंत्री  नीतीश कुमार ने सोमवार को अपने लोक संवाद कार्यक्रम के बाद संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा कि नीति आयोग कीअगली बैठक में वे अपनी इस मांग को दोहराएंगे कि केंद्र प्रायोजित योजनाएं राज्य पर थोपी न जायें. नीतीश कुमार ने कहा कि केंद्र सरकार में शामिल नहीं होने को लेकर जदयू और भाजपा के बीच किसी तरह का विवाद या भ्रम नहीं है.

पटना में सोमवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए नीतीश कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मेरे जैसे संबंध पहले थे वैसे ही अब भी हैं.  हम दोनों के संबंध काफी बेहतर हैं. विपक्ष पर निशाना साधते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि चुनाव के दौरान मेरे बारे में काफी कुछ बोला गया लेकिन मैं चुप रहा.मेरी चुप्पी का जनता ने करारा जवाब दिया है. मैंने चुनाव में ज्यादा न बोलने का प्रयोग किया था जोकि काफी सफल रहा.  उन्होंने कहा कि हम बुनियादी सिद्धांतों से कोई समझौता नहीं करते हैं और जदयू विवादित मुद्दों पर अपना विरोध आगे भी जताती रहेगी.

बता दें कि नीतीश कुमार ने वर्तमान में चल रही केंद्र प्रायोजित योजनाओं के मॉडल का एक बार फिर विरोध किया है. नीतीश कुमार के अनुसार इसकी जगह देश में एक केंद्र की योजना हो, जहां सारा भार केंद्र उठाये और एक राज्यों की योजना हो जिसका आर्थिक भार वे अपने खजाने से उठायें. नीतीश कुमार के अनुसार राज्यों को हर वर्ष केंद्र की अलग-अलग स्कीम के लिए मैचिंग ग्रांट के नाम पर काफीआर्थिक भार उठाना पड़ता है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

नीतीश कुमार ने कहा कि इसका एक ही समाधान है कि पूरे देश में एक केंद्र की स्कीम हो और एक राज्य की. केंद्र की स्कीम का सारा भार केंद्र सरकार उठाये और राज्यों की स्कीम का भार राज्यों के ऊपर छोड़ देना चाहिए.कहा कि पंद्रहवें वित्त आयोग के सामने उन्होंने इस मुद्दे को उठाया है और उम्मीद है उनकी इस मांग पर कोई फैसला लिया जायेगा.

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

इसे भी पढ़ेंःदुमकाः आदिवासी युवती से गैंगरेप केस में 11 दोषियों को आजीवन कारावास

फिलहाल केंद्र ने विशेष राज्य के दर्जे को खत्म कर दिया है

नीतीश कुमार से जब यह पूछा गया कि क्या बिहार के विशेष राज्य के मुद्दे को उन्हें छोड़ दिया है तब उनका कहना था कि यह मांग जारी है लेकिन फिलहाल केंद्र ने विशेष राज्य के दर्जे को खत्म कर दिया है. लेकिन केंद्र सरकार पर उन्हें पक्का भरोसा और विश्वास है कि बिहार के विकास से संबंधित मुद्दों को वो गंभीरता से लेगी. इससे पूर्व केंद्र में नरेंद्र मोदी की दोबारा सरकार बनने से पहले एनडीए की एक बैठक में नीतीश कुमार ने अपने भाषण में अपील की थी कि सरकार बनने के बाद जो भी पिछड़े राज्य हैं उन्हें विकसित राज्यों के स्तर पर लाने के लिए हर संभव प्रयास किया जायेगा.

नीतीश कुमार ने कहा कि धारा 370, राम मंदिर निर्माण पर हमारा पक्ष साफ है और इसमें कोई उलझन नहीं है.  बिहार के लोगों ने काम के आधार पर एनडीए को जबर्दस्त समर्थन दिया है.  उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल में शामिल होने या न होने को लेकर भ्रम फैलाने की जरूरत नहीं है और इस मामले को लेकर हमारी कोई नाराजगी नहीं है.

इसे भी पढ़ेंःराजधानी रांची में चोरों का कहरः कार का शीशा तोड़कर 35 लाख के जेवरात की चोरी

Related Articles

Back to top button