न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नीति आयोग ने जारी की स्वास्थ्य की जिलावार रैंकिंग, लोहरदगा पहले और रांची दूसरे स्थान पर

चतरा सबसे निचले पायदान में, 27 सूचकांकों के आधार पर जारी की गयी रैंकिंग, एचएमआईएस और एनएफएचएस के आंकड़ों का उपयोग किया गया

78

Ranchi :  नीति आयोग की ओर से वित्तीय वर्ष 2018-19 की समेकित उपलब्धि पर राज्यवार स्वास्थ्य रैंकिंग जारी की गयी है. इस रैंकिंग में राज्य का लोहरदगा जिला पहले स्थान में है, दूसरा स्थान रांची जिले को दिया गया. वहीं तीसरा स्थान पूर्वी सिंहभूम को दिया गया. जिसमें एचएमआईएस और एनएफएचएस के डेटा का उपयोग किया गया. इस सूची में चतरा सबसे निचले पायदान में हैं.

भारत सरकार की ओर से निर्धारित स्वास्थ्य के 27 सूचकांकों के आधार पर जिलों की रैंकिंग की गयी है. जिसमें जिलों के वित्तीय वर्ष 2018-19 के उपलब्धि को भी ध्यान में रखा गया है. इस संबध में स्वास्थ्य विभाग की ओर से सभी जिलों के सिविल सर्जनों को पत्र जारी गया है, जिसमें सूचकांक की समीक्षा करते हुए आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है.

इसे भी पढ़ें – खूंटी लोकसभा: कमजोर संगठन, अराजक चुनाव प्रबंधन, संकुचित कैंपेन, उम्मीदवार की पहचान नहीं- बने कांग्रेस की हार के कारण

27 सूचकांक में गर्भवती महिलाओं पर फोकस

इस रैकिंग के लिए चयनित 27 सूचकांक में गर्भवती महिलाओं पर मुख्य फोकस रहा. जिसमें जांच के लिए पंजीकृत कुल गर्भवती महिलाओं में से जांच सुविधा पा रही गर्भवती महिलाओं का प्रतिशत,  हीमोग्लोबिन जांच के लिए गर्भवती महिलाओं का प्रतिशत, जन्म में लिंगानुपात, एसबीए के सहयोग से घर में होने वाले प्रसव का प्रतिशत, कम वजन वाले जन्मे बच्चों का प्रतिशत इत्यादि शामिल हैं.

हर माह जारी किया जायेगा सूचकांक

सभी सिविल सर्जनों को जिलों की प्रगति पर उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है. इस वित्तीय वर्ष से हर माह सूचकांक जारी किया जायेगा. साथ ही जिलास्तर पर प्रखंडवार सूचकांक तैयार करने का भी निर्देश सिविल सर्जनों को दिया गया है ताकि कम उपलब्धि वाले प्रखण्डों को विशेष रुप से चिन्हित कर उसमें सुधार किया जा सके.

जिलावार वार्षिक रैंकिंग में जिलों का स्थान

  1. लोहरदगा 2. रांची 3. पूर्वी सिंहभूम 4. बोकारो 5. पलामू 6. खूंटी 7. सिमडेगा 8. गोड्डा 9. लातेहार 10. सरायकेला खरसावां 11. देवघर 12. दुमका 13. हजारीबाग 14. गुमला 15. जामताड़ा 16. साहिबगंज 17. रामगढ़ 18. गढ़वा 19. गिरिडीह 20. कोडरमा 21. पाकुड़ 22. पश्चिमी सिंहभूम 23. धनबाद 24.चतरा.

इसे भी पढ़ें –  भाजपा के 116 नवनिर्वाचित सांसदों का है क्रिमिनल रिकॉर्ड, 265 हैं करोड़पति

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है. कारपोरेट तथा सत्ता संस्थान मजबूत होते जा रहे हैं. जनसरोकार के सवाल ओझल हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्तता खत्म सी हो गयी है. न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए आप सुधि पाठकों का सक्रिय सहभाग और सहयोग जरूरी है. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें मदद करेंगे यह भरोसा है. आप न्यूनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए का सहयोग दे सकते हैं. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता…

 नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक कर भेजें.
%d bloggers like this: