JharkhandLead NewsRanchi

अपनी मांगों को लेकर लोको पायलट की भूख हड़ताल, भूखे पेट रह कर चलायी ट्रेन

Ranchi : रांची रेल मंडल के ऑफिस के सामने ऑल इंडिया लोको रनिंग स्टाफ एसोसिएशन (एआइएलआरएसए) की केंद्रीय कार्यकारिणी के आह्वान पर एनडीए सीलिंग हटाने, रेलवे का निजीकरण बंद करने समेत कई मांगों को लेकर भूख हड़ताल की गयी. जिसमें मंडल के सदस्यों ने 12 घंटे की भूख हड़ताल की. इस दौरान ड्यूटी पर गये लोको पायलटों ने भी भूख हड़ताल का समर्थन किया और भूखे रह कर ट्रेन चलायी.

हड़ताल में मंडल सचिव सीएस कुमार, अध्यक्ष रामजीत, हटिया, मुरी, रांची मंडल के सचिव और संगठन पदाधिकारी में एके आर्या, एके पासवान, जेपी सिंह ठाकुर, सुभाष कुमार, शशि कुमार, प्रभात कुमार, नवीन कुमार, दिलीप कुमार, अनिल कुमार सिंह, अरुण कुमार, अजय कुमार समेत अन्य मौजूद रहे.

advt

इसे भी पढ़ें:ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक को दिल्ली HC से झटका, ED के समन पर रोक लगाने से इनकार

ये हैं एसोसिएशन की मांगें

  • रेलवे और सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों का निजीकरण बंद हो. 15 स्पोर्ट्स स्टेडियम आरएलडीए को न सौंपे.
    रात्रि डयूटी अलाउंस से सीलिंग लिमिट हटायें.
  • क्रू बीट के विस्तार के सभी आदेशों को रद्द करें. सुरक्षा निदेशालय के दिनांक 14.06.2021 के आदेशों का पालन करें. क्रैक माल के नाम पर मुख्यालय क्रू चेंजिंग स्टेशनों का बाय पासिंग बंद करे. नॉन स्टॉप माल गाड़ियों के चालक दल को 5 से 6 घंटे में राहत दें. वे बिना किसी आराम या विश्राम के अत्यधिक गहन प्रकृति का कार्य कर रहे हैं.
  • बिना रोगी उपचार के 77 डिवीजनल अस्पतालों / सब डिवीजनल अस्पतालों को बंद करना / अवक्रमित करना बंद करें.
  • मालगाड़ी ट्रैफिक के बढ़ोतरी के कारण 35 प्रतिशत अतिरिक्त एलपीजी पोस्ट स्वीकृत करें.
  • सभी रिक्तियों को भरें.
  • यात्री सेवाओं की बहाली होने की वजह से एएलपी प्रशिक्षण में तेजी लायें.
  • हाई पावर कमिटी की सिफारिश के अनुसार, रनिंग स्टाफ के डयूटी के घंटे घटा कर 8 घंटे किया जाये.
  • लाइन बॉक्स वापस लेना बंद करें.
  • रनिंग रूम की सुविधाओं में सुधार करें.

इसे भी पढ़ें:ICC Women’s Ranking: भारतीय कप्तान मिताली राज फिर से No.1 , स्मृति मंधाना और दीप्ति शर्मा को भी फायदा

  • कोविड-19 से मृत्यु में 50 लाख रुपये मुआवजे का भुगतान करें और कोविड पीड़ितों के बच्चों को पेंशन लाभ और अनुकंपा नियुक्तियों के भुगतान में तेजी लायें. 50,000,00 रुपये का बीमा कवरेज बढ़ाएं सुरक्षात्मक उपकरणों की मुफ्त आपूर्ति सुनिश्चित करें समस्त रनिंग स्टाफ को शीघ्र टीकाकृत करें. कोरोना वायरस की तीसरी लहर से लड़ने के लिए कोविड अस्पताल स्थापित करें.
  • ईओटीटी के साथ, बिना गार्ड, बिना ब्रेकवान, बिना बीपीसी आदि के साथ काम करने वाली असुरक्षित ट्रेन ऑपरेशन को बंद करें.
  • एचआरएमएस के परेशानी मुक्त होने तक पेपर पास बहाल करें ट्रेन में प्रवेश करने के लिए ई पास को यात्रा प्राधिकार के रूप में मानें.
  • एलपीपी के 30 प्रतिशत मीनपे के साथ रनिंग अलाउंस को संशोधित करें.

इसे भी पढ़ें:झांसा देकर कई वर्षों तक किया यौन शोषण, शादी से बचने के लिए दिया ज्योतिष कुंडली का हवाला, कोर्ट ने कहा- नहीं चलेगा ये बहाना

  • मेडिकली डीकैटेगराइज्ड रनिंग स्टाफ को अल्टरनेटिव पोस्ट पर अडाप्ट करते समय, प्रत्येक रनिंग पे स्कूल के लिए समतुल्य मान रनिंग में स्कूल निर्धारित करें, ताकि 7 CPC के पे-मैट्रिक्स के उच्च स्तर पर वेतन विसंगति/दिशाहीनता से बचा जा सके.
  • रनिंग अलाउंस रेट को रु 172 से बढ़ कर 530 रु हो जाने की वजह से इनकम टैक्स में रनिंग अलाउंस की छूट की सीमा 10000 से बढ़ा कर 32000 प्रति माह करें.
  • एनपीएस को खत्म करें और 01.01.2004 के बाद नियुक्त किये गये सभी कर्मचारियों को पुरानी पेंशन स्कीम में शामिल करें.

इसे भी पढ़ें:कांग्रेस ने मांगा OBC के लिए 27 फीसदी आरक्षण, राजभवन पर दिया धरना

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: