न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अंडर ग्राउंड केबलिंग की मार : सप्लाई पाइप फटने से हाहाकार, BSNL का तार कटने से तीन हजार कनेक्शन लौटाये गये

जिले में इन दिनों तापमान के लगातार बढ़ने से पेयजल के लिए हाहाकार मचा हुआ है. हर ओर पानी की किल्लत हो गयी है.

90

Dilip  Kumar

Palamu : जिले में इन दिनों तापमान के लगातार बढ़ने से पेयजल के लिए हाहाकार मचा हुआ है. हर ओर पानी की किल्लत हो गयी है. लेकिन जिला मुख्यालय मेदिनीनगर में बिजली के लिए बिछाए जा रहे अंडर ग्राउंड केबलिंग के लिए जो ड्रिल किए गये हैं, उससे सप्लाई वाटर का पाइप फट गया है. सप्लाई का पानी गड्ढों में बहकर बर्बाद हो रहा है. इससे शहर के कई क्षेत्रों में जलापूर्ति ठप पड़ गयी है.

सड़क पर मलबों का ढेर, चलना मुश्किल

बिजली के हाइटेंशन तारों को अंडरग्राउंड करने के कारण जहां-तहां सड़कों को तोड़ दिया गया है. इससे शहर की सूरत तो बिगड़ ही गयी है और लोगों की परेशानियां भी बढ़ गई हैं. पीएचइडी की सप्लाई पाइप और बीएसएनएल के टेलीफोन केबुल को भारी नुकसान पहुंचा है. लगातार फट रहे पाइपों के कारण जहां इस भीषण गर्मी में पेयजल का संकट गहरा जा रहा है, वहीं टेलीफोन लाइनों के ठप रहने के कारण उपभोक्ताओं का बीएसएनएल की सेवा से मोह भंग होने लगा है.

इसे भी पढ़ें- alexa.com रैंकिंग में newswing.com को हिन्दी न्यूज पोर्टल श्रेणी में देश में 21वां रैंक

ड्रिल करने से केबुल और पाइप को पहुंचता है नुकसान

बिजली के 11 हजार वोल्ट के तारों के अंडरग्राउंड हो जाने से भविष्य में रामनवमी और मुहर्रम के दौरान पावर कट की समस्या से निजात तो मिलेगी. लेकिन वर्तमान में अंडरग्राउंड वर्क की वजह से  पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के साथ भारत संचार निगम लिमिटेड को भारी नुकसान पहुंच रहा है.

अबतक लाखों रूपये के नुकसान सामने आ चुके हैं. अंडरग्राउंड केबलिंग के दौरान ड्रिल करने से जहां बीएसएनएल के तार कटकर बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो जा रहे हैं, वहीं पीएचइडी की सप्लाई पाइप फट जा रही हैं.

इसे भी पढ़ें – सीएनटी ही नहीं आर्मी की जमीन पर भी माफिया ने कर लिया कब्जा और देखता रहा प्रशासन-1

कई इलाकों में पेयजलापूर्ति पर असर

सप्लाई पाइप के फट जाने से शहर के कई इलाकों में आठ से दस दिनों तक जलापूर्ति प्रभावित हो रही है. फटे पाइपों से अनावश्यक पानी बहकर बर्बाद हो जा रहा है. दो-तीन दिन पहले स्टेशन रोड में भी इसी तरह की घटना सामने आयी, जिससे शहर के आधा दर्जन पॉश इलाकों में जलापूर्ति नहीं हो सकी.

पीएचइडी के पास इन पाइपों की मरम्मत कराने के फंड नहीं होते, नतीजा मामला ठंडे बस्ते में लंबे समय तक पड़ रह जाता है. बीएसएनएल के साथ भी कुछ इसी तरह की समस्या उत्पन्न हो रही है. सैकड़ों टेलीफोन डेड हो जा रहे हैं. इस डिजिटल भारत के सपने को करार झटका लगता दिख रहा है.

