JharkhandLead NewsRanchi

किसानों को सोलर पंप देने की गति धीमी, एजेंसियां जरेडा को नहीं दे रही परफार्मेंस रिपोर्ट

केंद्र का निर्देश 31 मार्च तक कार्य पूरा करें, दस हजार किसानों को दिये जाने हैं सोलर पंप

Ranchi : दस हजार किसानों को सोलर पंप देने की योजना साल 2018 से अधूरी है. केंद्र सरकार, जरेडा और एजेसियों के बीच लाभुकों को परेशानी हो रही है. सोलर पंप कुसुम योजना के तहत दी जानी है. केंद्र सरकार ने योजना के लिये दो एजेंसियों का चयन किया है. जिनमें वीआरजी और सोलेक्स ग्रुप शामिल हैं. एजेंसियां तय लक्ष्य के तहत किसानों को पंप मुहैया नहीं करा पायी है. इधर, केंद्र सरकार की ओर से योजना पूरी करने के लिये 31 मार्च तक का समय निर्धारित किया गया है.

इसे भी पढ़ेःलालू के जेल मैनुअल उल्लंघन मामले पर सुनवाई स्थगित

जरेडा सूत्रों की मानें तो वीआरजी ग्रुप की ओर से योजना की परफार्मेंस रिपोर्ट नहीं दी जा रही है. केंद्र सरकार लगातार इसकी मानिटरिंग कर रही है. केंद्र सरकार की ओर से पिछले साल ही इन एजेंसियों को काम दिया गया है. एजेंसी की ओर से परफार्मेंस रिपोर्ट नहीं देने से जरेडा केंद्र को इसकी जानकारी नहीं दे पा रही है. बता दें इस एजेंसी को 1950 सोलर पंप सेट किसानों को देना है.
सोलेक्स ने दिया 160 लाभुकों को पंप: जरेडा की मानें तो सोलेक्स ग्रुप की ओर से 160 किसानों को पंप दिया गया है, जबकि एजेंसी को 4100 पंप सेट देना है. इस वजह से एजेंसी की कार्यप्रणाली को धीमी बतायी जा रही है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ेःजानिये रिलायंस इंडस्ट्रीज की निदेशक नीता अंबानी के लेटर में कर्मियों के लिए है क्या है राहत की खबर

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

बता दें पिछले साल मई से जरेडा अपने स्तर से एजेंसी का चयन कर योजना पूरी करना चाह रहा है. इसके लिये केंद्र सरकार से पत्राचार किया गया है. पिछले साल दिसंबर में केंद की ओर से 27 एजेंसियों का नाम जरेडा को प्रस्तावित किया गया था. जिसमें से सात एजेंसियों ने योजना कम दर पर करने की सहमति जतायी है.

कौन कौन सी एजेंसियां अब करेगी काम: फिलहाल जिन एजेंसियों ने योजना पूरी करने में रूचि दिखायी है उनमें टाटा सोलर पावर, सीआरआई पंप, पर्ल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, इलेक्ट्रॉमा एनर्जी शामिल हैं. वहीं, वीआरजी और सोलेक्स एजेंसी भी इस पर काम करेगी. योजना के तहत 30 फीसदी फंडिंग केंद्र सरकार करेगी.

कुसुम योजना के तहत राज्य में दस हजार सोलर पंप बांटे जाने हैं. सोलर पंप किसानों को दी जानी है. जिसमें से आठ हजार सोलर पंप सामान्य दर पर और दो हजार सोलर पंप सब्सिडी में दी जायेगी.

इसे भी पढ़ेःJharkhand Budget Session: कार्यवाही शुरू होते ही भाजपा विधायकों का हंगामा, सदन की कार्यवाही 12.30 तक स्थगित

Related Articles

Back to top button