Crime NewsJharkhandRanchi

कुख्यात अपराधी अमरेन्द्र तिवारी की छपरा में गोली मार कर हत्या

Ranchi: रांची, बोकारो, हजारीबाग और रामगढ़ के कुख्यात अपराधी अमरेन्द्र तिवारी की बिहार के छपरा जिला के रसूलपुर थाना क्षेत्र के घुरापली गांव में एक बाइक पर सवार होकर आये दो अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी. अपराधी ने अमृत तिवारी की उस समय हत्या की जब वह घुरापली गांव स्थित अपने घर पर दाढ़ी बनवा रहे थे. इसी क्रम में अपराधियों ने अमृत तिवारी को गोली मार दी. सिर में गोली लगने की वजह से अमरेन्द्र तिवारी की मौके पर ही मौत हो गयी. अमरेंद्र तिवारी की हत्या की पुष्टि छपरा एसपी ने किया.

 भोला पांडेय हत्या कांड का मुख्य आरोपी था अमरेन्द्र तिवारी

छपरा में मारा गया कुख्यात अपराधी अमरेंद्र तिवारी वर्ष 2009 में भोला पांडेय हत्या कांड का मुख्य आरोपी था. अमरेन्द्र के खिलाफ हत्या, लूट, रंगदारी के दर्जनों मामले रामगढ़ के पतरातू, बरकाकाना, भुरकुंडा व अन्य थानों में दर्ज हैं. इसके अलावा झारखंड के अन्य जिलों जैसे हजारीबाग,  रांची,  बोकारो, धनबाद में भी उसका दहशत था. सुशील श्रीवास्तव के गैंग का अमरेन्द्र अहम सदस्य माना जाता था. मिली जानकारी अनुसार अमरेंद्र तिवारी पर रांची, बोकारो, हजारीबाग और रामगढ़ में 16 से अधिक आपराधिक मामले दर्ज हैं. वर्ष 2017 में वह जमानत पर जेल से बाहर आया था.

Catalyst IAS
SIP abacus

 बड़े व्यवसायियों से रंगदारी लेता था अमरेन्द्र तिवारी

MDLM
Sanjeevani

अपराधी अमरेन्द्र तिवारी सुशील श्रीवास्तव का मुख्य शूटर था. अमरेंद्र का मुख्य पेशा यूपी, बिहार, झारखंड एवं पश्चिम बंगाल में ठेकेदारों व बड़े व्यवसायियों से रंगदारी मांगना और रंगदारी नहीं देने पर उनकी हत्या करना था. रंगदारी नहीं देने पर उसने कई लोगो की हत्या की थी. अमरेन्द्र तिवारी मूल रूप से बिहार के छपरा जिला अंतर्गत रसूलपुर थाना क्षेत्र के घूरापाली गांव का रहने वाला था.

इन हत्याकांडों का मुख्य आरोपी था अमरेंद्र तिवारी

  • अमरेंद्र तिवारी ने वर्ष 2011 में बोकारो जिला बालीडीह थाना क्षेत्र के एक रेलवे ठेकेदार विनय मिश्र की गोली मारकर हत्या कर दी थी.
  •  2011 में बोकारो में ही एक अन्य रेलवे ठेकेदार पप्पू सिंह के घर बमबारी की घटना को अंजाम दिया था.
  • 2011 में अमरेंद्र ने अपने साथियों के साथ मिलकर पतरातू के टोकीसूद में जेवीके के अभियंता मनीष कुमार को गोली मारकर हत्या कर दी थी.
  •  2007 में रांची के अरगोड़ा क्षेत्र के कोयला व्यवसायी जावेद अख्तर की हत्या.
  • 2008 में भुरकुंडा में ठेकेदार गौतम सिंह की हत्या.
  • 2009 में बरकाकाना ओपी क्षेत्र में एमजीसीपीएल के रेलवे ठेकेदार की हत्या की थी.
  • 2009 में पूर्व भाजपा नगर अध्यक्ष बबलू सोनकर पर सरेशाम गोलीबारी करने के मामले में भी अमरेंद्र शामिल था.

इसे भी पढ़ेंः जेल से निकले पुराने अपराधी कर रहे हैं जमीन कारोबार, पिछले दो महीनों में राजधानी में जमीन को लेकर हो चुकी हैं छह हत्याएं

Related Articles

Back to top button