JharkhandLead NewsRanchi

सुरदा कॉपर माइंस में दो सालों से लटका है ताला, 28 मजदूरों ने तंगहाली में गंवायी जान, दीपिका पांडेय ने सीएम से की पहल की अपील

Ranchi: पूर्वी सिंहभूम स्थित हिन्दुस्तान कॉपर लिमिटेड की मुसाबनी स्थित सुरदा कॉपर माइंस 2 सालों से बंद पड़ी है. माइंस बंद होने से 1500 से अधिक मजदूरों की जिंदगी प्रभावित हुई है. स्थानीय स्तर पर 25 हजार की जनजातीय आबादी के सामने भी आर्थिक संकट और भुखमरी की स्थिति पैदा हो चुकी है. यहां तक पैसों की तंगी के कारण 28 मजदूरों को अपनी जान भी गंवानी पड़ी है.

Advt

इसे भी पढ़ें : SC-ST प्रमोशन मामलाः दीपक प्रकाश ने कहा- जनभावनाओं का ख्याल है तो सरकार से सपोर्ट वापस ले कांग्रेस

स्थानीय लोग जिला प्रशासन से लेकर अलग-अलग प्लेटफॉर्मों पर लगातार खदान खोले जाने के लिये गुहार लगा रहे हैं. अब इस मसले पर महागामा विधायक और सरकारी उपक्रमों संबंधी समिति सदस्य दीपिका पांडेय सिंह ने फिर से मोर्चा संभाला है. सीएम हेमंत सोरेन को पत्र लिखकर माइंस को खोले जाने की अपील की है. सुरदा कॉपर माइंस के लीज विस्तारीकरण और ताम्र कारखाना में उत्पादन प्रारंभ कराये जाने का अनुरोध किया है.

पहले भी सीएम से की गयी है फरियाद

सीएम को लिखे पत्र में दीपिका पांडेय ने कहा है कि 31 मार्च, 2020 को सुरदा कॉपर माइंस की लीज समाप्त हो गयी है. इससे स्थानीय समाज के सामने कठिन स्थिति पैदा हो गयी है. इसे देखते हुए उन्होंने पूर्व में भी सीएम को जानकारी दी थी. पर इस पर अब तक निर्णय नहीं लिया जा सका है. मजदूरों के हित और जनजातीय समाज को आर्थिक संकट से उबारने को सुरदा कॉपर माइंस का लीज विस्तारीकरण किया जाना चाहिये. इसके साथ ही ताम्र कारखाना से भी उत्पादन शुरु कराया जाना लाभकारी होगा.

इसे भी पढ़ें : Ranchi: बिरसा चौक-हरमू रोड से रातू रोड चौक तक बिजली के खंभों से केबल को आज से हटाएगा निगम

Advt

Related Articles

Back to top button