JharkhandLead NewsRanchi

कृषि उपकरण बैंक से मिले यंत्र हो रहे कबाड़, अब कृषि विभाग मैकेनिक करेगा तैयार

Ranchi: कृषि, पशुपालन विभाग, झारखंड की ओर से कृषि उपकरण बैंक के जरिये किसानों, एसएचजी और दूसरे सहायता समूहों को पिछले कई सालों से मदद दी जा रही है. इसके तहत इच्छुक लोगों को ट्रैक्टर, मिनी ट्रैक्टर, ट्रैक्टर चालित यंत्र, पावर टीलर, रीपर, पंप सेट, राईस हॉलर, कल्टीवेटर, डिक्स हैरो, सीड ड्रील कम फर्टिलाइजर और दूसरे उपकरण दिये जाते हैं. पर अब समस्या यह आ रही है कि इन उपकरणों में खराबी आ जाये तो ठीक होगा कैसे, करेगा कौन. मरम्मति के अभाव में ये बेकार पड़े रह जाते हैं.

मामूली खराबी पर भी ये कबाड़ हो जा रहे हैं. ऊपर से संकट यह हो गया है कि इन उपकरणों को बनाने वाली कंपनियां, निर्माता, आपूर्ति कर्ता मिस्त्री और मैकेनिक की उपलब्धता ब्लॉक और ग्राम स्तर पर मुहैया करा पाने में हाथ खड़े कर दे रही है. अब कृषि विभाग ने इस पर संज्ञान लिया है. हर जिले के लिये 1-1 टेक्निकल एक्सपर्ट को ट्रेनिंग देने के बाद सेवा लिये जाने का प्लान तय किया है.

ये भी पढ़े : पटना में सड़क हादसे में स्कूटी सवार युवक की मौत

Chanakya IAS
SIP abacus
Catalyst IAS

वारंटी अवधि में होने का भी लाभ नहीं

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali

कृषि विभाग भी मानता है कि कृषि उपकरणों की सप्लाई के बाद उसकी खराबी पर लाभुक को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. यहां तक कि वारंटी अवधि में भी मिनी ट्रैक्टर, पावर टीलर, रीपर, पंप सेट, राईस हॉलर और अन्य की जरूरी सर्विसिंग समय पर कराये जाने में समस्या बन गयी है. ऐसे में उन उपकरणों का लाभ उठा पाना लाभुकों के लिये मुश्किल साबित हो रहा है.

निदान के लिये यह होगी पहल

विभाग ने फैसला लिया है कि अब जेएएमटीटीसी, रांची (कृषि विभाग का अंग) के द्वारा 24 टेक्निकल एक्सपर्ट युवाओं को एक महीने की निःशुल्क ट्रेनिंग दी जायेगी. हर जिले से एक एक ऐसे युवक को लिया जायेगा जिन्होंने आईटीआई, पॉलिटेक्निक से फीटर, मैकेनिकल, इंजीनियरिंग ऑटोमोबाईल, कृषि इंजीनियरिंग या इसी तरह की टेक्निकल डिग्री ले रखी हो. चयनितों को काजू बगान, हेहल (रांची) स्थित जेएएमटीटीसी के कार्यालय में ट्रेनिंग दी जायेगी. उन्हें कृषि यंत्रों के विशेष मरम्मति, परिचालन एवं रख- रखाव की जानकारी इस दौरान दी जायेगी.

जो इस ट्रेनिंग के लिये इच्छा रखते हों, वे अपने जिला के भूमि संरक्षण पदाधिकारी, भूमि संरक्षण सर्वे पदाधिकारी, जिला कृषि पदाधिकारी या जिला उद्यान पदाधिकारी से अनुशंसा कराते सादे कागज अपर अपना आवेदन कांके स्थित कृषि भवन में कार्यपालक निदेशक (कृषि अभियंत्रण), जेएएमटीटीसी के पास डाक से भेजेंगे. ई-मेल edjamttc@gmail.com पर भी इसे भेजा सकता है. विशेष जानकारी के लिये मोबाइल नंबर 08252437870, 9144442809 से भी मदद ली जा सकती है.

ये भी पढ़े : Jharkhand: सब्सिडी पर खाद लेने वाले किसानों को भी दूसरी सरकारी योजनाओं का मिलेगा लाभ

Related Articles

Back to top button