JharkhandLead NewsRanchi

कांची नदी पर धंसे पुल के कारणों की जांच रिपोर्ट अब तक नहीं सौंपी गयी सरकार को

दोषियों पर जवाबदेही नहीं हो सकी तय

Ranchi : तमाड़ के कांची नदी पर पुल धंसने के कारणों की जांच रिपोर्ट अब तक सरकार को नहीं सौंपी गयी है. अभियंता प्रमुख पथ निर्माण विभाग की अध्यक्षता में गठित उच्चस्तरीय समिति ने मुश्किल से एक-दो बार ही स्थल पर जाकर निरीक्षण किया है. पुल धंसने का क्या कारण है इसकी छानबीन पूरी नहीं हो पायी है. ग्रामीण कार्य विभाग ने उच्चस्तरीय समिति से पूरे मामले में क्या जांच हुई इस पर रिपोर्ट मांगी है.

सूत्रों के अनुसार टीम अगले हफ्ते कांची नदी के पुल धंसने की जांच के लिए फिर से स्थल पर जायेगी. इसके बाद ही यह माना जा रहा है कि दिसंबर के अंत तक पूरी रिपोर्ट सरकार को सौंपी जायेगी.

इसे भी पढ़ें:एक हफ्ते में गिफ्ट डीड की जमीन से हटा लें कब्जा, रांची नगर निगम करेगा कार्रवाई

समिति पुल धंसने के कारणों की रिपोर्ट और इसके जिम्मेवार इंजीनियरों व ठेकेदार पर भी जवाबदेही अपनी रिपोर्ट में तय करने के लिए अनुशंसा करेगी.

बता दें कि कांची नदी में बना हाराडीह-बुढ़ाडीह पुल मई माह के अंत में गिर गया था. इसके बाद भी दो बार पुल का एक-एक स्लेब गिरा है.

इसे भी पढ़ें:9 दिसंबर को कंप्यूटर बेस्ड होगी झारखंड कंबाइंड परीक्षा

एक माह में ही सौंपी जानी थी रिपोर्ट

रांची के तमाड़ प्रखंड के हेट-बूढ़ाडीह से हराडीह-नवाडीह प्राचीन महामयी मंदिर को जोड़ने वाला पुल 13 करोड़ की लागत से बना था. तीन साल पहले ही इसका निर्माण ग्रामीण विकास विशेष प्रमंडल के जरिये कराया गया था लेकिन यास तूफान की वजह से कांची नदी में अचानक काफी पानी आने की वजह से पुल धंस गया.

पुल धंसने से इलाके लोगों के आवागमन में भी परेशानी हो गयी, उनका सीधा संपर्क मुख्य सड़क से कट गया है. आसपास के ग्रामीणों ने घटिया सामग्री के प्रयोग की शिकायत सरकार से की. गुणवत्ता पर सवाल उठाये गये.

इसे भी पढ़ें:100 करोड़ क्लब के साथ Suniel Shetty की धमाकेदार वापसी, ‘Marakkar’ का बॉक्स ऑफिस पर धमाका

इसके बाद मुख्यमंत्री के आदेश के बाद उच्चस्तरीय जांच समिति गठित की गयी जिसे एक माह के अंदर रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया. समिति ने नदी में अत्यधिक पानी होने की वजह से शुरुआत में ठीक से जांच नहीं की.

विभाग से पुल से जुड़े दस्तावेज भी काफी विलंब से समिति को उपलब्ध कराये गये. मिली जानकारी के अनुसार अब सरकार ने रिपोर्ट फिर से तलब की है. रिपोर्ट मिलते ही अग्रतर कार्रवाई की जायेगी.

इसे भी पढ़ें:ईशनिंदा के लिए पाकिस्तान में श्रीलंकाई नागरिक के हाथ-पैर तोड़कर जिंदा जला दिया

Advt

Related Articles

Back to top button