Education & Career

रांची विश्वविद्यालय चांसलर पोर्टल की खामियों को ठीक करे, नहीं तो होगा उग्र आंदोलन : ABVP

Ranchi:  अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) रांची महानगर के द्वारा रांची विश्वविद्यालय में व्याप्त विभिन्न समस्याओं को लेकर एक दिवसीय सांकेतिक धरना दिया गया. सांकेतिक धरना के क्रम में रांची अभाविप के प्रतिनिधिमंडल ने रांची विश्वविद्यालय में व्याप्त विभिन्न समस्याओं से प्रति कुलपति डॉ कामिनी कुमार को अवगत कराया.

Jharkhand Rai

एबीवीपी रांची के प्रतिनिधिमंडल ने चांसलर पोर्टल के संदर्भ में कहा कि आज छात्रों को वेबसाइट खोलने एवं एक फॉर्म भरने में लगभग 1 से 2 घंटे का समय लग रहा है. ग्रामीण क्षेत्रों के छात्र-छात्राओं के पास टेक्नोलॉजी की कमी होने के कारण अधिकतर छात्र छात्राएं फॉर्म भरने से वंचित हो रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – ‘बिग बाजार’ वाला फ्यूचर रिटेल भी दीवालिया होने के कगार पर, किशोर बियानी का भी नंबर आ ही गया

कई प्रकार की समस्याएं आ रहीं फॉर्म भरने में

नामांकन फॉर्म भरने के पश्चात पेमेंट संबंधित दिक्कतों से जूझना पड़ रहा है. दुर्भाग्यवश अगर विद्यार्थी किसी भी प्रकार की गलत जानकारी भरता है तो उसे सुधारने का विकल्प नहीं दिया जा रहा है. मेरिट लिस्ट बनाने में भी काफी गड़बड़ी हो रही है. ऑनलाइन के साथ-साथ ऑफलाइन फॉर्म भरने का भी प्रबंध विश्वविद्यालय को करना चाहिए,जिससे कि जो छात्र ऑनलाइन आवेदन नहीं कर पाये, वैसे छात्र ऑफलाइन अपना नामांकन का आवेदन कर सकें.

Samford

मौके पर प्रति कुलपति डॉ कामिनी कुमार ने कहा कि चांसलर पोर्टल में व्याप्त समस्याओं का जल्द निवारण कर लिया जायेगा, परंतु चांसलर पोर्टल राजभवन से नियंत्रित है. विश्वविद्यालय इसमें कोई हस्तक्षेप नहीं कर सकता.

इसे भी पढ़ें – Ranchi : बुधवार से खुलेगा अटल वेंडर मार्केट, सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क और थर्मल स्क्रैनर से जांच जरूरी

रांची विवि समस्याओं को हल करे

इस पर अभाविप के प्रतिनिधिमंडल ने विश्वविद्यालय से यह मांग की है कि रांची विश्वविद्यालय अविलंब इन सारी समस्याओं का निवारण जल्द करे, अन्यथा छात्र हित में अभाविप उग्र आंदोलन को बाध्य होगी. प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि रांची विश्वविद्यालय को भी दूसरे विश्वविद्यालयों के तर्ज पर अपने पोर्टल के माध्यम से छात्रों का नामांकन लेना चाहिए. अभी तक चांसलर पोर्टल के माध्यम से 10 से 15% आवेदन आया है.

चांसलर पोर्टल के चलते विश्वविद्यालय की स्वायत्तता समाप्त हो गयी है. चांसलर पोर्टल में व्याप्त समस्याओं को लेकर छात्रों में संशय की स्थिति बनी हुई है, जिससे कि वे आर्थिक व मानसिक रूप से परेशान हैं. इसके लिए विश्वविद्यालय अपने ही माध्यम से नामांकन ले, झारखंड की सरकार को भी इसमें आगे आकर छात्र हित में चांसलर पोर्टल हटा कर, रांची विश्वविद्यालय को अपने स्तर पर नामांकन लेने की स्वीकृति प्रदान करनी चाहिए.

मौके पर अभाविप प्रतिनिधिमंडल में प्रदेश सोशल मीडिया प्रमुख विशाल सिंह, रांची विश्वविद्यालय छात्र संघ अध्यक्ष नीरज कुमार, डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय अध्यक्ष प्रणव गुप्ता, अभाविप रांची महानगर सह मंत्री रोमा तिर्की, अनिकेत सिंह, श्याम वर्मा, प्रेम प्रतीक, रितेश, रवि, आदित्य ,सचिन, शुभम पुरोहित, इत्यादि उपस्थित हुए.

इसे भी पढ़ें – कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में नहीं हुआ नए अध्यक्ष का फैसला, सोनिया गांधी बनी रहेंगी अंतरिम अध्यक्ष

Advertisement

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: