न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विपक्षियों का एक ही मकसद मोदी की बुराई करना, नकारात्मक गठबंधन की जनता में अहमियत नहीं : जेटली 

अमेरिका में अपना इलाज करा रहे वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लोकसभा चुनाव को लेकर विपक्ष द्वारा बनाये जा रहे गठबंधन को निशाने पर लिया है.

25

NewDelhi : अमेरिका में अपना इलाज करा रहे वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लोकसभा चुनाव को लेकर विपक्ष द्वारा बनाये जा रहे गठबंधन को निशाने पर लिया है. अरुण जेटली ने कहा कि इन सभी पार्टियों का एक ही मकसद रह गया है पीएम मोदी की बुराई करना. इसके अलावा इन्हें और कुछ समझ नहीं आता है. इस क्रम में जेटली ने महागठबंधन के नेताओं को नकारात्मकता के नवाब भी करार दिया. बता दें कि वित्त मंत्री अरुण जेटली ने वीडियो लिंक के माध्यम से एक टीवी चैनल के कार्यक्रम में कहा कि राजनीतिक तौर पर सजग और आकांक्षी हमारा समाज इस गठबंधन को ज्यादा अहमियत नहीं देगा. उनका कहना था कि इस गठबंधन में सभी नेता नकारात्मकता के शिकार हैं. यही वजह है कि इनकी बातों को आम जनता गंभीरता से नहीं ले रही है और न ही आगे लेगी. जान लें कि अरुण जेटली इस समय अपने इलाज के लिए अमेरिका गये हुए हैं. उन्होंने मंगलवार को देश छोड़ने के बाद पहली बार किसी सार्वजनिक कार्यक्रम को संबोधित किया है.

विपक्षी नेता गठबंधन  बना चुनावों में जीत की उम्मीद रखने लगे हैं

बता दें कि हाल ही में तीन हिंदी भाषी राज्यों में भाजपा की हार के बाद कुछ विपक्षी नेता गठबंधन का विकल्प खड़ा कर चुनावों में जीत की उम्मीद रखने लगे हैं. वित्त मंत्री ने कहा कि महागठबंधन को आपस में जोड़े रखने के लिए उनके पास न तो वैचारिक समानता है, न ही देश को आगे बढ़ाने का साझा कार्यक्रम है और न ही उनके पास कोई एक सर्वमान्य नेता है.  वित्त मंत्री के अनुसार नेतृत्व, निर्णयात्मकता, प्रदर्शन और संभावना की भाजपा की क्षमता के जवाब  में विपक्ष द्वारा पेश किया जा रहा विकल्प अंकगणितीय है. राजनीति में अंकगणित से नहीं बल्कि गुणधर्म से सफलता मिलती है. अरुण जेटली ने कहा कि उनका आधार है कि उनकी राजनीति गुणवत्ता से नकारात्मक है, और उनकी नकारात्मकता है कि उन्हें एक व्यक्ति (मोदी) सत्ता से बाहर चाहिए.

hosp1

किसी एक व्यक्ति को बाहर करने की नकारात्मकता ने उन्हें एक साथ खड़ा कर दिया है. भाजपा नेता ने कहा कि चुनाव की तैयारी के दौरान राजनीतिक बहस के स्तर को ऊपर उठाने की जरूरत है. जेटली ने  इस बात पर भी जोर दिया कि नारेबाजी की ऐसी राजनीति से कोई भला नहीं होने वाला है जहां भावनात्मक बातें अच्छी नीतियों पर भारी पड़ जाती हैं.

इसे भी पढ़ें-  आज से शुरु होगा निर्माण तो 2025 तक बनकर तैयार होगा राम मंदिरः भैयाजी जोशी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: