JharkhandRanchi

अतिक्रमण हटाओ अभियान से बेघर हुए लोगों का छलका दर्द- भगवान का पिंडा तो छोड़ देते

Ranchi: शहर में अतिक्रमण हटाने का काम जारी है. हाइकोर्ट की फटकार के बाद जिला प्रशासन और नगर निगम की टीम ने अतिक्रमण हटाने का काम तेजी से करना शुरू किया. बीते मंगलवार से शुरू हुआ काम अब तक जारी है. जिला प्रशासन और नगर निगम की टीम ने अबतक 50 से अधिक घरों को तोड़ दिया है. बेघर हुए लोगों ने जिला प्रशासन और नगर निगम की टीमों पर हमला बोला और कई तरह के आरोप लगाया है.

बेघर हुए लोगों ने कहा कि यही हमारा आशियाना था लेकिन इसके टूट जाने से हमारी जिंदगी तबाह हो गयी है. आज बंधु नगर के लोगों ने कहा कि अतिक्रमण हटाने आए लोगों ने भगवान को भी नहीं छोड़ा है.

से भी पढ़ें :कोविशील्ड की 5 लाख 30 हजार डोज पहुंची

बेघर हुए लोगों ने कहा कि भगवान के खातिर छोड़ देता तो क्या हो जाता. यहां पर कई ऐसे लोग हैं जो अतिक्रमण कर रह रहे हैं लेकिन जिला प्रशासन और नगर निगम की टीम उन लोगों के घर को टच भी नही पाती है.

बेघर हुए लोगों ने कहा कि हमारा सारा सामान बर्बाद हो गया है और जिंदगी भर की कमाई को इन लोगों ने नष्ट कर दिया है. बेघर हुए लोगों में से कोई ठेला चलाता है तो कोई खाना बनाने का काम करता है.

लोग अपने पार्षद कृष्णा महतो प्रसाद के पास गये थे लेकिन मदद नहीं मिली. स्थानीय लोग विधायक नवीन जायसवाल के पास गये लेकिन वहां भी समाधान नहीं मिला.

से भी पढ़ें :खनन के लिए दी गयी जमीन का 56 हजार करोड़ बकाये का भुगतान करे कोल इंडियाः मुख्यमंत्री

सामने आशियाना उजड़ते देख कई लोग बेहोश भी हुए थे. कई परिवार दिखे जो पूरा सामान के साथ खुले आसमान में रात गुजारने को तैयार हैं.

बेघर हुए लोगों ने कहा कि भगवान का एक छोटा सा पिंडा था लेकिन अतिक्रमण हटाने आए लोगों ने उसको भी नहीं बख्शा और पिंडा उखाड़ दिया. बेघर हुए लोगों ने कहा कि अब हमारा इस संसार में कोई नही है और हमलोग अब भगवान भरोसे हैं.

से भी पढ़ें : गेस्ट की लिस्ट में सबसे नीचे था मेयर का नाम, इसलिए सीएम के कार्यक्रम में नहीं हुईं शामिल

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: