GiridihJharkhandNEWS

निचली अदालतों को भी साइबर अपराधियों की बेल पर गंभीरता बरतने का है निर्देश : जस्टिस अनंत सिंह

Giridih : हाईकोर्ट के जस्टिस अनंत विजय सिंह ने बढ़ते साइबर अपराध पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि साइबर अपराध फैलने के बाद न्यायालय को इस मुद्दे पर गंभीर होना पड़ा. साइबर अपराध के शिंकजे से बैंक खाताधारकों को सुरक्षित व जागरूक करने को लेकर जिला विधिक सेवा प्राधिकार और न्यायिक एकाडेमी, रांची की ओर से शहर के नगर भवन में सेमिनार को संबोधित कर रहे थे.

जस्टिस सिंह ने यह भी कहा कि अगर साइबर क्राइम को लेकर पुलिस सही तरीके से कार्य नहीं करती, तो सवाल उठते. लेकिन सूबे के पुलिस विभाग ने साइबर अपराधियों से बचने के लिए ही हर जिले में साइबर सेल चालू कर दिया.

जस्टिस ने साइबर अपराध को गंभीर समस्या बताते हुए कहा कि अब निचले स्तर के कोर्ट को भी निर्देश दिया गया है कि साइबर क्राइम के मामले में पुलिस त्वरित अनुसंधान कर चार्जशीट देती है तो अपराधियों के जमानत पर गंभीरता से विचार करें.

advt

इसे भी पढ़ें : जमशेदपुर: मुख्यमंत्री रघुवर दास के ससुराल में लाखों की चोरी, पुलिस अब तक नहीं तलाश सकी है चोरों को

लोगों को जागरूक करना जरूरी

जिले में यह पहला मौका था, जब तेजी से बढ़ते साइबर अपराध से लोगों को जागरूक करने के लिए न्याय प्रणाली ने भव्य सेमिनार किया.

इसमें हाईकोर्ट के जस्टिस अनंत विजय सिंह,  न्यायिक एकाडेमी के निदेशक गौतम चैधरी, गिरिडीह प्रधान जिला एंव सत्र न्यायधीश राजेश कुमार वैश्य, पुलिस महानिरीक्षक नवीन सिंह के अलावा एसपी सुरेन्द्र झा समेत न्यायिक और पुलिस अधिकारियों के साथ अधिवक्ताओं व शहर के गणमान्य लोग शामिल हुए.

सेमिनार के दौरान न्यायिक एकाडेमी के निदेशक गौतम चौधरी ने कहा कि सबसे पहले इस अपराध को लेकर लोगों को जागरुक करने की जरूरत है. जानकारी के अभाव में ही लोग अज्ञात फोन करने वालों को ओटीपी नंबर के साथ पासवर्ड दे रहे हैं.

adv

इस बीच आइजी नवीन सिंह ने सेमिनार में प्रोजेक्टर के माध्यम से मौजूद लोगों को बताया कि अब साइबर क्राइम का स्वरूप एक जैसा नहीं रह गया है. ई-वॉयलेट और मनी ट्रांसर्फर के माध्यम से भी साइबर अपराध को अंजाम दिया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : बोकारो : तीन साल में बनना था ढाई किलोमीटर का ओवरब्रिज, साढ़े चार साल में भी अधूरा

हाइटेक हो चुका है अपराध, उसी तरीके से निपटने की कोशिश

एसपी सुरेन्द्र झा ने भी प्रोजेक्टर के जरिये साइबर क्राइम के कई पहलुओं पर चर्चा करते हुए कहा कि साइबर अपराध हाइटेक हो चुका है इसलिए गिरिडीह का साइबर सेल भी हाइटेक तरीके से ही हर केस का अनुसंधान करने में जुटा है. प्रधान जिला एंव सत्र न्यायधीश राजेश कुमार वैश्य ने भी संबोधित किया.

सेमिनार में कुंटुब न्यायाधीश सुरेश चन्द्र जायसवाल, प्रथम अपर जिला एवं सत्र न्यायधीश रामबाबू गुप्ता, एसडीपीओ जीतवाहन उरांव, विनोद महतो, नीरज सिंह, राजीव कुमार, डीएसपी नवीन सिंह, संतोष मिश्रा, अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष दुर्गा प्रसाद पांडेय, अधिवक्ता विशाल कुमार, सुबोनील सांमतो, चैंबर ऑफ कॉमर्स के पदाधिकारी संजय डंगाईच, दिनेश खेतान समेत काफी संख्या में न्यायिक पदाधिकारी, अधिवक्ता मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें : पलामू : बकोरिया में बच्ची की पटककर हत्या के मामले में CRPF व मनिका पुलिस पर FIR

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button