Corona_UpdatesLead NewsNational

जिला प्रशासन का फरमान! 20 नवंबर तक नहीं ली वैक्सीन तो नहीं मिलेगा राशन और पेट्रोल

वैक्सीन नहीं लेनेवालों को पर्यटन स्थटलों पर भी प्रवेश नहीं मिल पाएगा

Mumbai : देश के कई जिलों में कोरोना रोधी वैक्सीन लेने वालों की संख्या कम है. इस स्थिति को सुधारने के लिए अलग-अलग तरह के उपाय अपना रहे हैं. इसी कड़ी में महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिला प्रशासन ने कोरोना वायरस की वैक्सीन नहीं लेने वालों के लिए जिला प्रशासन ने एक बेहद सख्त फरमान सुना दिया है.

जिला प्रशासन ने बुधवार को जिले की सभी राशन दुकानों, गैस एजेंसियों और पेट्रोल पंपों को केवल उन्हीं नागरिकों को ही सामान और ईंधन की आपूर्ति करने के लिए कहा हैं, जिन्होंने टीके की कम से कम एक खुराक ली हो. प्रशासन की ओर से जारी आदेश के अनुसार वैक्सीटन नहीं लगवाने वाले लोगों को जिले में पर्यटन स्थालों पर भी प्रवेश नहीं मिल पाएगा.

इसे भी पढ़ें : दृश्यम फिल्म की स्टाइल में DU के असिस्टेंट प्रोफेसर ने रची पत्नी की हत्या की साजिश, जानें कैसे हुआ खुलासा

ram janam hospital
Catalyst IAS

इस आदेश के मुताबिक वैक्सीन न लेने वालों को जला स्तर पर ट्रेवल प्रतिबंधों का भी सामना करना पड़ेगा. मिली जानकारी में मुताबिक कोरोना टीकाकरण की कम रफ्तार को देखते हुए मुख्यपमंत्री उद्धव ठाकरे की ओर से 20 नवंबर तक के लिए तय किए गए 100 फीसदी टीकाकरण के लक्ष्यर का पाने के मद्देनजर किया गया है. प्रशासनिक आदेश के मुताबिक सभी पर्यटन स्थ लों पर स्थित सभी होटलों, रिसॉर्ट, दुकानों में काम करने वाले लोगों के लिए टीका लगवाना आवश्य‍क किया गया है. यह आदेश जिले में 9 नवंबर से प्रभावी हो गया है.

The Royal’s
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें : Jharkhand: मुख्य सचिव ने स्थापना दिवस समारोह की तैयारियों पर मांगी रिपोर्ट

 

औरंगाबाद में टीकाकरण की रफ़्तार बेहद कम

जिले के अधिकारियों ने कहा कि राज्य के 36 जिलों में टीकाकरण के मामले में 26वें स्थान पर है. जिले में अब तक लगभग 55 प्रतिशत पात्र लोगों को टीका लगाया जा चुका है, जबकि राज्य में यह 74 प्रतिशत है. एक अधिकारी ने बताया कि मंगलवार रात जारी एक आदेश में औरंगाबाद के कलेक्टर सुनील चव्हाण ने उचित मूल्य की दुकानों, गैस एजेंसियों और पेट्रोल पंपों के अधिकारियों को ग्राहकों के टीकाकरण प्रमाण पत्र की जांच करने का निर्देश दिया.

इसे भी पढ़ें : इस साल भी टंडवा में एनटीपीसी पावर प्लांट शुरू होने के आसार नहीं

प्रधानमंत्री ने जरूरी कदम उठाने को कहा था

पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी जिला प्रशासन को कोरोना टीकाकरण के लिए जरूरी कदम उठाने के लिए कहा था. एक ओर जहां महाराष्ट्रा में टीकाकरण का औसत आंकड़ा 74 फीसदी है तो वहीं औरंगाबाद में टीका लगवाने के योग्यर लोगों में से सिर्फ 55 फीसदी लोगों ने ही वैक्सीतन की एक डोज लगवाई है. वहीं 23 फीसदी लोगों ने वैक्सी न की दोनों डोज लगवा ली है. त्योकहारी मौसम में कोरोना वायरस संक्रमण की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए टीकाकरण को गति देने का निर्णय लिया गया है.

इसे भी पढ़ें : कर्मियों की कमी से झारखंड में परिवहन का राजस्व दूसरे राज्यों से काफी कम

आदेश का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई

अधिकारियों ने कहा कि यदि आदेश का पालन नहीं किया जाता है, तो प्रशासन संबंधित व्यक्ति के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम और महामारी रोग अधिनियम के तहत कार्रवाई करेगा. कलेक्टर ने हाल ही में यह भी आदेश दिया था कि जिन लोगों ने COVID-19 वैक्सीन की एक भी खुराक नहीं ली है, उन्हें औरंगाबाद में ऐतिहासिक स्थलों और स्मारकों में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी, क्योंकि क्षेत्र में टीकाकरण की रफ्तार काफी धीमी थी.
प्रशासन के आदेश के मुताबिक 18 साल से अधिक उम्र के वैक्सीीन की पहली डोज नहीं लगवाने वाले लोगों और तय समय पर दूसरी डोज नहीं लगवाने वाले लोगों को पर्यटन स्थपलों पर प्रवेश की अनुमति नहीं मिलेगी. इनमें बीबी का मकबरा, अजंता, एलोरा गुफाएं और दौलताबाद किला समेत अन्यं पर्यटन स्थइल शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें : छठ महापर्व : मानगो में उमड़ी थी भीड़, आजादनगर थाना शांति समिति ने की मेडिकल हेल्प डेस्क व एंबुलेंस की व्यवस्था

रात 8 बजे तक लगेंगे टीका

एक अन्य अधिकारी ने कहा कि टीकाकरण अभियान को तेज करने के लिए औरंगाबाद जिला परिषद ने शाम को टीकाकरण के समय को आगे बढ़ाने का फैसला किया है. जिला परिषद के स्वास्थ्य अधिकारी सुधाकर शेकले ने पीटीआई को बताया, ‘कई लोग सुबह से शाम तक खेतों में काम करते हैं. इसलिए, उनके टीकाकरण की सुविधा के लिए, जिला परिषद जिले में शाम 5 बजे से रात 8 बजे तक टीकाकरण करेगी.’

इसे भी पढ़ें : जनजातीय गौरव दिवस के रूप में मनाई जाएगी भगवन बिरसा मुंडा की जयंती

Related Articles

Back to top button