Jamshedpur

शहर समेत जिले भर में लूट की घटनाओं में बढ़ोतरी, हत्या का ग्राफ गिरा

Jamshedpur : शहर समेत जिले भर में पिछले साल के मुकाबले इस साल सितंबर महीने तक लूट की घटनाओं में भारी बढ़ोतरी हुई है. पिछले वर्ष यानि, 2020 में जिले भर में इस समयावधि में लूट की 41 घटनाएं घटी थी. वहीं इस साल 2021 में सितंबर महीने में लूट की कुल सौ घटनाएं घटी है. लूट की घटनाओं में यह बढ़ोतरी 143 फीसदी आंकी जा रही है. हालांकि जनवरी से सितंबर तक पिछले साल के मुकाबले इस साल हत्या का ग्राफ जरुर घटा है. वर्ष 2020 में सितम्बर तक 95 लोगों की हत्या हुई थी, जबकि वर्ष 2021 में सितंबर तक 75 लोगों की हत्या हुई थी. पिछले पूरे वर्ष में हत्या की बात करें तो यह आंकड़ा 115 था. इस लिहाज से पिछले साल के मुकाबले हत्या का ग्राफ 26.6 प्रतिशत घटा है. वैसे इस समय अवधि में कुल अपराध का ग्राफ बढ़ा ही है. पिछले वर्ष सितंबर तक 3 हजार 195 आपराधिक घटनाएं घटी थी. उसके मुकाबले इस साल सितंबर तक जिले भर में कुल 3 हजार 4सौ 2 आपराधिक घटनाएं घटी है. यानि, अपराध का यह ग्राफ पिछले साल की जनवरी से सितंबर के मुकाबले इस साल जनवरी से सितंबर तक 6.47 प्रतिशत बढ़ा है. यहां बता दें कि पिछले पूरे साल में कुल 4 हजार 2 सौ 72 आपराधिक घटनाएं घटी थी. इस बीच चोरी की घटनाओं में जिले में पिछले वर्ष के मुकाबले मामूली कमी आई है. वर्ष 2020 के सितंबर तक चोरी की 6 सौ 16 घटनाएं घटी थी, जबकि इस वर्ष सितंबर तक चोरी की 6 सौ 22 घटनाएं घटी है. पिछले साल जनवरी से दिसंबर तक चोरी की कुल घटनाएं 92 थी. हालांकि घरों में चोरी की घटनाएं बढ़ी हैं. वर्ष 2020 में सितम्बर तक 68 और पूरे वर्ष में 92 घरों में चोरी हुई थी. उसके मुकाबले इस वर्ष सितंबर तक 90 घरों में चोरियां हुई हैं. इस साल राहत की बात यह है कि दुष्कर्म के मामले 18.30 प्रतिशत घटे हैं. वर्ष 2021 में जनवरी से सितंबर तक दुष्कर्म के 71 मामले दर्ज किए गए हैं. उसके मुकाबले वर्ष 2020 में सितंबर तक दुष्कर्म के 84 और दिसंबर तक 103 मामले दर्ज किए गए थे. यह वास्तव में राहत देने वाली बात मानी जा रही है. रही बात लूट की घटनाओ में बढ़ोत्तरी की तो जमशेदपुर पुलिस इसकी वजह कुछ और बताई जा रही है. दरअसल पहले मोबाइल और पर्स छिनतई के घटनाओं को लेकर थाने में चोरी की प्राथमिकी दर्ज की जाती थी, लेकिन एसएसपी डॉ एम तमिल वाणन के पदभार संभालने के बाद इस तरह के मामलो में भी थाने में लूट का मामला दर्ज किया गया. ताकि अपराध करनेवाले को उचित सजा मिल सके. यह एक बड़ा कारण बताया जा रहा है लूट की घटनाओ मं बढ़ोत्तरी का. वहीं जिला पुलिस इस तरह का कई मामलों का खुलासा भी कर चुकी है. बाकि बचे मामलों के खुलासे की दिशा में भी पुलिस का कार्रवाई में जुटी है.

इसे भी पढ़ें- आधुनिक पावर में हादसा, अस्पताल में घायल ट्रक चालक को छोड़ कर भाग गया था सुरक्षाकर्मी, एंबुलेंस में हुई मौत

Related Articles

Back to top button