ChaibasaJamshedpurJharkhand

भवन प्रमंडल चाईबासा में दस प्रतिशत कमीशन वसूली करने का मामला मुख्य सचिव तक पहुंचा, हुई जांच कराने की मांग

Aman Verma

Chaibasa : झारखण्ड भ्रष्टाचार उन्मूलन समिति के प्रदेश अध्यक्ष गणेश प्रसाद यादव ने चाईबासा भवन प्रमंडल चाईबासा में दस प्रतिशत कमीशन वसूली करने का मामला राज्य के मुख्य सचिव तक पहुंचा. एक ही कनीय अभियंता को प्रमंडल के अधिकांश योजना को दिए जाने की जांच की मांग की है. मुख्य सचिव को दिए गए शिकायत पत्र में लिखा गया है कि भवन प्रमण्डल चाईबासा में निविदा आवंटन के नाम पर संवेदकों से 10 प्रतिशत राशि वसूली की जांच कराया जाय. इस संदर्भ में कहना है प. सिंहभूम जिला में भवन प्रमण्डल चाईबासा के द्वारा छः होस्टल रिपेयर का निविदा निकाला गया था, उक्त योजना डीएमएफटी फण्ड के अन्तर्गत जिला से स्वीकृति दी गई है. उक्त योजना की निवदा का निष्पादन में अनावश्यक रूप से अधीक्षण अभियंता भवन अंचल, राँची के द्वारा विलंब किया जा रहा है.

संवेदक सूत्रों के हवाले से ज्ञात हुआ है कि CS के नाम पर 10 प्रतिशत राशि की मांग की जा रही है, जो विकास हित में उचित नहीं है इस संबंध में राजनीतिक पार्टी के द्वारा भी कमीशन की बात कही गई है. भवन प्रमण्डल चाईबासा में व्यापक पैमाने पर भ्रष्टाचार किया जा रहा है. कमीशनखोरी चरम सीमा पर है. भवन प्रमण्डल चाईबासा में विगत पाँच वर्षो से मुकेश कुमार कार्यरत है. जो भ्रष्टाचार का केन्द्र बिन्दु बने हुए हैं. प्रमण्डल के अधिकांश योजना का कार्यादेश उक्त कनीय अभियंता को दे दिया गया है, जो नियमानुकूल नहीं है एवं जाँच का विषय है. अतः आपसे आग्रह है कि भवन प्रमण्डल चाईबासा में निविदा आवंटन के नाम पर कमीशन की मांग की जाँच कराने एवं मुकेश कुमार जो तत्काल हेतु आवश्यक आदेश संबंधित विभाग को देने की मांग भी किया है.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें – जमशेदपुर : कोवाली में बड़े पैमाने पर हो रही थी अफीम की खेती, पुलिस ने किया नष्ट

Related Articles

Back to top button