न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

साहिबगंज की जमीन थी रजिस्ट्री, साजिश कर इसे बनाया गया खासमहाल : अरविंद

307

Sahibganj : साहिबगंज जिला विकास समिति के तत्वावधान में साहिबगंज शहर से खासमहाल के उन्मूलन को लेकर चल रहे हस्ताक्षर अभियान का रविवार को समापन किया गया. इस कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे समिति के अध्यक्ष अरविंद कुमार गुप्ता ने कहा कि साहिबगंज शहर की जमीन को मनगढ़ंत खासमहाल से मुक्ति की मांग को लेकर रविवार को साहिबगंज के गांधी चौक पर हस्ताक्षर अभियान का समापन किया गया. इस अवसर पर अरविंद कुमार गुप्ता ने कहा कि साहिबगंज की जमीन रजिस्ट्री जमीन थी, परंतु एक साजिश के तहत इसे खासमहाल की जमीन बना दिया गया, जिसके कारण यहां के युवकों को बैंक से लोन मिलना बंद हो गया है. इसके कारण लोग बेरोजगार हो रहे हैं. हमारे पूर्वज यहां हजारों वर्षों से रह रहे हैं, परंतु वर्तमान सरकार हमें जबरन हमारी अपनी जमीन से बेदखल कर रही है, जो शहर की जनता के साथ घोर नाइंसाफी है.

इसे भी पढ़ें- बच्चों की देखरेख के नाम पर अनुदान राशि का मनचाहा उपयोग कर रहे एनजीओ, जांच में हुआ खुलासा

विधानसभा की दो जांच समितियों ने कहा- खासमहाल नहीं है साहिबगंज की जमीन

hosp3

साहिबगंज जिला विकास समिति के अध्यक्ष अरविंद कुमार गुप्ता ने कहा कि पूर्व में झारखंड विधानसभा की 2 दो-दो जांच समितियों ने, पहली जोबा मांझी की अध्यक्षतावाली समिति एवं दूसरी विशेश्वर खान की अध्यक्षतावाली समिति ने, स्पष्ट किया है कि साहिबगंज शहर की जमीन खासमहाल की जमीन नहीं है, परंतु वर्तमान सरकार इस पर अमल नहीं कर रही है, जो बिल्कुल खेद का विषय है. अगर झारखंड सरकार इसे पूर्व की तरह रजिस्ट्री जमीन घोषित नहीं करती है, तो साहिबगंज की जनता सड़क पर उतरेगी. इस कार्यक्रम का नेतृत्व कर रहे समिति के सचिव विनोद कुमार यादव ने कहा कि रविवार को हस्तक्षर अभियान का समापन किया गया है. प्रधानमंत्री को संबोधित हस्ताक्षरयुक्त इस बैनर को प्रधानमंत्री को रजिस्ट्री द्वारा भेजा जायेगा.  इस पर प्रधानमंत्री अविलंब निर्णय लें. पूर्व में सरकार ने साहिबगंज की जमीन के अधिग्रहण के बदले प्रभावित नागरिकों को मुआवजा भी प्रदान किया है, जो यह साबित करने के लिए काफी है कि साहिबगंज की जमीन रैयती जमीन है, लेकिन सरकार तानाशाही रवैया अपना रही है. अगर साहिबगंज को मनगढ़ंत खासमहाल से मुक्त नहीं किया गया, तो जोरदार आंदोलन किया जायेगा. ज्ञात हो कि साहेबगंज जिला प्रशासन ने इंजीनियरिंग कॉलेज के लिए 36 रैयतों को जमीन अधिग्रहण करने का नोटिस भेजकर आपत्ति दर्ज करने को कहा था, जिसकी तिथि 23-09-18 को ही समाप्त हो गयी. साहिबगंज का राजनीतिक मुद्दा रहा है खासमहाल. हर सासंद ने, हर विधायक ने खासमहाल संपत्ति के नाम पर जनता का वोट लिया है, लेकिन समाप्त तो छोड़ दीजिये, लोगो को नोटिस देकर जिला प्रशासन ने अपनी मंशा जाहिर कर दी है.

इसे भी पढ़ें- धनबाद नगर निगम क्षेत्र के पांच लाख लोग दादागिरी और पार्षद की उपेक्षा से नरक भोग रहे हैं

इन लोगों ने की शिरकत

इस हस्ताक्षर अभियान कार्यक्रम में रविवार को साहिबगंज के सैकड़ों लोग शामिल हुए. इनमें मुख्य रूप से साहिबगंज जिला विकास समिति के अध्यक्ष अरविंद कुमार गुप्ता के अलावा सचिव विनोद कुमार यादव, उपाध्यक्ष अनवर अली, मुरलीधर ठाकुर, जगत किशोर यादव, बसंत श्रीवास्तव, आनंद प्रसाद मोदी, नित्यानंद गुप्ता, उमा दुबे,  अभिकराम सिंह, प्रो. रघुनंदन राम, प्रो. रंजीत कुमार सिंह, ओम प्रकाश साह, हरेंद्र लाल, सुधांशु शेखर मिश्रा, अभिषेक एलेक्स मिश्रा, अजित कुमार गुप्ता, अरुण कुमार चौधरी, अर्पिता कुमारी एवं विजय कुमार झा शामिल थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: