Corona_UpdatesMain Slider

वायनाड से सांसद और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का प्रधानमंत्री के नाम यह पत्र अवश्य पढ़ें:

कोरोना वायरस को लेकर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है. तीन पन्नों के पत्र में राहुल ने लॉकडाउन का समर्थन किया है. पत्र में उन्होंने मजदूरों के पलायन को लेकर चिंता जाहिर की है. राहुल ने कहा कि हम सभी इस संकट के समय वायरस के खिलाफ सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदम में सहयोग देने के लिए तैयार हैं.

उन्होंने कहा कि भारत की परिस्थिति अलग है. हमें दूसरे देशों की लॉकडाउन रणनीति से इतर कदम उठाने होंगे. राहुल ने कहा कि हमारे देश में दिहाड़ी पर काम करने वाले गरीब लोगों की संख्या ज्यादा है. इसलिए हम आर्थिक गतिविधियों को बंद नहीं कर सकते. पूरी तरह से आर्थिक बंदी के कारण कोविड-19 वायरस से होने वाली मृत्यु दर बढ़ जाएगी.

इसे भी पढ़ेंः #Lockdown:  600 से अधिक दाल-भात केंद्र हैं संचालित, अब सीएम कैंटीन योजना से भूखों को खिलायेगी सरकार – हेमंत सोरेन

advt

अचानक हुई देशबंदी से दहशत

गांधी ने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि वे ‘राष्ट्रव्यापी देशबंदी का हमारे लोगों, हमारे समाज और हमारी अर्थव्यवस्था पर पड़े संभावित प्रभाव’ पर दोबारा विचार करें. उन्होंने कहा कि ‘अचानक हुई देशबंदी से दहशत और भ्रम की स्थिति पैदा हो गई’ जिसके कारण बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर अपने घर वापस जाने की कोशिश कर रहे हैं.

राहुल ने पत्र में लिखा है कि हमारे यहां रोज की कमाई पर निर्भर रहने वाले गरीब लोगों की संख्या काफी ज्यादा है. इसलिए एकतरफा कार्रवाई करके सभी आर्थिक गतिविधियों को बंद नहीं कर सकते हैं. आर्थिक गतिविधियों को बंद कर देने से कोविड-19 की तबाही और बढ़ जाएगी.

सामाजिक सुरक्षा जाल को मजबूत करें

गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी से आग्रह किया कि वे सामाजिक सुरक्षा जाल को मजबूत करें और गरीब मजदूरों की मदद और उन्हें आश्रय देने के लिए सार्वजनिक संसाधनों का उपयोग करें. उन्होंने सरकार द्वारा घोषित किए गये वित्तीय पैकेज को एक अच्छा पहला कदम बताते हुए उसके जल्द से क्रियान्वयन का आह्वान किया.

उन्होंने वायरस के प्रभाव और आर्थिक बंदी से प्रमुख वित्तीय और रणनीतिक संस्थानों के आसपास रक्षात्मक दीवार स्थापित करने का सुझाव दिया.

adv

इसे भी पढ़ेंः #IndiaFightsCornona: पलामू में दूर होगी गेहूं की किल्लत, पंजाब से 42 वैगन में आया 26 हजार क्विंटल गेहूं

अचानक लॉकडाउन की घोषणा से दहशत और भ्रम की स्थिति

राहुल ने कहा कि हमारी प्राथमिकता बुजुर्गों और इस वायरस से ज्यादा खतरा झेल रहे कमजोर लोगों को बचाने और उन्हें आइसोलेट करने की होनी चाहिए. सरकार की तरफ से अचानक लॉकडाउन की घोषणा करने से दहशत और भ्रम की स्थिति पैदा हुई. हजारों प्रवासी मजदूर अपने किराए के घरों को छोड़ने को मजबूर हो गये हैं. क्योंकि अब वे किराया नहीं दे सकते.

इसलिए सरकार तुरंत कदम उठाए और उन्हें किराया देने के लिए रकम मुहैया कराए. लॉकडाउन की वजह से हजारों प्रवासी मजदूर पैदल अपने घरों की तरफ निकल पड़े हैं और अलग-अलग राज्यों की सीमाओं पर फंस गये हैं. हमें उनसे बात करके, उन्हें विश्वास में लेकर समय पर कदम उठाने की आवश्यकता है.

इसे भी पढ़ेंः कोरोना पर राहुल की चेतावनी का मजाक उड़ाने वाली मोदी सरकार अब दे जनता को जवाब  

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button