इसे भी पढ़ें – डीजीपी की पत्नी ने ली जमीन तो खुल गया टीओपी और ट्रैफिक पोस्ट, हो रहा पुलिस के नाम व साइन बोर्ड का इस्तेमाल

30 से 40 साल पहले लगे हैं बीएसएनएल के केबल

विभाग के कर्मियों के अनुसार, मेदिनीनगर शहर में 30-40 साल पहले अंडरग्राउंड टेलीफोन के केबल बिछाए गए थे. लेकिन वर्तमान में शहर के करीब-करीब इलाकों में पक्की सड़कें बन गयी हैं. ऐसे में ड्रिल के बाद फॉल्ट होने पर तकनीकी खराबी ढूंढ पाने में कर्मियों के पसीने छूट जाते हैं.

बीएसएनएल में कर्मियों का घोर अभाव है.  ठेकेदार के साथ काम करने वाले कर्मियों के भरोसे ही अब बीएसएनएल की सेवा रह गयी है. जिन्हें आठ-नौ महीने के बाद ही एक-दो महीने का पेमेंट हो पाता है. ऐसे में काम के लिए भी कर्मी टालमटोल करते रहते हैं.

तालमेल का घोर अभाव

अंडरग्राउंड केबल बिछा रही विद्युत विभाग की कंपनी का बीएसएनएल और पीएचइडी के कर्मियों के साथ तालमेल का घोर अभाव है. बीएसएनएल के कर्मियों का आरोप है कि केबल बिछा रही कंपनी सड़क में ड्रिल करने से पहले उनसे संपर्क नहीं करती. जबकि पीएचइडी के पदाधिकारियों ने भी केबल बिछाने वाली कंपनी के प्रति लापरवाही बरतने का आरोप लगाया.

आम लोग भुगतते हैं खामियाजा

बीएसएनएल द्वारा जब विद्युत विभाग के पदाधिकारियों से इस संबंध में संपर्क किया जाता है तो वे भी कंपनी के ठेकेदार की मनमानी की बात कहते हैं. विद्युत विभाग के पदाधिकारी यह कहकर मामले को टाल देते हैं कि केबल बिछा रही कंपनी के कर्मी उनकी नहीं सुनते.

अबतक तीन हजार टेलीफोन कनेक्शन हुए वापस

शहर में अंडरग्राउंड केबल बिछाने का काम पिछले दो वर्षों से चल रहा है. ऐसे में आरोप है कि जहां-तहां और जैसे-तैसे ड्रिल किए जाने के कारण बीएसएनएल के केबल कटते गए. नतीजा इन वर्षों के दौरान अबतक 3 हजार टेलीफोन कनेक्शन उपभोक्ताओं ने वापस कर दिए हैं. इससे बीएसएनएल को भारी राजस्व का नुकसान हुआ है.

इसे भी पढ़ें – जमीन दलाल की फॉर्चूनर, पूर्व ट्रैफिक SP संजय रंजन, सिमडेगा SP और पूर्व DGP डीके पांडेय का क्या है कनेक्शन !

ठेकेदार की लापरवाही से हो रही समस्या : परशुराम ओझा

बिजली और पानी की आपूर्ति को लेकर हमेशा संघर्ष करने वाले भाजपा नेता परशुराम ओझा ने कहा कि ठेकेदार की लापरवाही के कारण ऐसी समस्या हर दिन आ रही है. कई बार जिला प्रशासन और नगर निगम को जानकारी दी गयी. लेकिन फिर भी लापरवाही के कारण अक्सर शहर के किसी न किसी स्थान पर सप्लाई का पाइप कट रहा है और हजारों गैलन पानी बर्बाद हो रहा है. हालांकि कई जगहों पर उन्होंने मरम्मत करायी है, जिससे लोगों को थोड़ा बहुत पानी मिल पा रहा है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है. कारपोरेट तथा सत्ता संस्थान मजबूत होते जा रहे हैं. जनसरोकार के सवाल ओझल हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्तता खत्म सी हो गयी है. न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए आप सुधि पाठकों का सक्रिय सहभाग और सहयोग जरूरी है. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें मदद करेंगे यह भरोसा है. आप न्यूनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए का सहयोग दे सकते हैं. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता…

 नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक कर भेजें.
%d bloggers like this: