न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीआरपीएफ में घटिया हेलमेट की खरीद, आतंकियों की गोली झेल नहीं सकते, पीएमओ से शिकायत

केंद्रीय गृह मंत्रालय के सूत्रों ने बताया सीआरपीएफ अधिकारी ने पीएमओ की दी शिकायत में कहा है कि जो हेलमेट खरीदे जा रहे हैं वो एके-47 जैसे असाल्ट राइफल की गोली झेलने लायक नहीं हैं.

81

NewDelhi :  सीआरपीएफ में घटिया हेलमेट की खरीद का मामला सामने आया है .  टेलीग्राफ के अनुसार जम्मू कश्मीर में तैनात सीआरपीएफ के एक अधिकारी ने घटिया गुणवत्ता के हेलमेट और पटका की खरीद पर सवाल उठाते हुए इस संबंध में प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) से शिकायत की है.  टेलीग्राफ की खबर के अनुसार यह शिकायत उस समय सामने आयी है जिस समय देश में लोकसभा चुनाव हो रहे हैं. इतना ही नहीं चुनाव प्रचार के केंद्र में पुलवामा हमले के शहीदों और एयर स्ट्राइक का भी जिक्र किया जा रहा है.

केंद्रीय गृह मंत्रालय के सूत्रों ने बताया सीआरपीएफ अधिकारी ने पीएमओ की दी शिकायत में कहा है कि जो हेलमेट खरीदे जा रहे हैं वो एके-47 जैसे असाल्ट राइफल की गोली झेलने लायक नहीं हैं.

इसे भी पढ़ें- पश्चिम बंगाल में फिर हिंसा, बीजेपी ने लगाया टीएमसी पर फर्जी वोटिंग और मारपीट का आरोप

हेलमेट सिर्फ 9एमएम की गोली को ही झेल सकते हैं

सामान्य रूप से कश्मीर में आतंकी एक-47 व इसके जैसे ही असाल्ट राइफल का प्रयोग करते हैं. शिकायत में यह भी कहा गया है कि जो हेलमेट खरीदे जा रहे हैं वह सिर्फ 9एमएम की गोली को ही झेल सकते हैं. 9 एमएम की गोली को साधारण रिवाल्वर या राइफल से चलाया जाता है. अधिकारियों ने कहा कि गृह मंत्रालय ने इस संबंध में सीआरपीएफ के शीर्ष अधिकारियों व अर्द्धसैनिक बल के मुख्य सतर्कता अधिकारी से रिपोर्ट मांगी है.

मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार शिकायत में पीएमओ से इस 9एमएम की गोली से सुरक्षा वाले हेलमेट की खरीद को रोकने का आग्रह किया गया है, जिसे निजी कंपनी से खरीदा जा रहा है.

अधिकारी ने कथित रूप से आरोप लगाया है कि इसी प्राइवेट कंपनी ने पहले मुंबई पुलिस और राजस्थान पुलिस को बुलेट प्रूफ जैकेट की सप्लाई की थी जो सेफ्टी टेस्ट में फेल हो गये थे.

इसे भी पढ़ें-  गुफा में 17 घंटे के ध्यान-साधना के बाद मोदी ने फिर केदारनाथ मंदिर में की पूजा अर्चना

 सीआरपीएफ में 1.22 लाख बुलेट प्रूफ हेलमेट की जरूरत

सीआरपीएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हेलमेट खरीद मामले की जांच की जा रही है. खरीद प्रक्रिया को अभी अंतिम रूप दिया जाना है. किसी कंपनी विशेष को तरजीह दिए जाने के आरोप गलत और आधारहीन हैं.गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने हेलमेट की कमी के बारे में बड़ा खुलासा किया. अधिकारी ने कहा कि सीआरपीएफ में 1.22 लाख बुलेट प्रूफ हेलमेट की अधिकृत संख्या के मुकाबले महज 5466 हेलमेट ही मौजूद हैं.

इस तरह यह निर्धारित संख्या से 95 फीसदी कम है. मालूम हो कि हाल के महीनों में बीएफएफ और सीआरपीएफ के जवान अद्धसैनिक बलों में कथित रूप से भ्रष्टाचार की शिकायत कर चुके हैं. जवानों की शिकायत है कि उन्हें कैंपों में ठीक खाना नहीं मिल रहा है.

इसे भी पढ़ें- प्रधानमंत्री मोदी की केदारनाथ यात्रा पर तृणमूल कांग्रेस लाल, चुनाव आयोग से गुहार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: