JharkhandPalamu

शहीदों के परिजनों को पुलिस ने घर जाकर दिया सम्मान, दर्द बांटकर हर संभव मदद का दिलाया भरोसा

Palamu : 21 अक्टूबर को पलामू सहित पूरे देश में पुलिस संस्मरण दिवस मनाया गया. इसी दिन शहीदों को जहां श्रद्धांजलि दी गयी, वहीं उनके परिजनों को सम्मानित किया गया. इस कार्यक्रम में जिन शहीदों के परिजन नहीं पहुंच पाये थे, उनको सम्मानित करने के लिए पुलिस के पदाधिकारी शुक्रवार को उनके गांव पहुंचे. इस दौरान मेदिनीनगर सदर और विश्रामपुर पुलिस अनुमंडल क्षेत्र में कई शहीद जवानों के परिजनों को सम्मानित किया गया.

फोटो: शहीद के परिजनों को सम्मान देते सदर और विश्रामपुर एसडीपीओ

बुके और शॉल देकर किया सम्मानित

ram janam hospital
Catalyst IAS

विश्रामपुर पुलिस अनुमंडल क्षेत्र के उंटारी रोड थाना के लुम्बा सतबहिनी पंचायत के रहनबीघा गांव जाकर विश्रामपुर एसडीपीओ सुरजीत कुमार ने शहीद ओमप्रकाश यादव के परिजन को बुके और शॉल देकर सम्मानित किया. मौके पर उंटारी रोड के थाना प्रभारी ऋषिकेश कुमार राय समेत पुलिसकर्मी और गांव के कई लोग मौजूद थे. ओमप्रकाश यादव वर्ष 2010 में लातेहार जिला के बरवाडीह थाना क्षेत्र में हुई नक्सली घटना में शहीद हुए थे. एसडीपीओ ने शहीद के परिजनों से मिलकर उनका दर्द बांटते हुए उन्हें हर संभव मदद करने का भी भरोसा दिलाया. उन्होंने कहा कि शहीद के परिजन के साथ प्रशासन हमेशा खड़ा है.

The Royal’s
Sanjeevani

इधर, मेदिनीनगर सदर पुलिस अनुमंडल क्षेत्र में एसडीपीओ संदीप गुप्ता के नेतृत्व में पाटन और सदर थाना क्षेत्र में तीन शहीद पुलिस जवानों के परिजनों को सम्मानित किया गया. पाटन थाना क्षेत्र के सिक्की खुर्द में शहीद आरक्षी रामसूरत सिंह के भाई कुलदीप सिंह को सम्मानित किया गया. उन्हें शॉल और बुके दिया गया तथा उनकी वर्तमान स्थिति की जानकारी ली गयी. रामसूरत सिंह वर्ष 2001 में मनातू थाना क्षेत्र में शहीद हो गये थे.

इसी तरह पाटन के पाल्हे कला निवासी शहीद आरक्षी उपेंद्र सिंह के पिता कृष्णवल्लभ सिंह को शॉल एवं बुके देकर सम्मानित किया गया. उपेंद्र सिंह वर्ष 2010 में हुसैनाबाद थाना क्षेत्र में शहीद हो गये थे.

सदर थाना क्षेत्र के जमुने के कुम्हार टोला निवासी शहीद पुलिस चालक किशोरी प्रजापति के पिता को सम्मान दिया गया. किशोरी प्रजापति 03.12.2011 को लातेहार जिले के गारू थाना क्षेत्र में नक्सलियों के बम विस्फोट में शहीद हो गये थे. नक्सलियों द्वारा चतरा के तत्कालीन सांसद इंदर सिंह नामधारी के एस्कॉर्ट पुलिस वाहन को बारूदी सुरंग विस्फोट कर उड़ा दिया गया था. विस्फोट के बाद मुठभेड़ में किशोरी प्रजापति शहीद हो गये थे. उनकी नियुक्ति 2010-11 में हुई थी. किशोरी प्रजापति की पत्नी किरण देवी जिला पुलिस की जवान है और लातेहार के गारू थाना में पोस्टेड है. किरण अपनी बेटी के साथ गारू में ही रहती हैं. किशोरी प्रजापति के पिता जमुने के कुम्हार टोला में रहते हैं.

Related Articles

Back to top button