न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबाद रेलवे जंक्शन पर फहराया राज्य का सबसे ऊंचा तिरंगा

100 फीट ऊंचा, 30 फीट लंबा और 20 फीट चौड़ा है

1,831

Dhanbad: धनबाद के माथे पर आज एक और गौरव का ताज लगाया गया है. वह है धनबाद जंक्शन परिसर में फहराया गया पूर्व मध्य रेलवे जोन का पहला और सबसे ऊंचा तिरंगा झंडा. वर्तमान में यह झारखंड का सबसे ऊंचा तिरंगा झंडा है. यह तिरंगा 100 फीट ऊंचा, 30 फीट लंबा और 20 फीट चौड़ा है. इसे धनबाद के सांसद पशुपतिनाथ सिंह ने दोपहर एक बजे फहराया. इस अवसर पर श्री सिंह ने कहा कि इससे राष्ट्रीय एकता की भावना जागती है. देश के नागरिकों में राष्ट्रवाद की भावना आये उसके लिये यह झंडा निश्चित रूप से प्रतिक के रूप में है. जब भी लोग इस तिरंगा झंडा को देखेंगे वो राष्ट्रवाद की भावना और आपसी भाईचारा और एकता के लिए संकल्पित होंगे. इस दृष्टि से धनबाद और पूर्व मध्य रेलवे ने बहुत अच्छा प्रयास किया है.

आम नागरिकों के जागरूक होने से स्वच्छ होगा धनबाद 

सांसद ने धनबाद के नागरिकों को स्वच्छता का संदेश देते हुए कहा कि वह अपने आसपास के क्षेत्र को साफ रखें. कूडा-कचड़ा जहां-तहां सड़क या रास्ते पर ना फेंके. धनबाद को स्वच्छ्ता के मामले में नंबर वन बनाने की जिम्मेदारी सिर्फ नगर निगम की नहीं बल्कि नागरिकों की भी है. बिना जनता के जागरूक हुए और सहयोग के कोई भी सरकार किसी भी योजना को पूरा नहीं कर सकती.

देश के 75 सबसे व्यस्तम ए-1 स्टेशनों में फहराया जाना है झंडा 

बताते चलें कि भारतीय रेलवे ने देश के 75 सबसे व्यस्तम ए-1 स्टेशनों के परिसर में 2018 के अंत तक 100 फीट ऊंचा राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा लगाने का फैसला लिया था. तिरंगा को जंक्शन के बाहरी परिसर में स्थापित किया गया है. इसी कड़ी में 12 जनवरी को दरभंगा में भी ध्वजारोहण किया जायेगा. तिरंगा झंडा लगाने के लिए ईसीआर के छह ए वन कैटेगरी के स्टेशनों में धनबाद, पटना, गया, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, एवं पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन का चयन किया गया है. इन स्टेशनों के सर्कुलेटिंग एरिया में दिसंबर 2018 तक सौ फीट ऊंचा राष्ट्रीय ध्वज लगा दिया जाना था. इसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी रेलवे सुरक्षा बल को है.

बिजली की भी की गयी है उपयुक्त व्यवस्था

धनबाद में लगाये गये झंडे का स्टैंड स्टील का है. जबकि रात को दूर से ही दिखने और रोशनी से जगमगाने के लिए बिजली की भी उपयुक्त व्यवस्था की गयी. बगल में स्थित फाउंटेन (फव्वारे) को भी लगाया गया है. जिससे यह और भी आकर्षक हो गया है. झंडा को पोलिस्टर कपड़ा से दिल्ली के कलाकारों ने करीने से तैयार किया है.इसका वजन 13 से 15 किलोग्राम है.

झंडा हमारे अंदर देश प्रेम को दर्शाता है 

इस अवसर पर धनबाद के मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल ने कहा कि यह झंडा हमारे अंदर देश प्रेम को दर्शाता है. आज यह झंडा पूरी दुनिया में लहराया जाता है. डीआरएम और रेलवे की पूरी टीम को इस अच्छी पहल के लिये धन्यवाद देता हूं. डीआरएम से यह पूछने पर कि कहीं रांची के पहाड़ी माता स्थित 150 फीट ऊंची तिरंगा झंडे की तरह इसे भी तो रखरखाव के अभाव नहीं उतार दिया जायेगा ना. इसका जवाब में कहा कि यह हमारा रेलवे का बटालियन है इसके रखरखाव में कोई कमी नहीं रहेगी. यह झंडा 24 घंटे 365 दिन ऐसे ही लहराता रहेगा. यहां आनेवाले यात्रियों में राष्ट्र प्रेम की भावना को जगाता रहेगा.

राष्ट्रगान से हुई कार्यक्रम की शुरुआत 

कार्यक्रम की शुरुआत ध्वजारोहण के समय जन गण मन राष्ट्रगान के साथ हुई. मौके रेलवे के स्काऊट और गाइड के लोगों ने झंडे को सलामी दी और स्काऊट प्रदर्शन किया. इस अवसर पर अपर मंडल रेल प्रबंधक अशोक कुमार, वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक आशीष कुमार, वरिष्ठ मंडल वित्त प्रबंधक कुमार उदय, भाजपा के हरिप्रकाश लाटा, मिल्टन पार्थ सारथी आदि मौजूद थे.

इसे भी पढ़ेंः रोजगार मेला में आये युवा दिखे निराश, कहा- 10-12 हजार रुपये में दिल्ली, बेंगलुरु, हैदराबाद में कैसे करेंगे नौकरी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: